माताओं और शिशुओं की मौतों की संख्या कम करने के हषर्वर्धन ने बताए मुख्य उपाय

By: | Last Updated: Thursday, 26 June 2014 5:20 AM

नई दिल्ली: शिशुओं और माताओं की रोकी जा सकने वाली मौत की घटनाओं को वर्ष 2035 तक खत्म करने के लक्ष्य को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हषर्वर्धन ने पहुंच के भीतर बताया है और इस लक्ष्य को जल्दी प्राप्त करने के लिए छह प्रमुख उपायों को रेखांकित किया है.

 

इन उपायों में विश्वास की ताकत, साझेदारी, साक्ष्य, संवाद, लैंगिक समानता और स्वास्थ्य वित्त और संगठन में अप्रयुक्त ताकत शामिल है.

 

एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के दौरान अपने संबोधन में हषर्वर्धन ने वैश्विक नेताओं से ‘बालिका शिक्षा’ में निवेश की अपात जरूरत के लिए अपील की ताकि बच्चों और माताओं की रोकी जा सकने वाली मौतों के लक्ष्य को हासिल किया जा सके.

 

‘‘एक्टिंग ऑन द कॉल: एंडिंग प्रिवेंटेबल चाइल्ड एंड मैटरनल डेथ्स’’ पर आयोजित सम्मेलन में उन्होंने जोर दिया कि निवेशों और विकास के लाभ हर मां और बच्चे तक पहुंचाना तथा आने वाली पीढ़ियों के लिए एक बेहतर भविष्य का निर्माण एक साझी जिम्मेदारी है.

 

हषर्वर्धन ने कहा, ‘‘इस बात के साक्ष्य हैं कि दुनिया भर में समानता पर आधारित प्रयासों के जरिए बच्चों और माताओं की रोकी जा सकने वाली मौतों को वर्ष 2035 तक खत्म करने का लक्ष्य हमारी पहुंच के भीतर है.’’ इस एक दिवसीय समारोह का आयोजन यूएसएआईडी, भारत और इथियोपिया ने मेलिंडा एंड गेट्स फाउंडेशन के साथ मिलकर किया था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘अब तक, हम उन निवेशों के बारे में भी आश्वस्त हैं, जो वर्ष 2020 तक 1.5 करोड़ बच्चों और लगभग 6 लाख माताओं की जिंदगियां बचाने के लिए देशों द्वारा किए जाने जरूरी है.’’ हषर्वर्धन ने कहा कि बच्चों और माताओं की रोकी जा सकने वाली मौतों को खत्म करने की दिशा में भारत अपने देश में और वैश्विक स्तर पर एक नेतृत्वकर्ता के रूप में काम करने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि सरकारों का मजबूत नजरिया और नेतृत्व इन रोकी जा सकने वाली मौतों को खत्म करने के लिए पहले से ही मौजूद बल को गति देने में महत्वपूर्ण योगदान कर सकता है.

 

विश्वभर के देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों और नेताओं की मौजूदगी वाली इस बैठक को संबोधित करते हुए हषर्वर्धन ने कहा, ‘‘स्वास्थ्य मंत्रियों के तौर पर, हमें अपने देश लौटकर एक तय तारीख तक हमारी प्रगति की संपूर्ण समीक्षा करनी चाहिए, अगले उपायों की पहचान करनी चाहिए और इस प्रयास को अगले स्तर तक ले जाने के लिए जो भी जरूरी हो, वह करना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि पारदर्शिता और आपसी जवाबदेही देश के नेतृत्व में, समावेशी, पारदर्शी और भागीदारी वाली निरीक्षण प्रक्रियाओं की मदद से हासिल की जा सकती है.

 

वैश्विक स्वास्थ्य नेताओं की ओर से वर्धन ने उन छह मुख्य कार्यों का भी प्रस्ताव रखा, जो प्रयासों को गति देने में उनकी मदद करेंगे. हषर्वर्धन ने कहा, ‘‘पहला है विश्वास की ताकत’’. इसे बताते हुए उन्होंने देश से पोलियो उन्मूलन का लक्ष्य तय करने के अपने अनुभव के बारे में भी बताया.

 

उन्होंने कहा, ‘‘विश्वास की उस ताकत को कम करके मत आंकिए, जो कहती है कि हम माताओं और बच्चों की रोकी जा सकने वाली मौतों को भी खत्म कर सकते हैं. अब यह काम करने का समय है.’’ हमारे पास जरूरी उपकरण और हस्तक्षेप के माध्यम हैं.

 

उन्होंने कहा कि सबसे पहले इस विश्वास की जरूरत है कि हम ऐसी मौतों को सिर्फ कम ही नहीं बल्कि खत्म भी कर सकते हैं.

 

उन्होंने कहा कि हमें ऐसा नेतृत्व देना चाहिए, जो दूसरे नेताओं, लाखों स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं, पुरूषों, महिलाओं, युवाओं और बच्चों के दिल-दिमाग में यह नजरिया स्थापित करे . हमारे विश्वास के जरिए व्यापक प्रतिबद्धता को गति मिलेगी जिससे कार्यशीलता को भी गति मिलेगी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: माताओं और शिशुओं की मौतों की संख्या कम करने के हषर्वर्धन ने बताए मुख्य उपाय
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी
RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी

आरएसएस की देशभक्ति पर कड़ा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस संगठन ने तब तक तिरंगे को नहीं...

चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’, भारत को फिर धमकी दी
चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’, भारत को फिर धमकी दी

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. चीन ने अब भारत के खिलाफ खूनी...

सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले- घोटाले से बचने के लिए BJP की शरण में गए
सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले- घोटाले से बचने के लिए BJP की शरण में गए

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा
यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा

बहराइच: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. इस बीच बहराइच में...

बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगा आयकर
बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल...

नई दिल्ली:  लालू परिवार के लिए मुश्किलें बढ़ाने वाली है. एबीपी न्यूज को जानकारी मिली है कि...

अनुप्रिया की पार्टी अपना दल की मंडल अध्यक्ष संतोषी वर्मा और उनके पति की हत्या
अनुप्रिया की पार्टी अपना दल की मंडल अध्यक्ष संतोषी वर्मा और उनके पति की...

इलाहाबाद: उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की...

गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर सतीश, डॉक्टर राजीव ठहरा गए जिम्मेदार
गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर सतीश, डॉक्टर राजीव ठहरा गए...

गोरखपुर: बीते हफ्ते गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से हुई 36 बच्चों की मौत के मामले...

अगर हम सड़कों पर नमाज़ नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी भी नहीं रोक सकते: CM योगी
अगर हम सड़कों पर नमाज़ नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी भी नहीं रोक...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धार्मिक स्थलों और कांवड़ यात्रा के दौरान...

बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली: तंत्र साधना के लिए 2 साल के बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट...

जब बेंगलुरू में इंदिरा कैन्टीन की जगह राहुल गांधी बोल गए ‘अम्मा कैन्टीन’
जब बेंगलुरू में इंदिरा कैन्टीन की जगह राहुल गांधी बोल गए ‘अम्मा कैन्टीन’

बेंगलूरू: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक सरकार की सस्ती खानपान सुविधा का उद्घाटन...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017