हिंदी से मात खा गए चिदंबरम, नहीं तो मोदी को देते टक्कर

हिंदी से मात खा गए चिदंबरम, नहीं तो मोदी को देते टक्कर

By: | Updated: 01 Apr 2014 05:29 AM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के लिए लगभग तमाम दलों ने अपने प्रत्याशियों को तय कर लिया है. लेकिन वाराणसी सीट को लेकर कांग्रेस में असमंजस की स्थिति अभी तक बनी हुई है. दिग्विजय सिंह से होते हुए बात राशिद अल्वी तक पहुंची लेकिन उम्मीदवार तय नहीं हो पाए हैं. इस सीट के लिए अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ने भी आवाज लगाई लेकिन हिंदी में मात खाने के कारण खुद को पीछे कर लिया.

 

वाराणसी में नरेन्द्र मोदी को चुनौती देने संबंधी सवाल का जवाब देते हुए चिदम्बरम ने कहा कि ''मेरी इच्छा है कि मैं चुनाव लड़ सकता लेकिन मैं हिंदी नहीं बोल सकता. और मुझे यकीन है मोदी भी शिवगंगा से चुनाव नहीं लड़ना चाहेंगे.’’ शिवगंगा चिदम्बरम का क्षेत्र है जहां से उनके पुत्र कार्ति चुनाव लड़ रहे हैं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी मोदी के खिलाफ किसी मजबूत उम्मीदवार की तलाश में है. यदि इसमें एक दिन लगते हैं तो ठीक है.’’

 

लोकसभा चुनाव न लड़ने के अपने फैसले को न्यायोचित बताते हुए आज कहा कि जीवन टी 20 मैच की तरह है और ‘‘यह फैसला मुझे ही करना है कि जिंदगी के अंतिम दस ओवर कैसे खेलूंगा’’.

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदम्बरम ने यहां कांग्रेस मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह एक अच्छा सवाल है. पिछले तीस सालों में मैंने आठ चुनाव लड़े हैं. मुझे अपने जीवन में कई और चीजें करनी है. जीवन में सिर्फ एक पारी होती है. यह टी 20 मैच या पचास ओवर वाले एक दिवसीय मैच की तरह है. मुझे यह तय करना पड़ेगा कि मैं अपने जीवन का अंतिम दस ओवर किस तरह से खेलूं.’’ यह पूछे जाने पर कि क्या वह राज्य सभा में जाना चाहते हैं 68 वर्षीय वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने तपाक से पूछा ‘‘किसी ने इसकी पेशकश नहीं की है. क्या आप पेशकश कर रहे हैं ?’’

 

उन्होंने इस बात को गलत बताया कि वह चुनाव हारने के डर से चुनाव लड़ने से अपने को दूर रख रहे हैं. उन्होंने कहा कि वह 1999 में चुनाव हारे हैं लेकिन इसने उन्हें 2004 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ने से नहीं रोका. चिदम्बरम ने कहा कि वह पार्टी के लिए काम करते रहेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि वह यात्रा करना चाहते हैं पढना लिखना चाहते हैं. यह पूछने पर कि क्या वह आत्म कथा लिखेंगे , उन्होंने कहा वह इतने बुजुर्ग नहीं हुए हैं कि आत्मकथा लिखें.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद