सीबीआई करेगी शारदा चिट फंड घोटाले की जांच, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

सीबीआई करेगी शारदा चिट फंड घोटाले की जांच, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

By: | Updated: 09 May 2014 05:32 AM

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा और असम में कई करोड़ रूपये के सारदा चिटफंड घोटाले की सीबीआई से जांच कराने का आदेश दिया. सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से इस चिट फंड घोटाले में शामिल पश्चिम बंगाल और उड़िसा के 44 अन्य फर्म्स के खिलाफ जांच करने के आदेश दिए हैं. कोर्ट ने पश्चिम बंगाल, असम और ओडिशा को इस जांच में सहयोग करने के लिए कहा है.



सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल, उडि़सा और असम राज्य के पुलिस को आदेश दिया है कि वे सीबीआई के साथ जांच में सहयोग करें और इस घोटाले की सभी जानकारी सीबीआई को दें.


इस घोटाले को लेकर चुनाव में पश्चिम बंगाल की राजनीति गरमाई हुई है.  सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को ममता बैनर्जी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.


क्या है पूरा घोटाला-
कथित तौर पर तीन हजार करोड का ये घोटाला अप्रैल 2013 में सामने आया था. आरोप है कि शारदा ग्रुप की कंपनियों ने गलत तरीके से निवेशकों के पैसे जुटाए और उन्हें वापस नहीं किया. घोटाले के खुलासे के बाद जब एजेंटों से निवेशकों ने पैसे मांगने शुरू किये तो कई एजेंटों ने जान तक दे दी थी. इस घोटाले को लेकर पश्चिम बंगाल सरकार पर सवाल उठे थे. 

 

शारदा समूह द्वारा 10 लाख से अधिक निवेशकों को ठगने का अनुमान है. इस घोटाले से 3,000 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान होने की संभावना है. अप्रैल में बालासोर और ओडिशा में सैकड़ों निवेशकों ने समूह पर आरोप लगाया था कि उच्च लाभ का वादा कर उनसे पैसा लिया गया था, जिसे पूरा नहीं किया गया. इसके बाद ओडिशा में इस मामले की जांच शुरू हुई थी.

 

शारदा समूह की पूर्व कर्मचारी ने शारदा के प्रमोटर सुदीप्त के खिलाफ वेतन भुगतान नहीं करने का मामला दायर किया था. इसी मामले में सुदीप्त बाद में गिरफ्तार हुए. सुदीप्त और उसके कई सहयोगी अब जेल में बंद हैं. इसी घोटाले में संलिप्तता के कारण तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य कुणाल घोष भी गिरफ्तार किए जा चुके हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story राम मंदिर के निर्माण के साथ ही राजपूत संगठनों ने की आरक्षण की मांग