सेना के मूवमेंट पर रक्षा विशेषज्ञों के सवाल

सेना के मूवमेंट पर रक्षा विशेषज्ञों के सवाल

By: | Updated: 04 Apr 2012 05:33 AM


नई
दिल्‍ली:
सेना के दिल्ली की
तरफ बढ़ने की खबर पर रक्षा
विशेषज्ञों ने गंभीर सवाल
उठाए हैं.

रिटायर्ड
लेफ्टिनेंट जनरल पीएन हून के
मुताबिक सबसे बड़ा सवाल यह है
कि अगर अभ्यास के लिए
टुकड़ियां आ रही थीं तो
उन्हें वापस क्यों भेजा गया.


रिटायर्ड जनरल हून ने
कहा, ये नियम है कि जब सेना की
बड़ी टुकड़ि‍या प्रशिक्षण
या फायरिंग के लिए दिल्‍ली
आती हैं तो पुलिस को सूचना दी
जाती है क्‍योंकि दिल्‍ली
में ट्रैफिक के बारे में पता
हो और किसी तरह का जाम न लगे.
तो पहला सवाल ये है कि क्‍या
पुलिस को सूचना दी गई थी?
दूसरी बात ये है कि सेना की
टुकड़ी हिसार से चली थी तो,
मैं कमान का नाम नहीं लूंगा
कि चाहे वो पूर्वी हो या
पश्चिम हो, तो क्‍या ये सूचना
थी कि टुकड़‍ियां जा रही हैं?
क्‍योंकि वे ही इजाजत दे सकते
हैं.

रक्षा विशेषज्ञ उदय
भास्कर का कहना है कि यह खबर
बताती है कि सिविल-मिलिट्री
संबंध कहां आ पहुंचे हैं.

उन्‍होंने
कहा, 'ये खबर इस बात का
प्रतिबिंब है कि इस वक्‍त
भारत के अंदर सिविल-मिलिट्री
संबंध सही नहीं है और इसकी
समीक्षा होनी चाहिए.'

हालांकि
रक्षा विशेषज्ञ रिटायर्ड
कर्नल यू एस राठौड़ ने स्‍टार
न्‍यूज़ से कहा, 'कोई
छोटा-मोटा मूवमेंट रहा होगा
और यही वजह है कि इसके बारे
में पहले से जानकारी नहीं दी
गई.'




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आज सुबह अहमदाबाद में पीएम मोदी के साथ रोड शो करेंगे इजरायली पीएम नेतन्याहू