सुप्रीम कोर्ट से किन्नरों को मिला तीसरे लिंग का दर्जा

सुप्रीम कोर्ट से किन्नरों को मिला तीसरे लिंग का दर्जा

By: | Updated: 15 Apr 2014 07:12 AM

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने किन्नरों के अधिकारों को लेकर बड़ा फैसला लिया है. सुप्रीम कोर्ट ने स्त्री, पुरुष के बाद किन्नरों को तीसरे लिंग का दर्जा देने को कहा है.

 

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने किन्नरों को आरक्षण औऱ विशेषाधिकार देने जैसे ऐतिहासिक फैसले भी लिये हैं.

 

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद किन्नरों में खुशी की लहर दौड़ गई. किन्नरों ने सुप्रीम कोर्ट को शुक्रिया कहा. एक निजी संस्था के सर्वे के मुताबिक मार्च 2011 तक देश में 19 लाख से ज्यादा किन्नर हैं.

 

उच्चतम न्यायालय ने ट्रांसजेंडर को शिक्षा एवं स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं मुहैया कराने के लिए केंद्र एवं राज्यों को निर्देश देते हुए कहा कि वे सामाजिक रूप से पिछड़ा समुदाय हैं.

 

उच्चतम न्यायालय ने कहा कि ट्रांसजेंडर देश के नागरिक हैं और शिक्षा, रोजगार एवं सामाजिक स्वीकार्यता पर उनका समान अधिकार है.

 

उच्चतम न्यायालय ने देश में ट्रांसजेंडरों के साथ होते भेदभाव एवं उनके उत्पीड़न पर चिंता व्यक्त की और इसे समाप्त करने के लिए सरकार को कदम उठाने के निर्देश दिए.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद