सोनिया और राहुल पर नहीं फूटा हार का ठीकरा

सोनिया और राहुल पर नहीं फूटा हार का ठीकरा

By: | Updated: 19 May 2014 10:38 AM
नई दिल्ली. पार्टी के भीतर हार के कारणों, नेतृत्व में बदलाव को लेकर चर्चा तेज है. सोमवार शाम को हार के कारणों पर माथापच्ची करने के लिए कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक खत्म हो गई.

 

कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि लोकसभा में करारी हार सोनिया गांधी निराश हैं. विरोधियों ने समाज में ध्रुविकरण किया.  द्विवेदी ने कहा कि सोनिया गांधी ने कहा कि मैं हार की जिम्मेदारी लेती हूं. हमारी कुछ कमियां रही हैं.  विपक्ष ने बेहिसाब चुनावी प्रचार में खर्च किया.  सोनिया गांधी ने कहा कि हमने अपने कार्यक्रमों का प्रचार नहीं कर पाए हैं.

 

मनमोहन सिंह ने कहा कि सरकार के स्तर पर जो कमियां रह गईं उसकी मैं जिम्मेदारी लेता हूं. मनमोहन सिंह ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष और सोनिया गांधी ने जितना श्रम किया और बोझ उठाया. इसलिये आपको पद छोड़ना ठीक नहीं है.  महंगाई और भ्रष्टाचार की हार की वजह है.

 

राहुल गांधी ने कहा कि मैं भी इसकी जिम्मेदारी लेता हूं. इस पर एक मत और एक राय से सभी सदस्यों ने कहा कि इस पर चर्चा नहीं होनी चाहिए. इस समय यह चर्चा होनी चाहिए कि कैसे इस हार से उबरना है.

 

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने अपना इस्तीफा पेशकश की. लेकिन पार्टी ने इससे इनकार कर दिया. पार्टी ने सोनिया के नेतृत्व में भरोसा जताया है.

 

सीवीसी ने सर्वसम्मति से राहुल गांधी और सोनिया के नेतृत्व पर भरोसा जताया है.

 

इस बात को लेकर पहले भी चर्चा थी. लेकिन इस बात की पूरी संभावना है कि बैठक में पार्टी के चुनाव प्रचार की रणनीति और गठबंधन के तरीके पर असहज करने वाले सवाल उठाए जा सकते हैं.

 

CWC की बैठक से पहले अहमद पटेल का बड़ा बयान- कहा हार के लिए सिर्फ राहुल जिम्मेदार नहीं

 

 

 

आपको बता दें कि अहमद पटेल ने कहा, ‘‘इस परिणाम के लिए आप किसी एक व्यक्ति को कैसे जिम्मेदार ठहरा सकते हैं . यह पार्टी और सरकार की सामुहिक जिम्मेदारी है . पार्टी की इस पराजय के लिए मुझ सहित सभी जिम्मेदार हैं .

 

 

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 2019 से पहले बढ़ी पीएम मोदी मुश्किलें, सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी ने खोला मोर्चा