75 करोड़ लोग पानी को तरसेंगे: रिपोर्ट

By: | Last Updated: Tuesday, 14 July 2015 3:58 AM
75_percent_people_face_water_tresenge

सांकेतिक फोटो

मुंबई: एक ताजा रिपोर्ट में चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं. रिपोर्ट के अनुसार अगर वैश्विक तापमान में जिस तरह से बढ़ोत्तरी हो रही है, अगर उस पर युद्धस्तर पर कोई हल नहीं निकाला गया तो 2050 तक गेहूं, चावल और मक्के की 200 अरब डॉलर की फसलों को नुकसान हो सकता है. इस बात की चेतावनी फसलों पर जलवायु में बदलाव से पड़ने वाले प्रभाव पर जारी एक रिपोर्ट में दी गई है.

 

काउन्सिल ऑन एनर्जी, एन्वायरमेंट एंड वाटर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरूणाभ घोष की मानें तो, ‘‘2050 तक 2010 के डॉलर के मूल्य के अनुसार 200 अरब डॉलर की गेहूं, चावल और मक्का की फसल बर्बाद हो जाएगी.’’ संस्था ने कई देशों में जलवायु परिवर्तन से होने वाले जोखिम पर रिपोर्ट तैयार की.

 

काउन्सिल ऑन एनर्जी, एन्वायरमेंट एंड वाटर एक निजी, गैर लाभकारी एक्सपेरिमेंट संस्थान है. जो एक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सामने आए चुनौतियों पर ध्यान दे रहा है. रिपोर्ट में इस बात की भी चेतावनी दी गई है कि दक्षिण एशिया में जनसंख्या वृद्धि को देखते हुए साल 2050 तक करीब 75 करोड़ लोग पानी की गंभीर किल्लत का सामना कर सकते हैं. या फिर 1.8 अरब लोग के लिए पानी को तरस सकते हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: 75_percent_people_face_water_tresenge
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: 2050 75 crore report SHOCKING Water Trsenge
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017