सोने पर टैक्‍स के खिलाफ अन्‍ना हजारे

सोने पर टैक्‍स के खिलाफ अन्‍ना हजारे

By: | Updated: 03 Apr 2012 01:16 AM


रालेगण
सिद्धि:
समाजसेवी और
गांधीवादी नेता अन्‍ना
हजारे भी काले धन की रोकथाम
के लिए सोने पर टैक्स लगाने
के सरकार के फैसले के विरोध
में आ गए हैं.

रालेगण
सिद्धि में व्यापारी अन्ना
से मुलाकात करने गए तो
उन्‍होंने कहा कि सोने पर
टैक्स लगाने से भ्रष्टाचार
को बढ़ावा मिलेगा.

अन्ना
ने कहा है कि वो इस बारे में
वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी
को चिट्ठी लिखेंगे.

अन्‍ना
हजारे के मुताबिक, 'सरकार का
यह फैसला समाज पर अन्‍याय
करने वाला है. व्‍यापारी वैट
भरने के लिए तैयार है, लेकिन
उन पर एक्‍साइज के जो नियम
लगाए हैं वो बेहद खतरनाक हैं.'

अन्‍ना
सोने पर टैक्स के विरोध में
हैं यह बात तब सामने आई जब
सोने के व्‍यापारियों ने
रालेगण जाकर उनसे मुलाकात की.

व्यापारियों
ने दावा किया है कि अन्ना ने
उन्हें सलाह दी कि वो
अपने-अपने सांसदों के घर के
सामने धरना दें.

इससे पहले
योग गुरु बाबा रामदेव भी सोने
पर लगे टैक्‍स के खिलाफ अपना
विरोध जता चुके हैं.

गौरतलब
है कि सरकार काले धन की
रोकथाम करना चाहती है. इसके
लिए वह सोने के सौदों और उनके
खरीदारों पर नजर रखना चाहती
है. सरकार जानना चाहती है कि
सोने की खरीद के लिए पैसे
कहां से आए.

बजट पेश करते
समय सरकार ने जो ऐलान किया था
वो इस तरह है:

सरकार ने दो
लाख से ज्यादा की सोने की
खरीद पर एक फीसदी टैक्स लगा
दिया था.
सोने पर आयात शुल्क
दो फीसदी से बढ़ाकर चार फीसदी
कर दिया था.
सोने के बिस्किट
पर मिलने वाला कर्ज खत्म कर
दिया गया था.
सोने के गहनों
पर कर्ज की सीमा 70 फीसदी से
घटाकर 60 फीसदी कर दी गई थी.





संबंधित खबरें




यह
फैसला अन्‍यायपूर्ण है:
अन्‍ना






सर्राफा
व्‍यापारियों की गुंडागर्दी






योग
गुरु बाबा रामदेव की पलटी






जायसवाल
ने सरकार को कोसा










फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 4 साल बाद डीजीएमओ स्तर की बातचीत पर विचार कर रहा पाकिस्तान: मीडिया रिपोर्ट