हम चौथे विश्व युद्ध के मध्य हैं: प्रणब मुखर्जी

हम चौथे विश्व युद्ध के मध्य हैं: प्रणब मुखर्जी

By: | Updated: 25 Jul 2012 06:58 AM


नई
दिल्ली:
देश नए राष्ट्रपति
प्रणब मुखर्जी ने बुधवार को
आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को
चौथा विश्व युद्ध बताया,
क्योंकि यह दुनिया में कहीं
भी सिर उठा सकता है.

राष्ट्रपति
के रूप में अपने पहले भाषण
में मुखर्जी ने कहा कि शांति
के स्पष्ट पुरस्कारों ने इस
सच्चाई को अस्पष्ट कर दिया है
कि 'युद्ध का युग समाप्त नहीं
हुआ है.'

मुखर्जी ने कहा,
"हम चौथे विश्व युद्ध के मध्य
खड़े हैं. तीसरा विश्व युद्ध
शीत युद्ध था लेकिन एशिया,
अफ्रीका और लैटिन अमेरिका
में यह 1990 के दशक में अपनी
समाप्ति तक बहुत गर्म था.
आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई चौथा
विश्व युद्ध है, और यह विश्व
युद्ध इसलिए है क्योंकि यह
अपना शैतानी सिर दुनिया में
कहीं भी उठा सकता है."

राष्ट्रपति
मुखर्जी ने कहा, "कई अन्य
देशों द्वारा आतंकवाद की
खतरनाक गम्भीरता और जहरीले
परिणामों को स्वीकार किए
जाने के बहुत पहले से ही भारत
इस लड़ाई के अग्रिम मोर्चे पर
है."

मुखर्जी ने संसद भवन
के केंद्रीय कक्ष में एक भव्य
समारोह के तहत बुधवार को
राष्ट्रपति पद की शपथ ली.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आज सुबह अहमदाबाद में पीएम मोदी के साथ रोड शो करेंगे इजरायली पीएम नेतन्याहू