लगातार दिल्ली की ओर कदम बढ़ा रहे हैं सत्याग्रही

लगातार दिल्ली की ओर कदम बढ़ा रहे हैं सत्याग्रही

By: | Updated: 04 Oct 2012 09:33 AM


मुरैना:
जल, जंगल और जमीन की लड़ाई की
खातिर निकले सत्याग्रहियों
के कदम दिल्ली की ओर बढ़ते जा
रहे हैं. दूसरे दिन मुरैना के
बानमौर से पदयात्रा शुरु कर
नूरावाद तक का रास्ता तय किया
गया.

एकता परिषद की
अगुवाई में बुधवार को
ग्वालियर से शुरूहुए
जनसत्याग्रह में 50 हजार से
ज्यादा लोग चल रहे हैं. यह
संख्या दिल्ली तक पहुंचते
पहुंचते एक लाख के आसपास
पहुंच जाने की संभावना जताई
जा रही है.

इस सत्याग्रह
का नेतृत्व कर रहे पी. वी.
राजगोपाल का कहना है कि भूमि
सुधार के मुद्दे पर संघर्ष और
संवाद दोनों साथ-साथ चलते
रहेंगे. उन्हें उम्मीद है कि
सरकार उनकी मांगों को
गंभीरता से लेगी.
जनसत्याग्रह की पदयात्रा
कुल 350 किलोमीटर की है. यह
यात्रा राजस्थान के धौलपुर,
उत्तर प्रदेश के आगरा, मथुरा
होती हुई 28 अक्टूबर को दिल्ली
पहुंचेगी.

ज्ञात हो कि
सत्याग्रह शुरू होने से पहले
केंद्र सरकार के दो
प्रतिनिधियों केंद्रीय
मंत्री जयराम रमेश व
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने
सत्याग्रहियों से चर्चा की
थी, मगर सत्याग्रही सरकार के
आश्वासन से सहमत नहीं थे और
उन्होंने दिल्ली कूच का अपना
फैसला बरकरार रखा और वे आगे
चल पड़े.

जनसत्याग्रह 2012
की मुख्य मांग राष्ट्रीय
समग्र भूमि सुधार कानून की
है. साथ ही देश के हर नागरिक को
आवास लायक भूमि, वनवासी
क्षेत्र के लिए लागू वन
अधिकार कानून, महिलाओं को
कृषक का दर्जा देने, भूमि को
जीवन जीने के साधन के रूप में
विकसित करने की भी उनकी मांग
है.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ED ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम से 11 घंटे तक की पूछताछ