जम्मू कश्मीर में अब भी 5 लाख से ज्यादा लोगों का राहत का इंतजार, मुस्तैदी से मोर्चा संभाले है सेना

By: | Last Updated: Saturday, 13 September 2014 1:00 AM

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर अभी बाढ़ की विपदा की चपेट में है. पानी कम हुआ है लेकिन मुश्किलें खत्म नहीं हुई हैं. खत्म नहीं हुआ है लोगों को राहत पहुंचाने का काम. एबीपी न्यूज पर हम आपको बता रहे हैं कि ऑपरेशन सहायता का अब तक का अपडेट.

 

अब तक करीब डेढ़ लाख  लोगों को बचाया गया-

जम्मू कश्मीर में बाढ़ से प्रभावित एक लाख 30 हजार लोगों को अब तक बचाया गया है. राहत और बचाव का काम जारी है. जम्मू कश्मीर में अभी भी पांच लाख से ज्यादा लोगों तक मदद पहुंचाने की बड़ी चुनौती बनी हुई है, पीएम ने देश की जनता से मदद की अपील की है.

 

फ्री पीसीओ की सुविधा

बीएसएनएल श्रीनगर एयरपोर्ट पर 6 फ्री पीसीओ भी चला रहा है. राहत शिविरों में भी फ्री पीसीओ की सुविधा दी जा रही है. बीएसएनएल श्रीनगर इलाके में फ्री में फोन करने की सुविधा दे रहा है. ये सुविधा अगले 10 दिन तक जारी रहेगी. बीएसएनएल के 54 टावर काम करने लगे हैं.

 

निजी मोबाइल कंपनियां भी बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए आगे आईं हैं. एयरटेल 50 मिनट तो वोडाफोन 25 रुपये का फ्री टॉकटाइम दे रहा है. जम्मू कश्मीर के ओमपुरा, नया रेलवे स्टेशन, हाजम मोहल्ला, ईदगाह, RTC कैंप, बाराजुल्ला, नूरानी कॉलोनी, पीरबाग, पुराना एयरपोर्ट, बडगाम रेलवे स्टेशन पर मोबाइल सेवा दुरुस्त हो गई है.

 

एयरपोर्ट और गुरुद्वारों पर बने राहत शिविरों में भी मोबाइल सेवाएं काम करने लगी हैं. करीब 9 एसटीडी बूथ भी बनाए गए हैं. राज्य में एयरसेल का नेटवर्क करीब पूरी तरह ठीक हो गया है. एयरसेल को 2जी सेवाएं शुरू करने के लिए जैनरेटर की जरूरत है. वायुसेना जैनरेटर पहुंचाने का काम करने वाली है.

 

भारी बाढ़ से जम्मू कश्मीर में बिजली सप्लाई पर भी असर पड़ा है. तीन ट्रांसमिशन लाइन टूट चुकी हैं. दो लाइन के आज ठीक होने की उम्मीद है.

 

पेट्रोल-डीजल की जरूरतों को पूरा करने के लिए अंबाला से 22 हजार लीटर तेल भेजा गया है. श्रीनगर एयरपोर्ट पर विमान ईंधन और डीजल की कमी नहीं है लेकिन एलपीजी गैस की कमी है. लेह से एलपीजी सप्लाई की जा रही है.

 

सरकार ने दिया 200 करोड़ की मदद-

जम्मू-कश्मीर सरकार ने बाढ़ पीड़ितों के लिए 200 करोड़ की मदद का एलान किया है. राज्य सरकार मृतकों के परिजनों को साढ़े तीन लाख और मकान गवांने वालों को पचहत्तर हजार रुपए की सहायता देगी. जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री के मुताबिक बाढ़ में मरने वालों की तादाद का सही आंकड़ा नहीं मिल पा रहा है.

 

भारतीय सेना जम्मू कश्मीर में बाढ़ में फंसे लोगों को हेलिकॉप्टर की मदद से बचाने के साथ साथ खाने पीने का इंतजाम भी कर रही है. भारतीय सेना की उत्तरी कमान ने जम्मू के ऊधमपुर में अपनी एक यूनिट को बाढ़ में फंसे लोगो के खाना बनाने के काम में लगाया है.

 

भारतीय सेना की यूनिट रोज़ाना करीब 5000 लोगों के लिए खाना बना रही है. सेना का बनाया ये खाना पूरी तरह से सुरक्षित है. ये खाना करीब एक हफ्ते तक खराब नहीं होता है. सेना इस खाने को पैकेट में डाल कर उधमपुर से हेलिकॉप्टर के जरिए श्रीनगर के बाढ़ प्रभावित इलाकों में भेज रही है.

आम आदमी पार्टी करेगी मदद

वहीं आम आदमी पार्टी जम्मू कश्मीर में बाढ़ प्रभावितों को बड़ी मदद देने का एलान किया है. पार्टी का हर विधायक 20 लाख रुपये की मदद देगा. दिल्ली में आम आदमी पार्टी के 27 विधायक हैं. यानि पार्टी कुल मिलाकर 5 करोड़ 40 लाख की मदद देगी.

 

आम आदमी पार्टी के विधायक MLA development fund से ये पैसा जम्मू कश्मीर बाढ़ से राहत के लिए देंगे. साथ ही जम्मू कश्मीर में बीएसएनएल की सुविधाएं सुधरी हैं. अलग अलग मोबाइल ऑपरेटर्स के 373 टावर काम करने लगे हैं. बीएसएनएल के भी 54 टावर काम करने लगे हैं.

 

भारी बाढ़ से जम्मू कश्मीर में बिजली सप्लाई पर भी असर पड़ा है. 3 ट्रांसमिशन लाइन टूट चुकी हैं. दो लाइन के आज ठीक होने की उम्मीद है. श्रीनगर में डीजल और पेट्रोल की कमी नहीं है. विमानों का ईंधन भी मौजूद है. श्रीनगर में रसोई गैस की कमी हो गई है. लेह से रसोई गैस भेजकर कमी पूरी की जा रही है.

 

जम्मू कश्मीर में टूटी हुई सड़कों को दुरुस्त करने का काम जारी है. बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन ने करीब 5 हजार 700 लोगों को काम पर लगाया है. श्रीनगर से बारामुला और श्रीनगर से गुलमर्ग होते हुए गुमरी के रास्ते पर गाड़ियां आने जाने लगी हैं. जम्मू-श्रीनगर हाइवे पूरी तरह सही नहीं हो पाया है. इस हाइवे पर जम्मू से सिर्फ हल्के वाहनों को जाने दिया जा रहा है.