सीबीआई के बाद अब र्डडी करेगा जगन से पूछताछ

सीबीआई के बाद अब र्डडी करेगा जगन से पूछताछ

By: | Updated: 30 May 2012 01:05 AM


हैदराबाद:
सीबीआई के बाद अब प्रवर्तन
निदेशालय (ईडी) की भ्रष्टाचार
के आरोपों में सांसद वाई.एस.
जगनमोहन रेड्डी पर शिकंजा
कसने की तैयारी है.

निदेशालय
आज सीबीआई की अदालत में
याचिका दाखिल कर वाईएसआर
कांग्रेस प्रमुख जगन से
पूछताछ करने की इजाजत
मांगेगा. इससे पहले 28 मई को
अदालत ने जगन को दो हफ्ते की
न्यायिक हिरासत में भेजा.

निदेशालय
के अधिकारियों का एक दल
दिल्ली से हैदराबाद पहुंच
गया है और यहां अपने समकक्षों
के साथ जांच आगे बढ़ाने पर
विचार-विमर्श कर रहा है.

अधिकारियों
ने सीबीआई अधिकारियों से भी
चर्चा की है. निदेशालय के
अधिकारी जगन से काले धन को
वैध बनाने से रोकने वाले
अधिनियम (पीएमएलए) और विदेशी
मुद्रा प्रबंधन अधिनियम
(फेमा) के उल्लंघन के सम्बंध
में सवाल करेंगे.

निदेशालय
पहले ही जगन और उनके
सहयोगियों और कुछ नौकरशाहों
के खिलाफ इन दो अधिनियमों के
तहत मामले दर्ज कर चुका है.

निदेशालय
के अधिकारी जगन से उनकी
कम्पनियों में वित्तीय
लेन-देन के सम्बंध में पूछताछ
कर सकते हैं. कडप्पा सांसद
जगन से उनके और उनकी
कम्पनियों द्वारा विदेशों
में किए गए निवेश और फिर वही
धन वापस अपने व्यवसाय में
लगाने के सम्बंध में पूछताछ
की जाएगी.

सीबीआई ने जगन
पर अपने पिता व तत्कालीन
मुख्यमंत्री वाई.एस. राजशेखर
रेड्डी के साथ षडयंत्र रचकर
अपनी कम्पनियों के लिए निवेश
प्राप्त करने का आरोप लगाया
है. सीबीआई का आरोप है कि जगन
ने इसके एवज में विशेष आर्थिक
क्षेत्र, भूमि व अन्य
रियायतों में निवेशकों को
लाभ पहुंचाया.

निदेशालय
सीबीआई द्वारा जगन और 12 अन्य
के खिलाफ मार्च में दाखिल
किया गया पहला आरोपपत्र व
अन्य सम्बंधित दस्तावेज
पहले ही प्राप्त कर चुका है.

निदेशालय
ने पीएमएलए के तहत जगन की
सम्पत्तियों की एक सूची भी
तैयार की है. जगन से पूछताछ के
बाद कुर्की के आदेश जारी किए
जा सकते हैं.

जगन देश के
सबसे अमीर सांसदों में से एक
हैं. उन्होंने पिछले साल
कडप्पा लोकसभा सीट पर
उप-चुनावों के समय अपनी 356
करोड़ रुपये की सम्पत्ति की
घोषणा की थी.

सीबीआई और
प्रवर्तन निदेशालय के अलावा
आयकर विभाग भी जगन के खिलाफ
जांच कर रहा है. आयकर विभाग की
जांच तब शुरू हुई जब जगन ने
अप्रैल-सितम्बर 2010-11 के लिए 84
करोड़ रुपये का अग्रिम कर जमा
किया जो पहले ही तुलना में
बहुत ज्यादा था.

उन्होंने
साल 2008-09 में सिर्फ 2.92 लाख और 2009-10
में 6.72 लाख रुपये का कर जमा
किया था.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story सरकार और राजनीतिक पार्टियों को कोर्ट के मौजूदा संकट से दूर रहना चाहिए: पीएम मोदी