सेना में वन रैंक, वन पेंशन लागू, श्रेय लेते हुए राहुल गांधी ने कहा- सेना के जवानों के सेंटिमेंट्स को सरकार समझती है

By: | Last Updated: Monday, 17 February 2014 10:18 AM

नई दिल्ली. सेना के पूर्व जवान वन रैंक, वन पेंशन की लंबे समय से मांग कर रहे थे. आज वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने उऩकी इस मांग को अपने बजट में शामिल कर लिया. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सहित सभी लोगों ने इसका स्वागत किया लेकिन चुनावी मौसम में सेना को मिले इस तोहफे को लेकर सभी इसका श्रेय अपने खाते में जोड़ने लगे हैं.

 

 

राहुल गांधी ने कहा कि सेना के लोग मुझसे मिलने आये. अलग-अलग लोगों से मेरी बातचीत हुई. सभी ने कहा कि यह एतिहासिक और जरूरी कदम है. फौज के लोग हमारे लिए पहाड़ों पर खड़े रहते हैं. हमारा फर्ज बनता है कि हम उनकी मदद करें. इस ऐतिहासिक कदम के लिए हम प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को धन्यवाद देते हैं. सेना के जवानों के सेंटिमेंट्स को सरकार समझती है.

 

वित्त मंत्री के इस एलान को कांग्रेस राहुल गांधी से जोड़कर देख रही है. दरअसल कुछ दिनों पहले सेना के पूर्व जवानों ने राहुल गांधी से मिलकर वन रैंक, वन पेंशन की मांग की थी.

 

गौरतलब है कि पीएम पद के बीजेपी उम्मीदवार बनने के बाद मोदी ने अपनी पहली रैली सेना के भूतपूर्व जवानों के बीच ही की थी और रेवाड़ी की उस रैली में वन रेंक, वन पेंशन की मांग को जोरशोर से उठाया था.

 

सेना में वन रैंक वन पेंशन की मांग बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने रेवाड़ी की रैली किया था. उन्होंने कहा था कि यदि अटल बिहारी वाजपेई की सरकार 2004 में बन गई होती तो वन रैंक वन पेंशन की मांग मंजूर कर ली गई होती.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: सेना में वन रैंक, वन पेंशन लागू, श्रेय लेते हुए राहुल गांधी ने कहा- सेना के जवानों के सेंटिमेंट्स को सरकार समझती है
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017