यौन शोषण के आरोपों से घिरे सुप्रीम कोर्ट के एक और पूर्व जज, लॉ इंटर्न ने कहा-उन्होंने अपना दाहिना हाथ मेरे ऊपर रख दिया और मेरे बाएं कंधे को चूमा

By: | Last Updated: Saturday, 11 January 2014 5:17 AM

नई दिल्ली. एक महिला इंटर्न ने उच्चतम न्यायालय के एक और पूर्व न्यायाधीश पर यौन उत्पीडन का आरोप लगाया जिससे नया विवाद पैदा हो गया है. पीड़ित ने शीर्ष अदालत द्वारा पूर्व न्यायाधीश के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

 

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक पीड़ित लड़की ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल के अध्यक्ष और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस स्वतंत्र कुमार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. पीड़ित लड़की ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश से इसकी शिकायत की है. जस्टिस स्वतंत्र कुमार ने आरोपों से इनकार किया है.

 

उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश के बारे में बताया कि वह फिलहाल एक न्यायाधिकरण के प्रमुख हैं. यौन उत्पीडन की यह कथित घटना मई 2011 में उनके कार्यालय में उस समय हुई जब वह उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश थे.

 

इस पूर्व न्यायाधीश की कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी क्योंकि बताया गया कि वह अपने आवास पर नहीं हैं.

 

अतिरिक्त सालिसिटर जनरल इंदिरा जयसिंह ने न्यायाधीश के नाम की पुष्टि की और कहा कि उसने (इंटर्न) मुझमें विश्वास जताया है. उसने मुझसे साझा किया. मैं (न्यायाधीश के नाम के बारे में) पुष्टि कर सकती हूं. इसलिए मैं पुष्टि कर सकती हूं कि उसका नाम हलफनामे में लिया गया है.

 

उन्होंने कहा कि जहां तक आरोपों की सच्चाई की बात है, यह फैसला उच्चतम न्यायालय को करना है, मुझे नहीं.

 

वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने कहा कि उन्होंने इंटर्न की शिकायत देखी है और उनका मानना है कि यह शिकायत ‘बहुत परेशान करने वाली’ है क्योंकि यह एक न्यायाधीश के सेवानिवृत्ति से पहले के दिनों के चरित्र से जुड़ा है.

 

मई 2011 में इस न्यायाधीश के साथ आधिकारिक रूप से इंटर्नशिप करने वाली महिला ने हाल में उच्चतम न्यायालय में हलफनामे के साथ एक शिकायत दायर करके उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी.

 

हालांकि न्यायालय ने न्यायमूर्ति एके गांगुली के मामले में पांच दिसंबर 2013 के प्रस्ताव का हवाला देते हुए इस विषय पर गौर करने से इंकार कर दिया था. न्यायाधीशों की बैठक में स्पष्ट किया गया था कि इस न्यायालय के पूर्व न्यायाधीशों के खिलाफ पेश आवेदन उच्चतम न्यायालय के प्रशासन द्वारा स्वीकार्य योग्य नहीं हैं.

 

न्यायालय के सूत्रों ने पुष्टि की कि इंटर्न से कहा गया है कि न्यायाधीशों की बैठक में हुए फैसले को देखते हुए उसके आवेदन को स्वीकार नहीं किया जा सकता और उसे कानून के तहत उचित उपचार हासिल करने की पूरी आजादी है. खबरों में कहा गया कि पहली पीड़ित की तरह यह इंटर्न भी कोलकाता के पश्चिम बंगाल न्यायिक विज्ञान राष्ट्रीय विश्वविद्यालय की पूर्व छात्रा है. कहा जा रहा है कि अब वह उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों द्वारा बैठक में किये गये फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती देने पर विचार कर रही है.

 

उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एके गांगुली के खिलाफ इसी तरह के एक मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर अभियान का नेतृत्व करने वाली अतिरिक्त सालिसिटर जनरल इंदिरा जयसिंह दूसरी इंटर्न के भी समर्थन में सामने आई हैं।

 

उन्होंने पीटीआई से कहा कि मेरा स्पष्ट मत है कि कार्रवाई होनी चाहिए और आरोपी तत्कालीन न्यायाधीश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय द्वारा जांच की जानी चाहिए.

 

 

आपबीती

इंडियन एक्सप्रेस ने जस्टिस स्वतंत्र कुमार पर यौन शोषण का आरोप लगानेवाली लॉ इंटर्न की तरफ से दिए हलफनामे के कुछ हिस्से भी छापे हैं. इंडियन एक्सप्रेस में हलफनामे का जो हिस्सा छपा है, उसके मुताबिक शिकायत करने वाली लड़की ने कहा है,

 

 

एक बार मैं जस्टिस कुमार के दफ्तर के बाहर निकल रही थी. मैं जस्टिस कुमार के कमरे से बाहर निकली तो पीछे से आकर उन्होंने मेरे शरीर पर हाथ रख दिया. 28 मई 2011 की बात है. काम में मुझसे कुछ गलती हो गई थी. मुझे लगा कि गलती के लिए मुझे जस्टिस कुमार से माफी मांगनी चाहिए, जब मैं उनके दफ्तर पहुंची तो जस्टिस कुमार अपने कमरे में अकेले बैठे थे.

 

जब मैं अपनी गलती के लिए उनसे माफी मांगी तो उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं. जस्टिस कुमार ने मुझे अपने डेस्क के पास बुलाया. जब मैं उनके पास गई तो उन्होंने अपना दाहिना हाथ मेरे ऊपर रख दिया और मेरे बाएं कंधे को चूमा. मुझे बड़ा सदमा लगा. मैं तेजी से जस्टिस कुमार के कमरे से बाहर निकल गई.

 

शिकायत करने वाली लॉ इंटर्न के मुताबिक जस्टिस स्वतंत्र कुमार के इस बर्ताव की वजह से उसने इंटर्नशिप छोड़ दी और कोलकाता वापस लौट आई.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: यौन शोषण के आरोपों से घिरे सुप्रीम कोर्ट के एक और पूर्व जज, लॉ इंटर्न ने कहा-उन्होंने अपना दाहिना हाथ मेरे ऊपर रख दिया और मेरे बाएं कंधे को चूमा
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र
यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गुरुवार को 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र दिया गया. इसके बाद 5...

सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की मंजूरी
सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की...

नई दिल्ली: रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को एक बड़ा फैसला लिया. मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए...

क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?
क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?

नई दिल्लीः सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक विदेशी महिला की चर्चा चल रही है.  वायरल वीडियों...

भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश
भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश

पटना/भागलपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भागलपुर जिला में सरकारी खाते से पैसे की अवैध...

हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम: पाकिस्तान
हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम:...

इस्लामाबाद: आतंकी सैयद सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल आतंकी घोषित करने के बाद अमेरिका ने कश्मीर में...

डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट फाड़े
डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट...

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी जगजाहिर है. इस बीच उत्तराखंड के बाराहोती...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017