नरोदा गाम दंगा केस: कोर्ट में अमित शाह का पूरा बयान, शब्द-दर-शब्द

नरोदा गाम दंगा केस: कोर्ट में अमित शाह का पूरा बयान, शब्द-दर-शब्द

अहमदाबाद के नरोदा गाम का नरसंहार 2002 के नौ बड़े साम्प्रदायिक दंगों में एक है, जिसकी जांच एसआईटी ने की थी. इस दंगे में 11 लोगों की जान चली गई थी. इस मामले में कुल 82 व्यक्तियों पर मुकदमा चल रहा है.

By: | Updated: 18 Sep 2017 01:04 PM
अहमदाबाद: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह साल 2002 में नरोदा गाम में हुए दंगा मामले में गुजरात की पूर्व मंत्री और बीजेपी नेता मायाबेन कोडनानी की ओर से बचाव पक्ष के गवाह के रूप में आज विशेष एसआईटी अदालत में पेश हुए. शाह ने न्यायाधीश पी.बी. देसाई के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया. देसाई ने पिछले मंगलवार को कोडनानी के एक आवेदन पर शाह को समन किया था.

नरोदा गाम दंगा केस में शाह ने दिया बयान, बोले- 'माया कोडनानी उस वक्त मेरे साथ थीं'

गवाह- अमित शाह शाह

जज- पीबी देसाई, प्रिंसिपल जज फॉर एसआईटी

कोर्ट रुम में क्या हुआ?

जज- आपका नाम

अमित शाह- अमित शाह शाह

जज- उम्र

अमित शाह- 53

जज- कहां रहते हैं?

अमित शाह- (एड्रेस बताया)

जज- क़सम खाइए

अमित शाह ने क़सम खाई

वक़ील- 28/02/2002 के दिन गोधरा में हुए नरसंहार के बारे में कब पता चला?

अमित शाह- गोधरा की घटना के बाद हिंसा फैली. इस दिन विधानसभा सत्र जारी था. दूसरा दिन विधानसभा सत्र होगा, ऐसी घोषणा स्पीकर ने की.

वकील- 27/02/2002 को आपका कार्यक्रम क्या था.

अमित शाह- मैं घर से निकलकर विधानसभा गया. 7.30 बजे घर से निकला.

वक़ील- सदन कितने बजे था

अमित शाह- 8.30 बजे

वक़ील- आप कैसे गए?

अमित शाह- गाड़ी से, मेरा ड्राइवर चला रहा था.

वकील- विधानसभा में कौन था?

अमित शाह- सारे सदस्य और स्पीकर

वकील- इसदिन विधानसभा में क्या हुआ?

अमित शाह- कार्यक्रम पहले से तय था. गोधरा मे मृतकों के परिजनों को श्रद्धांजली दी गई. 30-35 मिनट चला.

वकील- (एक्जीबीट १७६२ दिखाया) यह किसका नाम है. दस्तखत किसकी है?

अमित शाह- यह मायाबेन लिखा है. दस्तखत मैं नहीं जानता, लेकिन विधानसभा में मैंने मायाबेन को देखा था.

वकील- वहां से आप कहां गए?

अमित शाह- मेरे विधानसभा क्षेत्र नारंगपुरा में सोला सिविल अस्पताल आता है और वहां से लोगों को फोन आ रहे थे. इसलिए मैं विधानसभा से सीधा अस्पताल के लिए निकला था.

वकील- कितने बजे पहुंचे ?

अमित शाह- मैं 9.30 बजे से 9.45 के बीच अस्पताल पहुंचा था.

वकील- वहां परिस्थिति क्या थी और वहां से आप कहां गए?

अमित शाह- वहां बहुत भीड़ थी. अफ़रा-तफ़री थी और उपचार जारी था.

वकील  बाद में आप कहां गए?

अमित शाह- मैं पोस्टमार्टम वाली जगह गया. वहाँ आईडेन्टीफिकेशन जारी था. कई लोग वहां थे.

वकील- आप गए उसके बाद वहां कौन-कौन वह थे? आप जिन्हें पहचानते थे वह कौन क़ौन थे?

अमित शाह- बहुत सारे थे..

वकील- विधानसभा मेx जिन्हें जानते थे उनमें से कौन वहां था?

अमित शाह- मायाबेन वहां थीं. मैं निकल रहा था तब मैंने उन्हें देखा था.

वकील- वहां क्या हुआ.

अमित शाह- वहां भीड़ थी. कई लोग थे. जयदीप पटेल और अन्य कार्यकर्ता थे. मैं रुकना चाहता था लेकिन नारेबाजी की वजह से पुलिस ने मुझे बाहर भेज दिया था.

वकील- फिर क्या हुआ ?

अमित शाह- गाड़ी दूर थी और पुलिस ने घेर लिया, क्योंकि जनता ने हमें भी घेर लिया था. नारेबाज़ी चल रही थी. मुझे गाड़ी में बिठाकर ले गए उस दौरान माया बहन को भी पुलिस लेकर आई. मुझे और उन्हें पुलिस की एक जीप में बैठाकर पुलिस दूर ले गई.

वकील- यह कितने बजे हुआ?

अमित शाह-11 से 11.15 बजे हुआ.

जज अमित शाह से- अगर आपको कुछ समझ नहीं आ रहा तो आप प्रश्न दोबारा पूछे. कुछ भी एसा जवाब न दें जोकि आप को पता न हो.

अमित शाह- जी हां

27 तारीख़ के बारे में पूछ रहे हैं.

विरुद्ध वकील- विधानसभा में गाड़ी कहां पार्क थी? पार्किंग में?

अमित शाह- पार्किंग में

विरुद्ध वकील- कहां है पार्किंग?

अमित शाह- मुझे नहीं पता, क्योंकि मुझे गाड़ी चलानी नहीं आती.

विरुद्ध वकील- आपको कब पता चला गोधरा कांड के बारे में?

अमित शाह- गृहमंत्री ने 11.30 बजे घोषणा की तब.

विरुद्ध वकील- कितनी देर सदन चला?

अमित शाह- 15 से 20 मिनट चला. मुझे सही नहीं पता है.

28 तारीख़ के बारे में

विरुद्ध वकील- आप सदन से कब निकले?

अमित शाह- 10.30 के आसपास

विरुद्ध वकील- किसने घेरा था? मायाबेन को भी?

अमित शाह- वापसी के समय मुझे घेरा था.

विरुद्ध वकील- आप अपनी गाड़ी से कब उतरे?

अमित शाह- मुझे ठीक से याद नहीं है, लेकिन मेरी गाड़ी आई, इसलिए मैं पुलिस की गाड़ी से निकलकर अपनी गाड़ी में बैठा.

विरुद्ध वकील- माया बेन कहा थीं?

अमित शाह- मैं गाड़ी से निकला वह वहीं पुलिस की गाड़ी में बैठी रहीं.

विरुद्ध वकील- आप नरोदा गाम कब गए?

अमित शाह- मैं नरोदा गाम नहीं गया, लेकिन कई बार वहीं से सड़क से गुज़रा.

विरुद्ध वकील- एसआईटी की रचना हुई यह जानते हैं?

अमित शाह- हां

विरुद्ध वकील- सुनवाई और ज़ुबानी के लिए पब्लिक नोटिस निकाली. आपको पता है?

अमित शाह- हां

विरुद्ध वकील- आप ने एसआईटी में कोई बयान दिया है?

अमित शाह- नहीं

विरुद्ध वकील- आप जानते हैं कि मायाबेन पर मुक़दमा चल रहा है?

अमित शाह- हां

विरुद्ध वकील- आप बयान देने नहीं आए?

अमित शाह- मुझे कोई समन ही नहीं दिया गया.

विरुद्ध वकील- आपको मायाबेन ने सबूत के लिए नहीं बुलाया?

अमित शाह- मुझे मायाबेन ने बुलाया था, लेकिन मैं और मायाबेन साथ में होने के बावजूद एसआईटी ने मुझे बुलाने की ज़रूरत भी नहीं जानी. ना ही मुझे समन भेजा.

विरुद्ध वकील- मायाबेन को बचाने के लिए आप ग़लत बयान दे रहे हैं.

अमित शाह- यह सच नहीं है.

सुनवाई खत्म- 11.45 बजे

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ के खेल में फंस गयी है कांग्रेस, 18 दिसंबर को देखेगी आखिरी एपिसोड: पीएम मोदी