सरबजीत के अंतिम दर्शन के लिए उमड़े सैंकड़ों लोग

By: | Last Updated: Friday, 3 May 2013 12:08 AM
सरबजीत के अंतिम दर्शन के लिए उमड़े सैंकड़ों लोग

भीखीविंड
(पंजाब):
पाकिस्तान के लाहौर
की जेल में साथी कैदियों के
क्रूर हमले में मारे गए
भारतीय कैदी सरबजीत सिंह के
शव के दर्शन के लिए शुक्रवार
सुबह से पंजाब स्थित उनके गृह
नगर भीखीविंड में सैंकड़ों
लोग एकत्रित होने लगे हैं.

पंजाब सरकार ने सरबजीत की मौत
पर तीन दिवसीय राजकीय शोक
घोषित किया है. राजकीय सम्मान
के साथ शुक्रवार दोपहर दो बजे
उनका अंतिम संस्कार किया
जाएगा.

इस दौरान प्रमुख
नेताओं एवं अन्य लोगों के
उपस्थित होने की सम्भावना है.
उनकी अंतिम यात्रा में
हजारों के शामिल होने की
सम्भावना के मद्देनजर उचित
प्रबंध किए गए हैं.

गुरुवार
की मध्यरात्रि को उनका शव
तिरंगे से ढंके लकड़ी के
ताबूत में उनके पैतृक शहर
लाया गया. उनका शव घर वापस आते
ही 23 सालों तक उन पर हुए
अत्याचार और तकलीफों की
समाप्ति को याद कर पूरे
परिवार और मित्रों की आंखे नम
हो गईं.

सरबजीत का शव
विशेष विमान द्वारा लाहौर से
अमृतसर अंतर्राष्ट्रीय
हवाईअड्डे पर गुरुवार शाम 7.40
बजे लाया गया जिसे बाद में
हेलीकॉप्टर से भीखीविंड
पहुंचाया गया.

सरबजीत की
रिहाई की कोशिशों के दौरान
मजबूती की मिसाल बनी रहीं
उनकी बहन दलबीर कौर भारतीय
वायुसेना के विमान के जमीन पर
उतरते ही बिल्कुल बिखरी हुई
नजर आईं.

सरबजीत के
परिवार की इच्छा के मुताबिक
अमृतसर मेडिकल कॉलेज के
चिकित्सकों ने उप-प्रमंडलीय
शहर पट्टी के सरकारी अस्पताल
में गुरुवार रात उनके शव का
पोस्टमार्टम किया.

एक
चिकित्सक ने संवाददाताओं से
कहा, “हमने उनका पोस्टमार्टम
किया है. उनके सिर और शरीर के
अन्य हिस्से में चोट के निशान
हैं.”

इससे पहले लाहौर में
एक चिकित्सकीय दल द्वारा
उनके शव का पोस्टमार्टम किया
गया था. सरबजीत का शव लाहौर
में भारतीय उच्चायोग के
अधिकारियों को गुरुवार
दोपहार सौंपा गया था.

भीखीविंड
में दुकानें, शिक्षण संस्थान
एवं अन्य केंद्र गुरुवार की
तरह शुक्रवार को भी बंद
रहेंगे.

पंजाब के
मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह
बादल ने सरबजीत के परिवार को
एक करोड़ रुपये की वित्तीय
मदद करने का एलान किया है तथा
उनके मुताबिक, पंजाब सरकार
उनकी दोनों बेटियों को नौकरी
भी देगी.

पाकिस्तान के
लाहौर एवं मुल्तान विस्फोट
के बाद 1990 में मौत की सजा पाए
भारतीय कैदी सरबजीत पर लाहौर
की कोट लखपत जेल के कैदियों
ने 26 अप्रैल को जानलेवा हमला
कर दिया था, जिसमें वह बुरी
तरह घायल हो गए थे. उन्हें
लाहौर के जिन्ना अस्पताल में
भर्ती कराया गया था, जहां
बुधवार देर रात उनकी मौत हो
गई.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: सरबजीत के अंतिम दर्शन के लिए उमड़े सैंकड़ों लोग
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017