संतों और खुफिया विभाग के बीच लुका-छिपी का खेल

By: | Last Updated: Saturday, 24 August 2013 12:00 AM
संतों और खुफिया विभाग के बीच लुका-छिपी का खेल

लखनऊ:
विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की
प्रस्तावित ’84 कोसी परिक्रमा’
को लेकर प्रशासन और
संत-महंतों के बीच लुका-छिपी
का खेल शुरू हो गया है. महंत
जहां अपनी रणनीति को अमली
जामा पहनाने में जुटे हुए
हैं, वहीं पुलिस और खुफिया
विभाग की टीमें भी
सतर्कतापूर्वक अपने काम को
अंजाम दे रही हैं.

सूत्रों की मानें तो पुलिस ने
कई लोगों की सूची बनाई है
जिन्हें गिरफ्तार करने की
योजना है. पुलिस सूत्रों ने
बताया कि परिक्रमा मार्ग में
पड़ने वाले सभी जिलों में ऐसे
संदिग्ध लोगों की सूची तैयार
की गई है और स्थानीय प्रशासन
द्वारा उन पर कड़ी नजर रखी जा
रही है. संतों और साधुओं और
गांवों में होने वाली गुप्त
बैठकों पर भी खुफिया विभाग की
पैनी नजर है.

विहिप सूत्रों के मुताबिक,
गिरफ्तारी से बचने के लिए
संत-महंत भूमिगत हो गए हैं.
अयोध्या में सन्नाटा पसरा
हुआ है और खुफिया विभाग के
लोग मंदिरों की खाक छान रहे
हैं. वहीं दूसरी ओर,
परिक्रमार्थियों के लिए
कारसेवकपुरम में अतिरिक्त
खाद्यान्नों का भंडारण भी
किया जा रहा है.

सूत्रों ने बताया कि ’84 कोसी
परिक्रमा’ के दौरान 40 पड़ावों
को चिह्न्ति किया गया है और
ये सभी पड़ाव लगभग छह जिलों
के अंतर्गत ही बनाए गए हैं.
परिक्रमा मार्गो से जुड़े
गांवों में संघ, भाजपा और
विहिप की लगातार गुप्त
बैठकें हो रही हैं और पुलिस
से बचने के साथ ही परिक्रमा
को हर हाल में पूरी करने की
रणनीति तैयार की जा रही है.

बीजेपी ने भी विहिप इस योजना
को सफल बनाने के लिए तैयारी
शुरू कर दी है. भाजपा
कार्यकर्ता पड़ाव स्थलों पर
गोपनीय बैठकें कर ‘गुरिल्ला
फाइट’ की रणनीति बनाने में
जुटे हुए हैं.

पूर्व मंत्री लल्लू सिंह ने
परिक्रमा शुरू होने से 48 घंटे
पहले प्रमुख कार्यकर्ताओं
को गोपनीय ढंग से पड़ाव
स्थलों पर बैठकें कर
प्रतिबंध का विरोध और संतों
की सहायता कर परिक्रमा
संकल्प पूरा करने के लिए
योजनाएं बनाने का निर्देश
दिया है.

लल्लू सिंह ने
कहा है कि मुलायम सिंह यादव
की सरकार ने तीसरी बार सन् 1990
में परिक्रमा पर प्रतिबंध
लगाया था जो विफल हुआ था. यही
हश्र इस बार भी होगा.

बीजेपी  युवा मोर्चा के
जिलाध्यक्ष अखंड प्रताप
सिंह डिम्पल की अध्यक्षता
में कार्यकर्ताओं की बैठक
हुई जिसमें ’84 कोसी परिक्रमा’
पर प्रतिबंध लगाए जाने की
कड़े शब्दों में निंदा की गई.

बैठक
के माध्यम से चेतावनी दी गई
कि यदि संतों की परिक्रमा को
रोकने का प्रयास किया गया तो
भाजपा से जुड़े युवा
परिक्रमा पथ पर पहुंचकर
संतों के संकल्प को पूरा
करेंगे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: संतों और खुफिया विभाग के बीच लुका-छिपी का खेल
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017