मुजफ्फरनगर दंगा और लश्कर: राहुल गांधी पर आजम ने साधा निशाना, कहा- युवराज को सच साबित करने के लिए ये हो सकता है!

By: | Last Updated: Tuesday, 7 January 2014 11:39 AM

नई दिल्ली. मुजफ्फरनगर दंगा के प्रभावितों को अपने संगठन में भर्ती करने के लिए लश्कर ए तैयबा द्वारा उनसे संपर्क करने की खबरों पर कांग्रेस ने आज कहा कि इससे राहुल गांधी का यह बयान सही साबित हुआ कि पाकिस्तानी की खुफिया एजेंसी आईएसआई दंगा पीड़ितों को लालच दे रही थी जबकि भाजपा ने सरकार से ‘लश्कर अभियान’ के तथ्यों पर स्पष्टीकरण मांगा है. तो उधर सपा नेता आजम खां ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर ही निशाना साधा है. आजम खां ने कहा है कि ये तो होना ही था. क्योंकि राहुल गांधी ने पहले ही कहा था. उन्होंने कहा था कि उनके संपर्क में हैं. राहुल पर निशाना साधते हुए आजम ने कहा कि युवराज की बात को सच साबित करने के लिए भी यह हो सकता है.

 

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा है कि इस खबर से पिछले साल अक्तूबर में एक चुनावी रैली दंगाप्रभावितों पर राहुल गांधी के बयान की पुष्टि हुई जिस पर विपक्षी दल भड़क गए थे.

 

सिंह ने कहा, ‘‘यदि यह सूचना सही है कि लश्कर के कुछ लोग शरणार्थियों को लुभाने के लिए राहत शिविरों में गए थे तब राहुल गांधी ने जो कुछ कहा था, वह सही साबित होती है. ’’ मीडिया में खबर आयी है कि लश्कर ए तैयबा के साथ कथित संपर्क को लेकर पिछले महीने गिरफ्तार किए गए हरियाणा के दो मौलवी और एक अन्य लश्कर आतंकवादी मुजफ्फरनगर के राहत शिविरों में गए थे और उन्होंने लोगों को अपने संगठन में भर्ती करने की कोशिश की थी.

 

भाजपा पर निशाना साधते हुए केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कहा, ‘‘जो लोग ध्रुवीकरण की राजनीति में यकीन करते हैं, जो लोग सांप्रदायिकता की राजनीति में विश्वास करते हैं, उन्हें उस नुकसान का अहसास करना चाहिए जो वे ‘भारत के विचार’ को पहुंचाते हैं. ’’ हालांकि भाजपा ने मांग की है कि गृहमंत्री तथ्यों पर स्पष्टीकरण दें. उसने वर्तमान स्थिति को ‘अस्वीकार्य’ करार दिया है.

 

पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने कहा, ‘‘इससे पता चलता है कि पाकिस्तान से समर्थन एवं वित्तपोषण पाने वाले लश्कर ए तैयबा और अन्य आतंकवादी संगठनों का अच्छा खासा नेटवर्क उत्तर प्रदेश में है….सरकार अपने आप क्या कार्रवाई की है. यह एक राष्ट्रीय मुद्दा है. कोई पकड़ा नहीं गया, किसी का पता नहीं चला. यह अस्वीकार्य है.’’ उन्होंने कहा कि अब उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र को जवाब देना चाहिए.

 

भाजपा ने केंद्र से जानना चाहा है कि राहुल गांधी द्वारा इस बारे में बयान देने के बाद उसने अपने आप क्या कदम उठाया .

 

सपा नेता नरेश अग्रवाल ने कहा कि मुजफ्फरनगर कई राजनीतिक दलों के लिए ‘राजनीतिक प्यादा’ बन गया है, लेकिन उन्हें तथ्यों की जानकारी नहीं है.

 

उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस को जो कुछ करना चाहिए, वह करे, लेकिन इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.

 

कांग्रेस प्रवक्ता शकील अहमद ने कहा कि आतंकवादी संगठनों के ऐसे प्रयास कोई नयी बात नहीं है. उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘भारत में जब कभी सांप्रदायिक समस्या खड़ी होती है तो पाकिस्तान की आईएसआई और भारत के भाजपाई खुशियां मनाते हैं. आईएसआई भारत के मुसलमानों को मदद पहुंचाने के नाम पर मुस्लिम देशों से धन चाहती है. सो उनको धन मिलता है. जब कहीं सांप्रदायिक समस्या खड़ी होती है, भाजपा को वोट मिलता है.’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि जहां तक इस देश में सांप्रदायिक दंगे फैलाने की बात है तो आईएसआई और भाजपा एक ही सिक्के के दो पहलू हैं.

 

उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर दंगा प्रभावितों पर राहुल गांधी के बयान की आलोचना हुई लेकिन वह सच बयान था.

 

भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा कि पूरे मामले की गहनता से जांच की जानी चाहिए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: मुजफ्फरनगर दंगा और लश्कर: राहुल गांधी पर आजम ने साधा निशाना, कहा- युवराज को सच साबित करने के लिए ये हो सकता है!
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017