ऑटोग्राफ हुआ पुराना, 2014 में सेल्फी का दिखा बोलबाला

By: | Last Updated: Monday, 22 December 2014 6:42 AM

कोलकाता: ऑटोग्राफ को पीछे छोड़ते हुये वर्ष 2014 के दौरान भारत में सेल्फी शहरी संस्कृति के एक हिस्सा के रूप में उभर कर सामने आयी.

 

चाहे नयी केश सज्जा दिखानी हो, सेलिब्रिटी से मुलाकात की खबर देनी हो, दोस्तों के साथ पार्टी या किसी सुंदर जगह की सैर की जानकारी देनी हो, सेल्फी लाखों लोगों की पसंद बन गयी.

 

सेल्फी का मतलब खुद की तस्वीर लेना है और फिलहाल यह खुद को अभिव्यक्ति करने का बेहतर माध्यम माना जा रहा है.

 

फिल्म अभिनेता शाहरूख खान जब कोलकाता में अपनी फिल्म ‘हैप्पी न्यू ईयर’ के प्रचार के लिए सेंट जेवियर्स कॉलेज पहुंचे थे तब किसी ने कागज-कलम निकाल कर उनसे ऑटोग्राफ की दरख्वास्त नहीं की. इसके बजाय हर कोई मोबाइल फोन उनके चेहरे के पास ले जाकर क्लिक कर रहा था ताकि उसे तुरंत-फुरंत फेसबुक पर डाला जा सके.

 

आस्ट्रेलियाई क्रिकेट के दिग्ग्ज खिलाड़ी रहे शेन वार्न ऑटोग्राफ युग की समाप्ति की घोषणा करने वाले पहले व्यक्तियों में शामिल थे.

 

मई में, उन्होंने ट्वीट किया ‘‘आठ बजे सुबह से पहले, सुबह की सैर के दौरान अब तक लोगों के साथ पांच सेल्फी ली गयी है और इसके साथ मुझे लगता है कि ऑटोग्राफ का युग समाप्त हो गया है.’’

 

ऐसा नहीं है कि सेल्फी का जादू सिर्फ युवाओं और छात्रों पर छाया है, राजनेताओं, फिल्मी हस्तियों, खिलाड़ियों, आम लोगों और यहां तक की पोप भी सेल्फी का इस्तेमाल कर रहे हैं.

 

लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कई बार सेल्फी लिए. वह जब अपनी मां से मिलने गए तो उस वक्त भी सेल्फी लिए. उनकी यह सेल्फी बेहद लोकप्रिय हुईं और बड़ी संख्या में रि-ट्वीट की गई थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: 2014: selfie
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: 2014 selfie
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017