सेना के एक अधिकारी के खिलाफ जांच की सिफारिश

सेना के एक अधिकारी के खिलाफ जांच की सिफारिश

By: | Updated: 28 Mar 2012 08:39 PM


नई
दिल्‍ली
: तृणमूल सांसद
अंबिका बनर्जी की चिट्ठी के
आधार पर सेनाध्‍यक्ष जनरल
वीके सिंह ने लेफ्टिनेंट
जनरल दलबीर सिंह सुहाग के
खिलाफ सीबीआई जांच की
सिफारिश की है.




अंबिका बनर्जी ने स्टार
न्यूज फोन पर हुई बातचीत में
कहा कि उन्‍होंने मई 2011 में
प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री
और सेनाध्‍यक्ष जनरल वीके
सिंह को चिट्ठी लिखी थी,
लेकिन कोई जवाब नहीं आया. पूरी
बातचीत सुनें






इन दिनों दीमापुर में तैनात
लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह
पर अंबिका बनर्जी ने घोटाले
का आरोप लगाया है. ये उस समय की
बात है जब दलबीर स्पेशल
फ्रंटियर फोर्स में तैनात थे.
अंबिका का आरोप है कि नाइट
विजन डिवाइस, कम्युनिकेशन
सिस्टम, हथियार और पैराशूट की
खरीद में घोटाले हुए.




उधर, सीबीआई सूत्रों का कहना
है कि जांच की चिट्ठी मिल गई
है, लेकिन इस पर अभी फैसला
नहीं हुआ है. पहले सिफारिश की
चिट्ठी में दिए गए तथ्यों की
जांच की जाएगी.




अभी तक सीबीआई ने इस मामले
में कोई केस दर्ज नहीं किया
है. चिट्ठी का मामला उसी
सीबीआई टीम को सौंपा गया है
जो जनरल को घूस की पेशकश
मामले की जांच कर रही है. घूसकांड
के सीबीआई जांच के आदेश






क्‍या है पूरा मामला




कथित घूस कांड का बम फोड़कर
सरकार से टकराव मोल ले चुके
जनरल वीके सिंह ने अब एक और
गोला दाग दिया है. सेना
प्रमुख जनरल वी के सिंह ने
सेना के लेफ्टिनेंट जनरल
दलबीर सिंह सुहाग के खिलाफ
जांच के लिए सीबीआई से
सिफारिश की है.

अखबार
इंडियन एक्सप्रेस के
मुताबिक तृणमूल कांग्रेस के
सांसद अंबिका बनर्जी की ओर से
सरकार को इस मामले में जांच
के लिए साल भर पहले एक पत्र
भेजा गया था और अब जनरल सिंह
ने उसी पत्र को आधार बनाते
हुए दलबीर सिंह पर लगाए गए
आरोपों की जांच किए जाने की
सिफारिश की है.

जनरल सिंह
ने बनर्जी के पत्र के साथ
कवरिंग लेटर लगाते हुए
सिफारिश की है. दलबीर सिंह इन
दिनों दीमापुर में तैनात हैं.

इससे
पहले सेना प्रमुख ने घटिया
ट्रकों के लिए 14 करोड़ रुपये
की घूस दिए जाने का कथित तौर
पर खुलासा किया था. यह विवाद
पूरी तरह थमा भी नहीं था कि
उन्होंने प्रधानमंत्री को
चिट्ठी लिखकर सेना की खस्ता
हालत बयान की थी.

सेना के
पास गोला बारूद खत्म होने के
खुलासे से लेकर गोपनीय खत के
लीक होने तक हर मुद्दे पर
राज्यसभा में जमकर हंगामा
हुआ.

माना जा रहा है कि
लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह
के मामले में सीबीआई को
सिफारिश से एक नया विवाद खड़ा
हो सकता है.

दरअसल, मई 2011 को
लिखी अंबिका बनर्जी की
चिट्ठी में दलबीर सिंह पर
घोटाले के गंभीर आरोप लगाए गए
थे. बनर्जी ने तब
प्रधानमंत्री और रक्षा
मंत्री को पत्र लिखकर मामले
का ब्यौरा दिया था.

पत्र
के मुताबिक नाइट विजन डिवाइस,
कम्युनिकेशन सिस्टम, हथियार
और पैराशूट की खरीद में
घोटाला हुआ है. इस मामले में
इसी चिट्ठी में साज़ोसामान
की खरीद के कथित एजेंट का भी
नाम बताया था.

बनर्जी एक
पूर्व सेना प्रमुख पर भी घपले
करके संपत्तियां बनाने के
आरोप लगा चुके हैं. सेना
प्रमुख वी के सिंह के मुताबिक
सांसद बनर्जी ने जांच के लिए
सरकार को अलग से कई पत्र भी
लिखे हैं.

अखबार इंडियन
एक्सप्रेस के मुताबिक
बनर्जी ने प्रधानमंत्री को
चिट्ठी लिखे जाने की पुष्टि
करते हुए कहा है कि उन्हें
रक्षा मंत्री की जवाबी
चिट्ठी में जांच का भरोसा
दिलाया गया था लेकिन अब तक
कुछ नहीं हुआ.

सेना प्रमुख
की नई शिकायत बुधवार को ऐसे
समय में सीबीआई मुख्यालय
पहुंची, जब एक दिन पहले ही
जांच एजेंसी की टीम खुद उनके
दफ्तर कथित घूस मामले की
शुरुआती जानकारी लेने
पहुंची थी.

गौरतलब है 14
करोड़ रुपये की कथित घूस की
पेशकश के जनरल सिंह के खुलासे
की जांच पहले ही सीबीआई को
सौंपी जा चुकी है.




संबंधित खबरें




जनरल
वीके सिंह के खुलासे से मचा
हड़कंप






मुझे
घूस की पेशकश की गई थी: जनरल





जनरल
के खिलाफ कार्रवाई के आसार
नहीं





सेनाध्‍यक्ष
को बर्खास्‍त किए जाने की
मांग




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story सरकार और राजनीतिक पार्टियों को कोर्ट के मौजूदा संकट से दूर रहना चाहिए: पीएम मोदी