गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने से 30 बच्चों की मौत, सियासत शुरू

बताया जा रहा है कि 66 लाख रुपये का भुगतान न होने की वजह से ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म ने ऑक्सीजन सप्लाई कल रात से ठप कर दी थी. जिस अस्पताल में बच्चों की मौत हुई है उसका दौरा 9 अगस्त को ही योगी ने किया था.

30 children die due to stoppage of oxygen supply in Gorakhpurs BRD hospital

नई दिल्लीः यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 30 बच्चों की मौत हो गई है. बीआरडी मेडिकल कॉलेज (बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज) में 2 दिन में 30 मौतें होने के बाद हंगामा बरपा है. बताया जा रहा है कि वॉर्ड में ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने से 30 मासूमों की मौत हो गई है. मामले पर राजनीतिक हलचल शुरू हो गई हैं और नेताओं का एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप भी जारी है.

वहीं गोरखपुर के इस मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने से दो दिन में 30 बच्चों की मौत के बाद अब सब लीपापोती कर रहे हैं. अस्पताल ऑक्सीजन की कमी से इनकार कर रहा है. उत्तर प्रदेश सरकार के मेडिकल शिक्षा मंत्री ने कहा है कि 24 घंटे में जांच करके सच सामने लाएंगे.

योगी राज में 30 बच्चों की मौत पर सियासत भी जमकर हो रही है. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने ट्वीट करके कहां कि मृतकों के परिजनों को लाश देकर भगा दिया गया, मृतक का पोस्टमार्टम तक नहीं हुआ है, भर्ती कार्ड भी गायब कर दिया गया है. अत्यन्त दुखद.

 

वहीं पूर्व यूपी सीएम अखिलेश यादव ने मृतकों के परिवारजनों को 20-20 लाख रुपये मुआवजा देने की भी मांग की. अखिलेश यादव ने कहा कि गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की दर्दनाक मौत के लिए मौजूदा यूपी सरकार ज़िम्मेदार है.

गोरखपुर मे आक्सीजन की कमी से बच्चों की दर्दनाक मौत , सरकार ज़िम्मेदार।कठोर कार्यवाही हो, 20-20 लाख का मुआवज़ा दे सरकार ।

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) August 11, 2017

कल गोरखपुर में गुलाम नबी आजाद और प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर समेत 10 बड़े नेता मेडिकल कॉलेज पहुचकर हालात का जायजा लेंगे. वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी शोकाकुल परिवारों को सांत्वना दी, और घटना के लिए यूपी की बीजेपी सरकार को दोषी ठहराया.


बकाया न चुकाने के चलते ऑक्सीजन फर्म ने की सप्लाई बंद
बताया जा रहा है कि 66 लाख रुपये का भुगतान न होने की वजह से ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म ने ऑक्सीजन की सप्लाई कल रात से ठप कर दी. लिक्विड ऑक्सीजन तो गुरुवार से ही बंद थी और आज सारे सिलेंडर भी खत्म हो गए. इंसेफेलाइटिस वार्ड में मरीजों ने दो घंटे तक अम्बू बैग का सहारा लिया.
लापरवाही के चलते गई इतनी जानें
मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी का नाम पुष्पा एंड संस बताया जा रहा है. कई रिपोर्टस के मुताबिक मेडिकल कॉलेज में सेंट्रल पाइप लाइन से लिक्विड ऑक्सीजन की सप्लाई की जाती है पर बुधवार से ऑक्सीजन की सप्लाई रोक दी गई थी.

अस्पताल के ICU और दूसरे वार्डों में कल रात 11.30 बजे से ही ऑक्सीजन सप्लाई में रुकावट आ गई थी जो आज सुबह 9 बजे तक लगातार बाधित होती रही. साफ है कि सप्लाई रूकने की बात पहले से पता होने के बावजूद ऑक्सीजन सप्लाई के लिए कोई इंतजाम नहीं हुआ. इसी ऑक्सीजन सप्लाई के कई बार रुकते रहने से 30 मासूम जानों को हाथ से धोना पड़ा.

9 अगस्त को ही सीएम योगी ने किया था अस्पताल का दौरा
जिस अस्पताल में बच्चों की मौत हुई है उसका दौरा 9 अगस्त को ही योगी ने किया था. देखें ट्वीट


यूपी में है डॉक्टर्स की कमी
अभी कल ही खबर आई थी कि उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पतालो में डॉक्टरों की कमी को देखते हुए अगले महीने के पहले सप्ताह तक डॉक्टरों की भर्ती शुरू हो जाएगी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: 30 children die due to stoppage of oxygen supply in Gorakhpurs BRD hospital
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017