स्टार रेटिंग उपकरण अब करेंगे ज्यादा बिजली बचत

स्टार रेटिंग उपकरण अब करेंगे ज्यादा बिजली बचत

By: | Updated: 20 Apr 2014 11:20 AM
नई दिल्ली: नए मानकों के लागू होने से स्टार रेटिंग वाले एयर कंडीशनर और रेफ्रीजिरेटर अब पहले से ज्यादा बिजली की बचत करने वाले होंगे. नए नियम जनवरी से लागू हैं जिनमें एसी और फ्रिज जैसे उपकारणों स्टार रेटिंग के लिए बिजली की बचते के मामले में पहले के मानकों के मुकाबले 20 प्रतिशत अधिक दक्षता का प्रदर्शन करना होगा.

 

बिजली मंत्रालय के अधीन आने वाले उर्जा कार्यकुशलता ब्यूरो के महानिदेशक अजय माथुर ने यह जानकारी देते हुये कहा, ‘‘हमने इस साल एक जनवरी से स्टैंडर्ड एंड लेबलिंग कार्यक्रम को और कड़ा कर दिया है. कार्यक्रम के अंतर्गत आने वाले उपकरणों के एक-एक स्टार कम किये गये हैं. पिछले साल तक जो उपकरण एक स्टार वाले थे, उन्हें बाजार से हटा लिया गया है और दो स्टार वाली क्षमता के उपकरण अब एक स्टार वाले उपकरण बन गये हैं.’’

 

बिजली की किफायत खपत करने वाले उपकरणों के विनिर्माण को प्रोत्साहित करने के सरकार के स्टैंडर्ड एंड लेबलिंग कार्यक्रम के तहत उपकरणों पर 5 स्टार तक निशान लगाये जाते हैं. जिस उपकरण पर जितने ज्यादा स्टार होते हैं, वह उतनी ही कम बिजली खपत करता है. नये नियमों के तहत उपकरणों पर लगे सितारों को कम कर मानदंडों को और कड़ा किया गया है.

 

उर्जा बचत की विभिन्न योजनाओं में स्टैंडर्ड एंड लेबलिंग कार्यक्रम सबसे सफल रहा है. इस कार्यक्रम से सालाना 1,000 से 1,100 मेगावाट बिजली की बचत हो रही है. उर्जा बचत के विभिन्न कार्यक्रमों से 2013-14 में 1,250 मेगावाट बिजली की बचत हुई. बिजली मंत्रालय ने 12वीं पंचवर्षीय योजना में उर्जा संरक्षण के विभिन्न उपायों से 12,000 मेगावाट बिजली बचत का लक्ष्य रखा है.

 

माथुर ने इस बारे में विस्तार से बताते हुए कहा, ‘‘पिछले साल जिन उपकरणों पर पांच स्टार थे, उन्हें अब चार कर दिया गया है. इसी प्रकार, चार सितारे वाले उपकरण तीन, तीन सितारे वाले उपकरण पर दो और दो स्टार वाले उपकरण पर अब एक सितारे वाले होंगे. इस प्रकार, पिछले साल तक एक स्टार वाले उपकरण अब बाजार में नहीं बिकेंगे.’’ फिलहाल 14 उपकरण स्टार रेटिंग कार्यक्रम के अंतर्गत आते हैं. इसमें से चार उपकरण..रेफ्रिजरेटर :फ्रास्ट फ्री:, एसी, ट्यूबलाइट और ट्रांसफार्मर के मामले में स्टार रेटिंग अनिवार्य है. इसके अलावा पंप, मोटर, प्रिंटर, लैपटाप, वाशिंग मशीन, एलपीजी स्टोव, सीलिंग पंखों आदि के मामले में यह स्वैच्छिक है.

 

स्टैंडर्ड एंड लेबलिंग नियमों को कड़ा किये जाने से बिजली बचत पर पड़ने वाले असर के बारे में पूछे जाने पर बीईई महानिदेशक माथुर ने कहा, ‘‘एसी के मामले में जहां 8 से 10 प्रतिशत बिजली की बचत होगी वहीं रेफ्रिजरेटर में 15 से 20 प्रतिशत बिजली की बचत होगी.’’ स्टार रेटिंग के अंर्तगत आने वाले उपकरणों पर यह बचत करीब 10 से 20 प्रतिशत होगी.

 

बीईई उर्जा बचत को बढ़ावा देने के लिये स्टार रेटिंग के अलावा बचत लैंप योजना, ईसीबीसी :उर्जा संरक्षण बिल्डिंग कोड: जैसे कार्यक्रम चला रहा है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story नसीमुद्दीन सिद्दीकी की 'घरवापसी' के बाद कांग्रेस में उठने लगे विरोध के स्वर