हम गुजराती विरोधी सामना के संपादकीय का समर्थन नहीं करते: आदित्य ठाकरे

हम गुजराती विरोधी सामना के संपादकीय का समर्थन नहीं करते: आदित्य ठाकरे

By: | Updated: 05 May 2014 10:31 AM
मुंबई: ‘सामना’ समाचार पत्र के शिवसेना के मुखपत्र नहीं होने को लेकर उठे विवाद पर विराम लगाते हुए उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ठाकरे ने यह स्पष्ट किया कि शिवसेना ने कभी मराठी दैनिक अखबार में विवादित गुजरात विरोधी संपादकीय का समर्थन नहीं किया.

 

पार्टी के युवा संगठन ‘युवा सेना’ के प्रमुख आदित्य ने आज यहां बताया, ‘‘पिछले दो दिनों से गैरजरूरी विवाद को हवा दी गई और शिवसेना एवं गुजराती समुदाय के बीच के प्रगाढ़ होते संबंधों को तोड़ने का प्रयास किया गया. अब इस विवाद पर विराम लग जाना चाहिए.’’

 

आदित्य ने अपने बयान में कहा, ‘‘जैसा शिवसेना पार्टी अध्यक्ष उद्धव जी ठाकरे ने अपने व्यक्तिगत बयान में कहा था, हम हमारे बीच या मुंबई के गुजराती समुदाय के बीच कोई भेदभाव नहीं चाहते और न ही हमने कभी पार्टी के किसी व्यक्ति या नेता द्वारा इस तरह के विचारों का समर्थन किया है. ये हमारे विचार हैं, हमने कभी एक मई को प्रकाशित संपादकीय विचारधारा का समर्थन नहीं किया है.’’

 

आदित्य ने कहा, ‘‘गुजराती लोग हमेशा ही बाला साहब ठाकरे के करीब रहे हैं. हम सभी जरूरत के समय हमेशा एक दूसरे की मदद करते हैं और वर्ष 1995-99 की शिवसेना-भाजपा सरकार में उन्होंने सुरक्षित भी महसूस किया.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमने भी भुज भूकंप या नर्मदा बांध परियोजना के समय अपने स्तर से प्रयास किए. यह स्पष्ट करता है कि पार्टी गुजराती लोगों को मुंबईकरों के दोस्त के तौर पर देखती है और उनमें कोई भेदभाव नहीं करती.’’

 

आदित्य ठाकरे ने कहा, ‘‘यह एकता मजबूती से दिखी और व्यक्तिगत तौर पर लोकसभा चुनाव में मैंने जो प्यार महसूस किया चाहे वह दक्षिण मुंबई हो या उत्तरी मुंबई, ठाणे हो या कल्याण, इसने कई नेताओं को हमारी इस एकता को तोड़ने के लिए प्रेरित भी किया. मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि वषरें से हमारे बीच जो संबंध रहे हैं वह हमेशा था, है और बना रहेगा.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘समुदाय ने दिल्ली में महाराष्ट्र की आवाज बुलंद करने के लिए पार्टी को बिना शर्त समर्थन और सहयोग दिया है और इनकी चिंता को समान रूप से पार्टी द्वारा उठाया भी गया है. पार्टी उनमें कोई भेदभाव नहीं करती और उन्हें मुंबईकरों की तरह ही देखती है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘उद्धव जी द्वारा जो भावनाएं उद्घाटित की गई हैं उससे मुझे उम्मीद है कि यह बेकार का विवाद थम जाएगा.’’

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story मुंबई में 240 करोड़ में बिका लक्जरी फ्लैट, 4,500 स्क्वायर फीट की एरिया में फैला हुआ है