किसानों की मौत सरकार को क्यों नहीं दिखती है?

By: | Last Updated: Tuesday, 7 April 2015 10:45 AM
30 farmers dead in 4 days as rain

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: अखिलेश सरकार यूपी में किसानों की मौतों का हिसाब नहीं जुटा पाई है. लेकिन एबीपी न्यूज की पड़ताल बताती है कि सिर्फ बरेली जिले में 19 मौतें हो चुकी हैं. इनमें खुदकुशी और सदमे से हुई मौत शामिल है. किसी को सदमे में हार्ट अटैक हो गया तो किसी ने जहर खाकर जान दे दी.

 

टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि पिछले चार दिनों में उत्तर प्रदेश, हरियाणा , पंजाब और मध्य प्रदेश मिलाकर 30 किसानों की जान फसल बर्बाद होने के कारण चली गई . रिपोर्ट के अनुसार कुछ  किसानों की मौत फसल बर्बाद होने से लगे सदमे से हुई जबकि कुछ ने नुकसान से परेशान हो कर खुदकुशी कर ली . रिपोर्ट के अनुसार अकेले यूपी में 24 किसानों की मौत हुई है, जिनमें 17 लोगों की मौत बरेली जिले में हुई है. प्रशासन मौत की बात तो कबूल रहा है लेकिन फसल बर्बाद होना उसकी वजह नहीं मान रहा है. यूपी सरकार का कहना है कि  बेमौसम की बरसात और ओले गिरने से 35 लोगों की मौत हुई है. यूपी सरकार के मुताबिक किसी भी किसान ने खुदकुशी नहीं की है.

 

केंद्र सरकार भी मान रही है कि अभी तक औपचारिक तौर से कोई आंकड़ा नहीं आया है. पिछले कुछ दिनों में देश के कई इलाकों में हुई बेमौसम बरसात और ओले पड़ने के कारण फसलों को भारी नुकसान हुआ है, जिसके बाद से लगातार किसानों की मौत की खबरें आ रही हैं.

 

सूबे में अन्नदाता अन्न के एक एक दाने को मोहताज है . बेमौसम हुई बारिश ने किसानों की फसले तबाह कर दी है . यही वजह है की किसान कहीं आत्महत्या कर रहा है तो कहीं सदमे में उसकी मौत हो जा रही है . बरेली में 24 घंटे के अंदर 8 किसानों की मौत के बाद जिला प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है, जबकि जिले में अब तक 19 किसानो की मौत हो चुकी है .

 

1- सिमरिया ग्राम पंचायत के मजरा रम्पुरा में किसान 38 वर्षीय प्रेमपाल वर्मा ने आत्मदाह कर लिया था

2- हुरहुरी में बसे दूसरे किसान वेदराम गंगवार ने पेड़ पर फांसी लगाकर जान दे दी थी.

3- बहादुरपुर गांव के 55 वर्षीय असगर अली शाह की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई थी.

4- जौनेर के किसान 36 वर्षीय पप्पू की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई थी.

5- आलमपुर जाफराबाद ब्लॉक के कीरतपुर गांव के किसान महेश यादव की हार्ट अटैक पड़ने से मौत

6- मझगवां के फुलासी गांव के किसान सत्यपाल की हार्ट अटैक पड़ने से मौत

7- मिलक मझारा के पूर्व प्रधान शिशुपाल ने ज़हर खाकर दी जान

8- शीशगढ़ के बंजरिया गाँव में 60 वर्षीय किसान वहीद अहमद की हार्ट अटैक पड़ने से मौत.

9- हाफिजगंज के गांव संतोषपुर निवासी रामस्वरूप (55) की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई .

10- शेखूपुर के इरशाद अहमद (60) की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई .

11- गैनी निवासी किसान नेमचंद उर्फ भूरे (35) हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई

12- मीरगंज के हुरहुरी गांव के रहने वाले (60) वर्षीय गोविंद राम मौर्य की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई

13- मीरगंज के ही हसनपुर बली गांव के रहने वाले (52) वर्षीय लालता प्रसाद की हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई

14- बिशारतगंज के कांधरपुर गांव के (45) वर्षीय किशनपाल को खेत पर ही हार्टअटैक पड़ने से मौत हो गई

15- हाफिजगंज के चुनुआ लामाखेड़ा गांव के (65)  वर्षीय डोरीलाल ने भी सदमे में दम तोड़ दिया

16- भमोरा के भोजपुर गांव के (45) वर्षीय लेखराज की भी सदमे से मौत हो गई.

17- नौगवां एहरान गांव के (55) वर्षीय सियाराम यादव की भी फसल बर्बाद होने की वजह से मौत हो गई .

18- नबाबगंज के डंडिया के (55) वर्षीय कृष्णदास की भी फसल बर्बाद होने की वजह से मौत हो गई .

19- मीरगंज के जौनेर गाँव की (50) वर्षीय विधवा सावित्री देवी की खेत में बर्बाद फसल देखकर सदमे में मौत .

 

केंद्र की टीम लेगी जायजा

परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की अगुवाई में केंद्रीय मंत्रियों की एक टीम यूपी में फसल बर्बादी का जायजा लेने जा रही है. ये टीम आगरा, मेरठ और अलीगढ़ का दौरा करेगी. बेमौसम बारिश की वजह से रबी की फसल को भारी नुकसान हुआ है. देश के चौदह राज्यों में 600 लाख हेक्टेयर में लगी रबी की फसल में से  करीब 107 सात लाख हेक्टेयर की फसल बर्बाद हो गई है. अकेले यूपी में 1100 करोड़ की फसल के नुकसान का अनुमान है.

 

मध्य प्रदेश में डीएम किसानों को दे रहे हैं गाली!

मध्य प्रदेश के भिंड में किसानों की खुदकुशी के लिए कलेक्टर ने किसानों को ही जिम्मेदार बता दिया है. कलेक्टर के इस कथित शर्मनाक बयान का ऑडियो कांग्रेस विधायक ने जारी किया है. कलेक्टर का पक्ष अब तक नहीं मिल सका है.

 

मध्य प्रदेश के भिंड के कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह ने भिंड के कलेक्टर मधुकर आग्नेय पर गंभीर आरोप लगाए हैं. आरोप ये है कि भिंड के कलेक्टर मानते हैं कि किसान अपनी बदहाली के लिए जिम्मेदार हैं. गोविंद सिंह ने कलेक्टर मधुकर आग्नेय की एक ऑडियो क्लिप जारी की है जिसमें कलेक्टर भद्दी भाषा तो बोल ही रहे हैं. ये भी कह रहे हैं कि किसान 5-6 बच्चे पैदा कर लेते हैं. उनका पालन-पोषण नहीं कर पाते हैं तो खुदकुशी करके सरकार को बदनाम करते हैं. एबीपी न्यूज ऑडियो क्लिप की पुष्टि नहीं करता है.

 

मध्य प्रदेश में 10 किसानों की मौत

मध्यप्रदेश में ओलावृप्टि और बेमौसम की बारिश से परेशान किसानों की मौतों का सिलसिला जारी है. पिछले 15 दिनों में तकरीबन दस किसान मौत को गले लगा चुके हैं. उधर सरकार का दावा है कि किसानों को मदद की जा रही है और मरने वाले किसान अपनी परेशानियों के चलते मर रहे है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: 30 farmers dead in 4 days as rain
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017