आप विधायकों की मांगः ईमानदारी से करेंगे काम तो सैलरी में हो इजाफा

By: | Last Updated: Saturday, 4 July 2015 2:41 AM
aap mla raise their voice for increasing salary

नई दिल्ली : सांसदों के बाद अब दिल्ली के विधायकों ने  वेतनमान बढ़ाने के लिए आवाज उठाई है.  आम आदमी पार्टी (आप) के कई विधायकों ने वेतनमान बढ़ाने की मांग रखी है. इन विधायकों का कहना है कि खर्च की तुलना में वेतनमान बेहद कम मिलता है. इस बात को लेकर दिल्ली सरकार के सामने मांग रखी गई है.

 

आप विधायकों का कहना है कि महंगाई बहुत ज्यादा है. दिनभर मेल-मुलाकात करने ऑफिस आने वाले लोगों को चाय-पानी पिलाने पर काफी खर्च आ जाता है. ऐसे में हमें वर्तमान वेतन में बेहद दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. हम इमानदारी से काम करने वाले लोग हैं, इसलिए वेतनमान में इजाफा होना चाहिए.

 

बीजेपी का विरोध

 

वहीं, आम आदमी पार्टी विधायकों के वेतनमान बढ़ाने की मांग का बीजेपी विधायकों ने विरोध किया है. बीजेपी ने सदन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल केो चुनौती दी है कि केजरीवाल एक रुपये प्रतिमाह वेतनमान लेने की घोषणा करें. बीजेपी विधायक भी इसके लिए तैयार हैं. बाकी पैसा गरीबों के कल्याण पर खर्च हो.

 

वतर्मान में दिल्ली के विधायकों को 53 हजार वेतन और 30 हजार भत्ता मिलता है.  ऐसे में विधायकों को तकरीबन 83 हजार रुपये वेतनमान मिल रहा है. दिल्ली सरकार अगर चाहे तो वेतनमान बढ़ाने का प्रस्ताव लॉ डिपार्टमेंट के पास भेज सकती है. दिल्ली के विधायकों और मंत्रियों की सैलरी बढ़ाने का प्रस्ताव यही विभाग बनाता है.

 

इससे पहले 2011 में बढ़ा था वेतन

 

साल 2011 में मुख्यमंत्री और मंत्रियों के वेतन में इजाफा हुआ था. इसके बाद से मुख्यमंत्री और मंत्रियों को हर महीने 97 हजार रुपये वेतन के रूप में मिलते हैं. वहीं, विधायकों को 83 हजार रुपये मिलते हैं. भत्तों में पहली बार पेंशन का भी इंतजाम किया गया है, जो पूर्व विधायकों के लिए भी है.आप विधायकों की मांगः अगर ईमारदारी से करेंगे काम तो सैलरी में हो इजाफा

नई दिल्ली: सांसदों के बाद अब दिल्ली के विधायकों ने  वेतनमान बढ़ाने के लिए आवाज उठाई है.  आम आदमी पार्टी (आप) के कई विधायकों ने वेतनमान बढ़ाने की मांग रखी है. इन विधायकों का कहना है कि खर्च की तुलना में वेतनमान बेहद कम मिलता है. इस बात को लेकर दिल्ली सरकार के सामने मांग रखी गई है.

 

आप विधायकों का कहना है कि महंगाई बहुत ज्यादा है. दिनभर मेल-मुलाकात करने ऑफिस आने वाले लोगों को चाय-पानी पिलाने पर काफी खर्च आ जाता है. ऐसे में हमें वर्तमान वेतन में बेहद दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. हम इमानदारी से काम करने वाले लोग हैं, इसलिए वेतनमान में इजाफा होना चाहिए.

 

बीजेपी का विरोध

 

वहीं, आम आदमी पार्टी विधायकों के वेतनमान बढ़ाने की मांग का बीजेपी विधायकों ने विरोध किया है. बीजेपी ने सदन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चुनौती दी है कि केजरीवाल एक रुपये प्रतिमाह वेतनमान लेने की घोषणा करें. बीजेपी विधायक भी इसके लिए तैयार हैं. बाकी पैसा गरीबों के कल्याण पर खर्च हो.

 

वतर्मान में दिल्ली के विधायकों को 53 हजार वेतन और 30 हजार भत्ता मिलता है.  ऐसे में विधायकों को तकरीबन 83 हजार रुपये वेतनमान मिल रहा है. दिल्ली सरकार अगर चाहे तो वेतनमान बढ़ाने का प्रस्ताव लॉ डिपार्टमेंट के पास भेज सकती है. दिल्ली के विधायकों और मंत्रियों की सैलरी बढ़ाने का प्रस्ताव यही विभाग बनाता है.

 

इससे पहले 2011 में बढ़ा था वेतन

 

साल 2011 में मुख्यमंत्री और मंत्रियों के वेतन में इजाफा हुआ था. इसके बाद से मुख्यमंत्री और मंत्रियों को हर महीने 97 हजार रुपये वेतन के रूप में मिलते हैं. वहीं, विधायकों को 83 हजार रुपये मिलते हैं. भत्तों में पहली बार पेंशन का भी इंतजाम किया गया है, जो पूर्व विधायकों के लिए भी है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: aap mla raise their voice for increasing salary
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017