भड़काऊ पोस्टर: 'आप' ने कहा- दिलीप की गिरफ्तारी बीजेपी की साजिश, पुलिस ने दी सफाई

By: | Last Updated: Saturday, 19 July 2014 4:12 AM

नई दिल्लीः दिल्ली में भड़काऊ पोस्टर के आरोप में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता की गिरफ्तारी को लेकर आम आदमी पार्टी ने बीजेपी पर साजिश के तहत पुलिस से मिलकर फंसाने का आरोप लगाया है. आम आदमी पार्टी ने कहा है कि पोस्टर से प्रवक्ता दिलीप पांडे का लेना देना नहीं है, सिर्फ उन्हें ईमेल में वो पोस्टर भेजा गया था लेकिन अब सूत्रों के हवाले से दिल्ली पुलिस की सफाई आई है.

 

दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि दिलीप पांडे को दो बार ईमेल भेजे गए थे. पहली बार प्रूफ रीडिंग के लिए और दूसरी बार जो मेल भेजा गया था उसमें लिखा था फाइनल फॉर प्रींट एंड पैंपलेट. पुलिस सूत्रों के मुताबिक इमेल में पोस्टरों के साइज, छपवाने की कीमत तक की बात थी.

पहली बार के मेल में तीन अटैचमैंट थे. दूसरी बार के मेल में पांच अटैचमेंट थे. पोस्टरों का साइज, पैंपलेट का साइज और डेढ़ लाख पोस्टर छपवाने की बात थी. इसके अलावा खर्च का इस्टीमेट भी था. पुलिस का मानना था कि यह मेल दिलीप पांडेय को ही भेजा गया था, सीसी नहीं किया गया था. दिलीप पांडेय के अलावा रामकुमार झा नाम के व्यक्ति को भी भेजा गया है.

 

दिलीप की गिरफ्तारी बीजेपी की साजिश

आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसौदिया ने आज प्रेस कॉंफ्रेंस आयोजित करके कहा कि भड़काऊ पोस्टर के मामले में दिलीप पांडे की गिरफ्तारी पर पुलिस का आरोप गलत है. इस पूरे घटनाक्रम से आम आदमी पार्टी का कोई लेना-देना नहीं हैं.

 

मनीष ने कहा कि बीजेपी आम आदमी पार्टी के खिलाफ साजिश रच रही है और दिलीप पांडे को फंसाया गया है.