मोदी की पत्नी को यकीन, मोदी कभी उन्हें अपने पास नहीं बुलाएंगे

मोदी की पत्नी को यकीन, मोदी कभी उन्हें अपने पास नहीं बुलाएंगे

By: | Updated: 10 Apr 2014 01:25 AM

नई दिल्ली: बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की 'पत्नी' जसोबेन अब 62 साल की हो चुकी है. उन्होंने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि मोदी एक दिन प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे.

 



जसोबेन रिटायर्ड स्कूल टीचर है और इनकी शादी नरेंद्र मोदी से उस समय हुई थी जब वह 17  साल की थीं. लेकिन शादी के 3 साल बाद ही दोनों अलग हो गए. जसोबेने अपने भाई के साथ रहती है और उन्हें 14 हजार रूपये पेंशन मिलता है. इनका ज्यादा समय प्रार्थऩा करने में गुजर जाता है.

 

जसोबेन का कहना है कि जब वह 17 साल की थी उनकी शादी हो गई और उनकी पढ़ाई छूट गई. लेकिन मोदी ने उन्हें अपनी शिक्षा को पूरी करने को कहा. मोदी हमेशा उनसे पढ़ाई पूरी करने के बारे में ही बात करते थे. जेसोबने ने यह भी बताया कि वह ज्यादातर उनसे एजुकेशन को लेकर ही बात करते थे यहां तक कि किचन में भी.

 

मोदी से उनके रिश्ते के बारे में पूछने पर जेसोबने ने बताया, "हम कभी एक दूसरे के टच में नहीं थे. जब हम अलग हुए हमारे बीच कोई लड़ाई नहीं थी हमारे रिश्ते अच्छे थे. मैं उन बातों को इग्नोर करती हूं जो सही नहीं होती हैं. तीन सालों में हम कभी तीन महीने भी एक साथ नहीं रहे होंगे. तब से लेकर आज तक हमारे बीच कोई बातचीत नहीं रही होगी.'

 

क्या आप नरेंद्र मोदी की खबरें सुनती हैं? इस बात पर जेसोबने का कहना है, 'हां, मैं सब कुछ पढ़ती हूं. मैं सभी अखबारों के आर्टिकल पढ़ती हूं और टीवी पर भी मोदी की सभी खबरें देखना पसंद करती हूं.'

 

अगर मोदी प्रधानमंत्री बनते हैं और दिल्ली आकर आपको वापस बुलाने के लिए फोन करते हैं तो क्या उनके साथ दुबारा वापस जाना पसंद करेंगी? आप उनसे मिलेंगी?

इस सवाल पर जेसोबने का कहना है, 'मैं उनसे मिलने कभी नहीं जाउँगी. हम कभी भी एक दूसरे के टच में नहीं थे. मुझे नहीं लगता वह (मोदी) मुझे कभी फोन करेंगे. मैं उन्हें कभी भी नुकसान नहीं पहुंचाना चाहती हूं. मैं प्रार्थऩा करती हूं कि वह लगातार प्रोगेस करें. मुझे पता है कि मोदी एक दिन प्रधानमंत्री जरूर करेंगे.'

 

क्या मोदी ने कभी आपको बताया था कि वह आपको छोड़ रहे हैं या शादी को तोड़ रहे हैं?

जसोबेन- एक बार उन्होंने मुझसे कहा था कि मैं पूरी दुनिया में घूमता रहता हूं और जहां भी जरूरत पड़ेगी जाऊंगा. क्या तुम मेरे पीछे पीछे आओगी? जब मैं उनके परिवार के साथ रहने के लिए वादनगर आई तो उन्होंने कहा कि तुम अपने सास ससुर के घऱ में रहने क्यों आई हो जब तुम इतनी यंग हो. तुम्हें अपनी शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

 

उनसे अलग होने का मेरा खुद का निर्णय था और हमारे बीच कभी कोई विवाद नहीं था. उन्होंने मुझसे कभी आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) या फिर राजनीतिक करियर के बारे में बात नहीं की. जब मोदी ने मुझसे कहा था कि वह दुनिया घूमते रहते हैं जैसा कि वह चाहते हैं मैंने उनसे कहा था कि मैं भी उनके साथ काम करना पसंद करूंगी. जब भी मैं किसी मौके पर अपने सास-ससुर के घर जाती थी तो मोदी वहां पर नहीं होते थे और धीरे-धीरे उन्होंने घर आना भी बंद कर दिया. वह आरएसएस के लोगों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय व्यतीत करना पसंद करते थे.  इसलिए मैंने भी  वहां जाना बंद कर दिया. एक समय बाद मैं अपने पिता के घर वापस आ गई.

 

सवालः क्या आप अब भी कानूनी रूप से मोदी की पत्नी हैं?

जसोबेन- जब कभी लोग उनका नाम लेते हैं, मेरा जिक्र कहीं न कहीं जरूर आता है, भले बैकग्राउंड में आए. क्या आप मुझसे इतनी दूर मुझे तलाश करते हुए, इंटरव्यू लेने यहां तक नहीं आए हैं? अगर मैं उनकी पत्‍नी न होती, तो क्या आप मुझसे बात करने यहां आते?

 

पिता के घर लौटने के बाद आपने खुद को कैसे संभाला?

जसोबेन- मेरे सास-ससुर अच्छा व्यवहार करते थे, लेकिन शादी के बारे में कभी बात नहीं करते थे. जब मैं दो साल की थी, तो अपनी मां को खो दिया था. जब मैंने दोबारा पढ़ाई शुरू की, तो दो साल बाद पिता चल बसे. साल 1974 में मैंने एसएससी की. इसके बाद 1976 में टीचर ट्रेनिंग पूरी हुई और 1978 में मैं टीचर बन गई.

 

रिटायरमेंट के बाद दिन कैसे गुजारती हैं?

जसोबेन- मुझे पढ़ाना अच्छा लगता है और मैंने पहली से पांचवी क्लास में अध्यापन किया है. मेरे दिन की शुरुआत सुबह 4 बजे होती है और पूजा से शुरुआत करती हूं. मैं अपना सारा वक्‍त पूजा-पाठ में गुजारती हूं. मैं ज्यादातर वक्‍त अपने बड़े भाई अशोक मोदी के साथ गुजारती हूं लेकिन साथ ही जब मन करता है तो अपने दूसरे भाई के यहां भी चली जाती हूं. मुझे लगता है कि जिंदगी में मुझे भाई बहुत ‌अच्छे मिले, जिन्होंने मेरा पूरा ध्यान रखा.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story एबीपी न्यूज़ पर दिन भर की बड़ी खबरें