श्रद्धांजलि विवाद में केजरीवाल मुश्किल में, आरटीआई कार्यकर्ता जयसुख बामनिया करेंगे पुलिस से शिकायत

By: | Last Updated: Tuesday, 11 March 2014 4:42 AM

नई दिल्ली: गुजरात दौरे के दौरान अहमदाबाद में 8 मार्च को आरटीआई कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि देना अरविंद केजरीवाल को भारी पड़ सकता है. केजरीवाल ने चार कार्यकर्ताओं के नाम लिए थे जिसमें से तीन कार्यकर्ता जिंदा है. अपनी इस गलती के लिए ‘आप’ ने माफी तो मांगी है लेकिन दीव के RTI कार्यकर्ता जयसुख बामनिया ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ पुलिस में शिकायत करने का फैसला किया है.

बामनिया ने आरोप लगाया है कि केज़रीवाल लोगो को गुमराह कर रहे हैं. केजरीवाल ने निजी स्वार्थ के लिए जिंदा इंसान को मरा हुआ बताकर श्रद्धांजलि दे दिया.

 

केजरीवाल की श्रद्धांजलि को लेकर उनकी खूब किरकिरी हो रही है. गुजरात के आरटीआई कार्यकर्ता भगुभाई देवानी ने भी मीडिया के सामने आकर अपने जिंदा होने का सबूत दे दिया.

 

क्या कहा था केजरीवाल ने-

8 मार्च को अहमदाबाद की अपनी रैली में मोदी पर निशाना साधने से पहले केजरीवाल ने राज्य के चार आरटीआई कार्यकर्ताओं के योगदान का जिक्र करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की थी. केजरीवाल ने कहा था, ‘‘सबसे पहले मैं उन लोगों को श्रद्धांजलि देना चाहता हूं जिन्होंने बीते 10 वर्ष में गुजरात में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते हुए अपने प्राणों का बलिदान दिया.’’ 

इसी के बाद न्यूज एजेंसी पीटीआई ने हैरान करने वाली ये खबर दी कि अपने भाषण में केजरीवाल ने जिन चार आरटीआई कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दी उनमें से तीन तो जिंदा हैं और इन्हीं तीन आरटीआई कार्यकर्ताओं में से एक भगुभाई देवानी ने ABP न्यूज से बात करते हुए अपने सही सलामत होने का सबूत भी दिया.

 

जाहिर है इस ताजा वाकये को लेकर केजरीवाल फिर सवालों के घेरे में हैं. सवाल ये कि केजरीवाल से इतनी बड़ी कैसे हुई? इस सवाल का केजरीवाल ने तो अभी तक जवाब नहीं दिया है. लेकिन उनकी पार्टी के नेता जरूर खेद जताते घूम रहे हैं.