मिलिए! देश के पहले मतदाता श्याम शरण नेगी से

मिलिए! देश के पहले मतदाता श्याम शरण नेगी से

By: | Updated: 07 May 2014 01:47 AM

नई दिल्ली: देश के पहले मतदाता श्याम शरण नेगी एक बार फिर 2014 के लोकसभा चुनाव में वोट डालने के लिए तैयार हैं. 97 साल के नेगी आज मंडी लोकसभा सीट के लिए कल्पा में वोट डालेंगे.

 

 

श्याम शरण नेगी के चेहरे की इन झुर्रियों में भारतीय लोकतंत्र के हर पड़ाव को आप पढ़ सकते हैं. आजाद भारत के पहले मतदाता का खिताब हासिल करने वाले श्याम शरण नेगी को आज भी 25 अक्तूबर 1951 का वो दिन याद है जब उन्होंने देश की पहली लोकसभा के लिए वोट डाला था.

 

 

हिमाचल के किन्नौर जिले के रहने वाले श्याम शरण नेगी ने भारी बर्फ के बीच अपने गांव के स्कूल में स्थापित किए गए मतदान केंद्र में पहली बार अपना मत डाला था. तब से लेकर नेगी अब तक कुल 28 बार मतदान कर चुके हैं. 16 बार लोकसभा के लिए और 12 बार विधानसभा के लिए.

 

देश में पहली लोकसभा के लिए सन् 1952 की जनवरी-फरवरी में चुनाव कराए जाने का फैसला लिया गया था. जनवरी-फरवरी में क्योंकि किन्नौर में भारी बर्फबारी होने का खतरा बना रहता है इसलिए यह तय किया गया कि यहां चुनाव सर्दियां शुरू होने से पहले ही करा लिए जाएं. इसके लिए 25 अक्तूबर की तिथि तय की गई. हालांकि उस साल अक्तूबर में भी किन्नौर में बर्फबारी हुई लेकिन इसके बावजूद मतदान कराने के सारे इंतजाम करा लिए गए.

 

 

किन्नौर जिले का पहला मतदान केंद्र लगभग 10 हजार फुट की ऊंचाई वाले चीनी गांव में स्थापित किया गया. मतदान शुरू हुआ तो श्याम शरण नेगी कतार में सबसे पहले लगे थे. उन्होंने यहां अपना पहला वोट डाला और उसी के साथ उनका नाम इतिहास में लोकतांत्रिक भारत के पहले मतदाता के रूप में दर्ज हो गया. पेशे से स्कूल अध्यापक रहे श्याम शरण नेगी 1975 में रिटायर होने तक स्कूल में बच्चों को भी वोट की ताकत के बारे में हमेशा समझाते रहे और आज भी वो यही समझाते हैं.