मोदी की विजय का साइड इफेक्ट, नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा

मोदी की विजय का साइड इफेक्ट, नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा

By: | Updated: 17 May 2014 10:57 AM

पटना/ नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों में बिहार में सत्ताधारी जेडीयू को मिली करारी हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

 

नीतीश कुमार ने राजभवन जाकर राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा. लेकिन नीतीश कुमार से स्पष्ट किया कि मैंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश नहीं किया हूं.

 

नीतीश कुमार ने कहा कि चुनाव परिणाम की जिम्मेदारी मैं लेता हूं. इस पूरे चुनाव में नीतियों की चर्चा कम थी. इस चुनाव में आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला. चुनाव में मुद्दों की चर्चा ही नहीं हुई. मुद्दों के आधार पर मैंने समर्थन मांगा. नतीजे हमारे पक्ष में नहीं आए इसलिए मैं नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे रहा हूं.

 

हमने मर्यादा बनाए रखी. हम हार पर विश्लेषण करेंगे. बीजेपी को स्पष्ट बहुमत मिला है.

 

मैंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश नहीं की है. वैकल्पिक सरकार बनाने का रास्ता खुला है. निर्णय को सही या गलत नतीजों के आधार पर नहीं तय किया जा सकता है. हमने बीजेपी से अलग होने का सही निर्णय किया.

 

हमने बीजेपी से विश्वासघात नहीं किया. हमने इस चुनाव में जैसा प्रचार हुआ कभी नहीं देखा है.

 

कल विधायक दल का बैठक होगा और नेता चुना जाएगा.

 

नीतीश कुमार ने अपने ऑफिशियल फेसबुक पर अपने इस्तीफे पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि वह जनमत का सम्मान करते हैं. जय बिहार, जय भारत.

 

 

 

 

 

आपको बता दें कि बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं लोकसभा चुनाव में जेडीयू महज़ दो ही सीटों पर ही जीत पाई. 

 

बिहार का गणित

 

आपको बता दें कि बिहार में विधानसभा की 243 सीटें हैं और बहुमत के लिए 122 सीटों की जरूत पड़ती है. नीतीश की पार्टी जेडीयू के पास 113 विधायक हैं, लेकिन उनके कई विधायक बाग़ी हो चले हैं.

 

नीतीश की गठबंधन सरकार कांग्रेस के 4 विधायकों और 6  निर्दलीय विधायकों के सहारे टिकी थी. अब नीतीश ने अपनी मजबूरी और राजनीतिक रणनीति के तहत अपना इस्तीफा सौंपा है.

 

पहले से ही नीतीश के कई विधायक बाग़ी हैं और आशंका जताई जा रही थी कि जेडीयू में टूट हो सकती है.

 

नीतीश की दूसरी सबसे बड़ी मजबूरी यह थी कि जिस कांग्रेस के सहारे उनकी सरकार चल रही थी उस कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में आरजेडी के गठबंधन से चुनाव लड़ा है. 

 

बिहार बीजेपी के नेता सुशील कुमार मोदी ने लोकसभा चुनाव के दौरान ही दावा किया था कि जेडीय़ू के 50 विधायक बीजेपी से हाथ मिलाने को तैयार हैं.

 

आपको बता दें कि आज सुबह ही एलजेपी के नेता रामविलास पासवान ने कहा था कि अक्टूबर तक बिहार सरकार चली जाएगी और एनडीए की सरकार बनेगी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद