सरकार के पास काफी दोस्त हैं: चिदंबरम

सरकार के पास काफी दोस्त हैं: चिदंबरम

By: | Updated: 20 Sep 2012 04:01 AM


नई दिल्ली: एफडीआई और
डीजल, एलपीजी मूल्यवृद्धि के
विरोध में तृणमूल कांग्रेस
के द्वारा यूपीए से समर्थन
वापस लिए जाने के बाद से ही
माना जा रहा है कि सरकार संकट
में पड़ सकती है.











कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी
चिदंबरम ने दावा किया है कि
सरकार को कोई खतरा नहीं है.




उन्होंने कहा कि," हमारे पास
कल भी पर्याप्त संख्या में
मित्र थे, हमारे पास आज भी
पर्याप्त संख्या में मित्र
हैं."

उन्होंने कहा
कि,"मुझे कोई कारण नज़र नहीं आ
रहा जिससे हमारे स्थायित्व
पर कोई शक किया जाए." नए
सहयोगियों पर उनसे जब सवाल
पूछा गया तो उन्होंने कहा कि
,"हम लोग नए दोस्त क्यों नहीं
बना सकते."




बीजेडी देगी साथ

सूत्रों
के हवाले से खबर है कि अगर
संसद में अविश्वास प्रस्ताव
आता है तो कांग्रेस को बीजेडी
का साथ मिल सकता है. हालांकि
कल ही बीजेडी के नेता नवीन
पटनायक ने यूपीए सरकार को
समर्थन से इनकार किया था.

उन्होंने
कहा था कि तृणमूल द्वारा
समर्थन वापिस लिए जाने के बाद
केंद्र सरकार कमजोर हो गई है
लेकिन बीजद किसी भी कीमत पर
यूपीए सरकार को समर्थन नहीं
देगी.

सरकार का ECG

ममता
बनर्जी के यूपीए टू का साथ
छोड़ने से फिलहाल सरकार पर
कोई खतरा नहीं है. लेकिन अगर
बाहर से समर्थन दे रही
पार्टियों ने साथ छोड़ा तो
सरकार के लिए मुसीबत हो सकती
है.

ममता
बनर्जी की टीएमसी को मिला कर
यूपीए के पास कुल 325 सांसदों
का समर्थन था, लेकिन ममता के
समर्थन वापस लेने से अब यूपीए
में 306 सांसद रह गए हैं.

यानी
अभी तक सरकार पर कोई खतरा
नहीं है. लेकिन अगर बाहर से
समर्थन दे रही समाजवादी
पार्टी ने साथ छोड़ा तो यूपीए
के पास सिर्फ 284 सांसदों का
समर्थन रह जाएगा.

अब तक तो
सरकार सुरक्षित दिख रही है.
लेकिन अगर मायावती की पार्टी
बीएसपी ने साथ छोड़ा तो यूपीए
के पास सिर्फ 263 सांसदों का
साथ रह जाएगा यानी बहुमत के
आंकड़े से आठ सांसद कम.

अब
सरकार के लिए मुसीबत बढ़
जाएगी और अगर एफडीआई का विरोध
कर रहे जेडीएस के तीन सांसदों
ने भी साथ छोड़ दिया तो सरकार
के पास सिर्फ 260 सांसदों का
समर्थन रह जाएगा.

इसका
मतलब साफ है कि सरकार को एक एम
यानी ममता बनर्जी के साथ
छोड़ने के बाद बाकी दोनों एम
यानी मुलायम और मायावती को
मना कर रखना होगा.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story दिल्ली: पटाखा फैक्ट्री में आग से 17 की मौत, BJP मेयर प्रीति अग्रवाल के बयान पर बवाल