मुंबई बंद को लेकर फेसबुक विवाद: कब क्या हुआ

मुंबई बंद को लेकर फेसबुक विवाद: कब क्या हुआ

By: | Updated: 20 Nov 2012 01:24 AM


नई
दिल्ली:
मुंबई से सटे ठाणे
के पालघर इलाके में रहने वाली
शाहीन ढाढा ने पहले फेसबुक पर
मुंबई बंद को लेकर एक स्टेटस
पोस्ट किया और उसकी दोस्त
रिनी श्रीनिवासन ने इसे लाइक
किया और यहीं से बवाल की
शुरुआत हुई.




ये बवाल इतना बढ़ा कि अब
केजरीवाल से लेकर कपिल
सिब्बल और जस्टिस काटजू तक ने
इसमें बयान दिए हैं.




18 नवंबर 2012, शाम सात बजे शाहीन
ने फेसबुक पर पोस्ट किया
कि,"रोज हजारों लोगों की मौत
होती है लेकिन दुनिया ऐसे ही
चलती रहती है. जब एक राजनेता
की मौत होती है, वो भी
स्वभाविक मौत, सभी लोग उसके
दीवाने हो जाते हैं. क्या
किसी को याद है कि भगत सिंह,
चंद्रशेखर आजाद, सुखदेव या उन
लोगों की मौत पर दो मिनट का भी
मौन रखा गया जिनकी वजह से हम
आज आजाद हैं. सम्मान कमाया
जाता है, लिया नहीं जाता...वो
भी किसी जबर्दस्ती से."

18
नवंबर 2012, शाम सवा सात बजे
शिवसैनिकों ने लड़की के अंकल
से उसके पोस्ट की शिकायत की.

18
नवंबर 2012, शाम 7.20 बजे शाहीन ने
विवादित पोस्ट हटाया और माफी
मांगी. उसने लिखा कि,"मैं अपनी
पिछली पोस्ट के लिए दुखी हूं.
मुझे इस पोस्ट के लिए खेद है.
वो वाकई महान शख्स थे. मुझे और
मेरे परिवार को इस गलती के
लिए दुख है. मेरी माफी कुबूल
करें और प्लीज़ अपनी बहन
समझकर माफ कर दें."

18 नवंबर
2012, शाम 7.20 पर ही शिवसैनिक,
शाहीन के खिलाफ केस दर्ज
कराने के लिए पालघर थाने
पहुंचे.

18 नवंबर 2012, रात 9.30
बजे भीड़ ने लड़की के चाचा के
अस्पताल में तोड़फोड़ की,
ऑपरेशन थियेटर भी तोड़ा.

18
नवंबर 2012, रात 10 बजे शाहीन और
उसकी दोस्त को थाने में
पूछताछ के लिए बुलाया गया.

18
नवंबर 2012, रात साढ़े 10 बजे
लड़की और उसकी दोस्त को
गिरफ्तार कर लिया गया.

19
नवंबर 2012, दोपहर 2.30 बजे लड़की
और उसकी दोस्त को पालघर कोर्ट
ले जाया गया जहां से उनको 15-15
हजार के बॉन्ड्स पर जमानत दी
गई जहां से वे परिजनों ने
उनको अज्ञात जगह पर भेज दिया.


19 नवंबर 2012, शाम पांच बजे
शाहीन और उसकी दोस्त के घर
सुरक्षा बढ़ा दी गई.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बजट से बड़ी उम्मीद: कम हो सकती है पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी, तेल मंत्रालय कर रहा विचार-सूत्र