हां! मैंने कराए धमाके... नहीं है इसका अफसोस: यासीन

हां! मैंने कराए धमाके... नहीं है इसका अफसोस: यासीन

By: | Updated: 29 Aug 2013 09:49 PM


नई दिल्ली/पटना: देश
में 45 धमाकों के आरोपी यासीन
भटकल को आज पटना से दिल्ली
लाया जाएगा. एनआईए सूत्रों के
मुताबिक भटकल ने धमाकों में
शामिल होने के बात कबूल की है.
सूत्रों के मुताबिक यासीन ने
कहा है कि उसे इस बात का कोई
अफसोस नहीं है.




ग़ौरतलब है कि खुफिया
एजेंसियों ने आतंकवाद के
खिलाफ एक और बड़ी सफलता हासिल
करते हुए बुधवार की रात
भारत-नेपाल सीमा से
अतिवांछित आतंकवादी यासीन
भटकल को गिरफ्तार किया था.
खुफिया अधिकारियों ने भटकल
के साथ एक अन्य आतंकवादी
असदुल्लाह अख्तर को भी
गिरफ्तार किया है.




जानिए
आखिर कैसे पकड़ा गया यासीन
भटकल






यासीन
भटकल जितना ही खतरनाक है
असदुल्ला






गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने
दोनों को मोतिहारी के मुख्य
न्यायिक दंडाधिकारी के
न्यायालय में पेश किया जहां
से एनआईए के अनुरोध पर दोनों
आतंकवादियों को तीन दिन की
ट्रांजिट रिमांड पर सौंप
दिया गया.




आतंकवादी
यासीन भटकल नेपाल बॉर्डर से
गिरफ्तार






हैदराबाद
ब्लास्ट: भटकल से पूछताछ
करेगी आंध्र पुलिस






एनआईए अब भटकल को पटना ले
दिल्ली लाने की तैयारी में
है. पुलिस और राष्ट्रीय जांच
एजेंसी की टीम भटकल से लगातार
पूछताछ कर रही है. राज्य
पुलिस मुख्यालय के एक
अधिकारी ने बताया कि भटकल को
शुक्रवार को विशेष विमान से
दिल्ली ले जाया जाएगा.




http://www.youtube.com/watch?v=dS1YZVmmAi8





महाराष्ट्र
एटीएस भटकल की हिरासत
मांगेगा: पाटिल






कई
बम ब्लास्ट मामलों में
वांटेड है भटकल






यासीन भटकल इंडियन
मुजाहिदीन आतंकवादी संगठन
का सह-संस्थापक है, और देश के 12
राज्यों की पुलिस द्वारा
पिछले पांच वर्षो से विभिन्न
बम विस्फोटों एवं आतंकी हमले
की घटनाओं कथित रूप से
संलिप्त रहने के कारण वांछित
है.




इससे पहले लश्कर-ए-तैयबा का
प्रमुख आतंकी और बम बनाने का
विशेषज्ञ अब्दुल करीम टुंडा
को भी भारत-नेपाल सीमा से 16
अगस्त को गिरफ्तार किया गया
था.




गुजरात
पुलिस मांगेगी भटकल की
हिरासत






यासीन
की हिरासत मांगेगी कर्नाटक
पुलिस






पुलिस ने बताया कि भटकल पर
देश के विभिन्न शहरों में 11
बड़े बम विस्फोटों में
संलिप्त रहने का संदेह है.
दिल्ली, मुम्बई, बेंगलुरू,
अहमदाबाद, पुणे, उत्तर प्रदेश
और सूरत में भटकल द्वारा कथित
रूप से किए गए बम विस्फोटों
में करीब 600 लोगों की जानें गई
और सैकड़ों अन्य लोग घायल
हुए.




भटकल की गिरफ्तारी की घोषणा
करते हुए केंद्रीय गृह
मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने
संसद के बाहर संवाददाताओं से
कहा, "भटकल को बुधवार रात
गिरफ्तार किया गया. वह बिहार
पुलिस की हिरासत में है और
पूछताछ जारी है."




प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
को भी उसकी गिरफ्तारी की
जानकारी दी गई.




चार
साल पहले गिरफ्त में आकर भी
निकल गया था यासीन






अहमदाबाद
ब्लास्ट के लिए शाहरुख नाम
रखा था यासीन ने






अधिकारियों ने बताया कि भटकल
को खुफिया एजेंसियों और
बिहार पुलिस द्वारा संयुक्त
अभियान में गिरफ्तार किया
गया. पुलिस अधिकारियों ने
बताया कि भटकल पिछले पांच
वर्षो से फरार चल रहा था और
नेपाल, बांग्लादेश और
पाकिस्तान में शरण लिए हुए
था.




कौन
है यासीन भटकल






भटकल
के परिवार का बयान






हैदराबाद पुलिस
प्रमुख अनुराग शर्मा ने
दूसरे आतंकवादी की पहचान
हैदराबाद के दिलसुखनगर में
हुए बम विस्फोट में संलिप्त
संदिग्ध आतंकी असदुल्लाह
अख्तर के रूप में कर ली है.
उन्होंने कहा कि दोनों से
आंध्र प्रदेश पुलिस
दिलसुखनगर विस्फोट के
संदर्भ में पूछताछ करेगी. इस
घटना में 18 लोगों की मौत हो गई
थी और कई अन्य घायल हुए थे.




35-36 साल के मोहम्मद अहमद
जर्रार सिद्धिबप्पा उर्फ
भटकल उत्तरी कर्नाटक के भटकल
जिले से ताल्लुक रखता है.
भटकल ने उसके भाइयों रियाज और
इकबाल और चार अन्य के साथ 2008
में इंडियन मुजाहिदीन की
स्थापना की थी.

कैसे
गिरफ्तार किया गया भटकल को






भटकल 13 फरवरी 2010 में पुणे के
जर्मन बेकरी में हुए विस्फोट
की घटना में भी वांछित है, इस
घटना में 17 लोगों की जान चली
गई थी. इंडियन मुजाहिदीन को
अमेरिका ने 2011 में फारेन
टेरररिस्ट आर्गेनाइजेशन के
रूप में इसे गैरकानूनी घोषित
कर दिया था.




माना जाता है कि भटकल और उसके
साथी 13 जुलाई 2011 को मुंबई के
ओपेरा हाउस, जावेरी बाजार और
दादर पश्चिम में हुए विस्फोट
में भी शामिल रहे हैं. इस घटना
में 27 लोगों की मौत हो गई थी.

दिल्ली
पुलिस ने 2011 में उसकी सूचना
देने वाले को 15 लाख रुपये इनाम
देने की घोषणा की थी. इसी तरह
महाराष्ट्र की एंटी-टेरर
स्क्वायड (एटीएस) ने भी इस साल
उसकी सूचना देने वाले को 10 लाख
रुपये इनामस्वरुप देने की
घोषणा की थी.




भटकल ने 2008 के दिल्ली विस्फोट
से पहले शादी की थी. भटकल के
पिता जरार सिद्धिबापा ने कहा
कि उन्हें इस बात की राहत है
कि उनका बेटा जीवित है.




उन्होंने आईएएनएस से कहा, "जब
हमें मीडिया द्वारा पता चला
कि हमारा बेटा जीवित है और
पुलिस हिरासत में है तो हमें
बहुत राहत मिली. क्योंकि हमें
पहले इस बात का डर था कि उसे
फर्जी एनकाउंटर में मार दिया
गया होगा."



फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story UAE के अखबार खलीज टाइम्स का दावा, ‘बाथटब में बेसुध गिरी पड़ी हुई थीं श्रीदेवी’