सुषमा ने रीटेल में एफडीआई को साजिश बताया

सुषमा ने रीटेल में एफडीआई को साजिश बताया

By: | Updated: 04 Dec 2012 08:10 AM


नई दिल्ली: किराना में
एफडीआई पर लोकसभा में
ज़ोरदार बहस हुई जहां बीजेपी
नेता सुषमा स्वराज ने इसका
विरोध करते हुए कहा कि यह
विकास की सीढ़ी नहीं बल्कि
विनाश का गड्ढा है, तो कपिल
सिब्बल ने कहा कि जो राज्य
विदेशी किराना के पक्ष में
हैं उन्हें ऐसा करने से रोकना
ठीक नहीं है.




सुषमा के जवाब में सूचना और
प्रसारण मंत्री कपिल सिब्बल
ने कहा कि विपक्ष दोहरा रवैया
अपना रहा है और जब बीजेपी
सत्ता में थी तो इसके समर्थन
में थी और उनसे 2004 के लोकसभा
चुनाव के अपने घोषणापत्र में
इसकी वकालत भी की थी.




वहीं एसपी नेता मुलायम सिंह
यादव, जो सरकार का बाहर से
समर्थन कर रहे हैं, ने लोकसभा
में कहा कि वह इसके विरोध में
हैं और इसे किसानों के लिए
नुकसानदेह करार दिया.




इस मुद्दे पर बुधवार को भी
बहस जारी रहेगी, जिसके बाद
वोटिंग होगी. अब तक एसपी और
बीएसपी ने अपने पत्ते नहीं
खोले हैं और माना जाता कि वह
इसके विरोध में वोट नहीं
करेंगे और मुमकिन है कि वे
लोकसभा से गैर हाज़िर रह जाएं
या पक्ष में वोट करें.




टीकाकारों की राय में वह
सरकार की सुविधा के आधार पर
अपना मन बनाएंगे.




बीजेपी का रुख




लोकसभा में इस बहस की शुरुआत
सुषमा स्वराज ने की और सरकार
की नीति की आलोचना करते हुए
उन्होंने प्रधानमंत्री से
अपील की है वे जनता के हित का
ख्याल करते हुए इसे वापस ले
लें.




उन्होंने आरोप लगाया कि
सरकार ने इस मुद्दे पर आम
सहमति बनाने का वादा पूरा
नहीं किया, बल्कि विपक्ष को
इस फैसले की जानकारी तक नहीं
दी.




मल्टी ब्रांड में एफडीआई के
नुकसान पर बात करते हुए सुषमा
ने कहा, "मैकडोनल्ड से पूछें,
वे कभी भारतीय किसान से आलू
क्यों नहीं खरीदते. वे भारतीय
आलू के छोटा होने का बहाना
करते हैं."




स्वराज ने कहा कि विदेश
कंपनियां एफडीआई पर बड़ी
आसानी से वादे करती हैं,
लेकिन उसे कभी पूरा नहीं
करती. अपनी बात को आगे बढ़ाते
हुए उन्होंने कहा, "वॉलमार्ट
एक स्टोर में ज्यादा से
ज्यादा 214 लोग को रोज़गार देती
हैं. ऐसे में रीटेल में
एफडीआई से कैसे 40 लाख लोगों को
रोज़गार मिलेगा?"




सुषमा ने लोकसभा में मनमोहन
सिंह की उस चिट्ठी को पढ़ी, जब
राज्यसभा में विपक्ष के नेता
के तौर पर मनमोहन ने एफडीआई
का विरोध किया था.




मनमोहन की चिट्ठी को पढ़ने के
बाद सुषमा ने पीएम से पूछा,
"प्रधानमंत्री जी आपको क्या
हो गया है. परिस्थितियों में
क्या अंतर आ गया है. आखिर आज
क्या कारण है आपकी सोच बदल गई.
जनता जाननी चाहती है."




सुषमा के मुताबिक रीटेल में
एफडीआई के बाद कंपनियों के
एकाधिकार की व्यवस्था का
निर्माण होगा. उन्होंने कहा,
"हम महिलाएं बाजार जाते हैं
और छोटे दुकानदार उन्हें कभी
नहीं ठगते, लेकिन बड़े
दुकानदार हमें ठगेंगे."




सुषमा ने कहा कि अगर रीटेल
में एफडीआई को इजाज़त मिली तो
इससे देश में 90 फीसदी सामान
चीन से आएगा.




सिब्बल का बचाव




सरकार के फैसले का बचाव करते
हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि
इससे किसानों का फायदा होगा
और आरोप लगाया कि विपक्ष
बिचौलिए का साथ दे रहा है.




बहस में हिस्सा लेते हुए
सिब्बल ने तर्क दिया कि इस
बहस की जरूरत नहीं थी और यह एक
राजनीतिक मजबूरी के तहत बहस
की जा रही है.




उन्होंने कहा, "इस नीति का
मकसद है कि किसान को ज्यादा
से ज्यादा फायदा हो और उसे
मंडी में अधिक से अधिक पैसा
मिले."




अपने तर्क को और बल देते हुए
सिब्बल ने कहा, "सिर्फ 15 से 17
फीसदी पैसा किसानों के पास जा
पाता है. विपक्ष यह फैसला करे
कि वह किसान के साथ हैं या
बिचौलिए के साथ. हम किसान और
उपभोक्ता के साथ हैं. आप
बिचौलिए के साथ हैं."




कपिल सिब्बल





05.02PM: चीन, रूस
और चिली में 100 फीसदी एफडीआई
है, यह वह ऐसे देश हैं जहां
कम्यूनिस्ट पार्टी सत्ता
में है.




04.55PM: बीजेबी
की विचारधारा में मल्टी
ब्रांड है, जबकि कम्यूनिस्ट
पार्टी फॉरेन डाइरेक्ट
आइडियोलॉजी पर काम करती है.





04.54PM: रीटेल
में एफडीआई आने से रोजगार
बढ़ेंगे. उत्पादन क्षेत्र का
विकास होगा तो रोज़गार
बढ़ेंगे.





04.45PM: सिब्बल ने
विपक्ष पर बार बार हमला करते
हुए कहा कि देश की जनता यह
नहीं जानती कि बीजेपी की नीति
क्या है, लेकिन यह जरूर जानती
है कि बीजेपी की नीयत साफ
नहीं है.





04.30PM: कपिल सिब्बल ने
सीपीएम नेता सीमाराम येचुरी
का एक बयान नकल करते हुए कहा
कि उन्होंने 2002 में कहा था कि
अगर रोज़गार बढ़े,
टेक्नोलॉजी आए तो एफडीआई में
कोई हर्ज नहीं है. 





04.38PM: मंडी में फसल
जाने से 35 से 40 फीसदी फसल
बर्बाद हो जाता है. यह रुकेगा,
कोल्ड स्टोरेज बनेगा. विपक्ष
तय करे कि वह किसान के साथ है
या बिचौलिए के साथ. देश
में 8 करोड़ टन फल और सब्जी
बर्बाद हो जाता है.





04.30PM: बीजेपी ने 2004 के
घोषणापत्र में एफडीआई का
समर्थन किया था.




04.22PM: 20 फीसदी सामान छोटे
उद्योगों से लेना होगा. केवल 53
शहरों में विदेशी निवेश
खोलने का प्रस्ताव है.




04.20PM: नीतियों को समझना
जरूरी है. कम से कम 550 करोड़
निवेश की जरूरत है. निवेश का
आधा हिस्सा बुनियादी ढ़ांचे
पर खर्च करना पड़ेगा.





04.16PM: सिब्बल के मुताबिक
इस मुद्दे पर चर्चा की जरूरत
नहीं थी.  जो राज्य इसके पक्ष
में उन्हें रोकना सही नहीं
है.




04.16PM: विदेशी किराना के
मुद्दे पर विपक्ष की नेता
सुषमा स्वराज के बाद अब कपिल
सिब्बल
अपनी बात रख रहे हैं.
सिब्बल का कहना है कि जो
राज्य विरोध कर रहे हैं वह
अपने यहां इसे लागू नहीं
करें, लेकिन जो चाह रहा है उसे
रोकना सही नहीं है.





सुषमा स्वराज





03.39PM: मैं आपको
वोट के जरिए हराकर नहीं बल्कि
मना करके जीतना चाहती हूं,
क्योंकि देशहित में यह है.






03.36PM: प्रधानमंत्री
अमीरों और विदेशी कंपनियों
की लड़ाई लड़ रहे हैं. मैं
प्रधानमंत्री से गुजारिश
करती हूं कि जब दुनिया में
इसके विरोध में आवाज़ें उठ
रहीं हैं तो फिर भारत में इसे
लागू करने की कोई आवश्यकता
नहीं है.




03.35PM: सरकार को लगता है कि
रीटेल में एफडीआई विकास की
सीढ़ी है तो मैं कहती हूं कि
यह विनाश की खाई है.





03.31PM: एफडीआई को लेकर
वॉलमार्ट खुद भारत में
रिश्वत दिए जाने की जांच कर
रहा है. वॉलमार्ट ने
भारत में अपने बड़े अधिकारी
को सस्पेंड किया.





03.28PM: विपक्ष में रहते
मनमोहन सिंह ने 2002 में एफडीआई
का विरोध किया था.
प्रधानमंत्री जी आपको क्या
हो गया है. परिस्थितियों में
क्या अंतर आ गया है. आखिर आज
क्या कारण है आपकी सोच बदल गई.
जनता जाननी चाहती है. 





03.26PM: एनडीए के जमाने में
विदेशी निवेश पर कमेटी बनी
थी, कमेटी ने किराना में
विदेशी निवेश के प्रस्ताव को
खारिज कर दिया था.





03.22PM: अमेरिका अपने यहां
छोटे उद्योग को बढ़ावा दे रहा
है. राष्ट्रपति ओबामा खुद ही
शनिवार को छोटे दुकानों में
शॉपिंग करने जाते हैं.





03.19PM: 90 फीसदी माल चीन से
आएगा.





03.17PM: विदेशी किराना से
देश की कंपनियां तबाह हो
जाएंगी. वॉलमार्ट ने
अमेरिका में तबाही मचाई है.





03.15PM: भारत में मॉल्‍स
आएंगे तो वहां जरूर जगमगाहट
होगी, लेकिन लाखों घरों में
बेरोजगारी की वजह से अंधेरा
छा जाएगा.





03.10PM: हर चौराहे पर जब
विदेशी कंपनियों के किराना
स्‍टोर खुलेंगे तब जाकर 40 लाख
लोगों को रोजगार मिलेगा.





03.08PM: हंगामे के बाद सुषमा
स्‍वराज ने दुबारा अपना भाषण
शुरू किया





03.08PM: स्‍पीकर मीरा कुमार
लगाता सांसदों को शांत करने
की कोशिश कर रही हैं.




03.04PM: चर्चा के बीच सुषमा
के तर्क को लेकर लोकसभा में
हंगामा.





02.55PM: सरकार कहती है कि
इससे बिचौलिए खत्म होंगे,
चीनी व्यापार में बिचौलिए
नहीं हैं, लेकिन कई बार देखा
गया है कि वे किसानों के
गन्ने लेने से मना कर देते
हैं. विदेशी कंपनियों के आने
से यह परेशानी और बढ़ेगी. नए
बिचौलिए पैदा होंगे.





02.53PM: पेप्सी ने
पंजाब के किसानों को गुमराह
किया था. कारखाना लगाने के
बाद किसानों से फसल नहीं ली
थी.





02.53PM: विदेशी
कंपनियां कमर्चारियों को कम
पैसे देंगे.





02.53PM: देश में दूध
क्रांति लाने वाले मिल्क मैन
वर्गीज कुरियन ने भी एफडीआई
का विरोध किया था.





02.52PM: दुनियाभर में रीटेल
में एफडीआई का विरोध हो रहा
है. बड़ी कंपनियां
स्थानीय जगहों से सामान नहीं
खरीदते. सामान में थोड़ी
खराबी होने पर विदेशी
कंपनियां पूरी फसल लौटा
देंगे.





02.45PM: इससे प्रीडेटरी
प्राइस को बढ़ावा मिलेगा
यानी पहले कम दाम में सामान
बचेंगे और जब करीब की सभी
दुकानें बंद हो जाएगी तो
मनमाने दाम पर अपने सामान
बेचेंगे.





02.40PM: रीटेल में एफडीआई
आने से उपभोक्ताओं को दुकान
के चुनाव यानी विकल्प का
अधिकार खत्म हो जाएगा. कभी भी
एकाधिकार ग्राहकों के लिए
नुकसानदह होता है.





02.35PM: सरकार ने संसद में
इस मुद्दे पर आम सहमति बनाने
का भरोसा तो दिया था, लेकिन
सरकार ने विपक्ष से बात करने
की बात तो दूर, इसकी खबर तक
नहीं दी. हमें टीवी से पता चला
की सरकार ने किराना में
एफडीआई का फैसला किया है.





02.30PM: 2011 में भी किराना में
विदेशी निवेश के सरकार के
फैसले का विरोध किया गया था, 
तब सरकार ने कहा था कि इसके
स्टेकहोल्डर से बात कर इसे
पेश किया जाएगा, लेकिन सरकार
ने बिना बात किए है इसे
दोबारा पेश कर दिया.





02.25PM: सुषमा के प्रस्ताव
का टीएमसी नेता सौगत राय ने
भी समर्थन किया.





02.25PM: रीटेल में एफडीआई पर
सुषमा ने बहस की शुरुआत की.
सुषमा ने रीटेल में एफडीआई को
वापस लेने का प्रस्ताव रखा.




02.20PM स्पीकर मीरा कुमार
ने फेमा और रीटेल में एफडीआई
पर एक साथ बहस और अलग-अलग
वोटिंग का एलान किया.





02.11PM: संसदीय कार्य
मंत्री कमलनाथ का कहना है कि
फेमा और एफडीआई पर एक साथ बहस
हो और इसमें कोई दिक्कत नहीं
है.




02.10PM: रीटेल में एफडीआई के
साथ ही चर्चा को लेकर संसद
में पक्ष और विपक्ष में
गरमागरम बहस हुई.




02.05PM: एफडीआई के साथ ही फेमा
पर चर्चा को लेकर बीजेपी ने
आपत्ति जताई है और कहा कि यह
ठीक नहीं है.




02:00PM: लोकसभा में सदन की
कार्यवाही शुरू हुई. स्पीकर
मीरा कुमार ने कुर्सी संभाली.



फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आज सुबह अहमदाबाद में पीएम मोदी के साथ रोड शो करेंगे इजरायली पीएम नेतन्याहू