'आप' में तीन चिट्ठियों से मची सनसनी, अशोक तलवार ने केजरीवाल के खिलाफ लॉबिंग का लगाया आरोप, भीषण कैंप की ओर से आरोपों का इनकार

By: | Last Updated: Wednesday, 25 March 2015 5:03 AM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी में एक बार फिर चिट्ठी बम फूटा है. ‘आप’ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अशोक तलवार ने केजरीवाल को चिट्ठी भेजकर कहा है कि दिल्ली में बैठे कुछ लोग साजिश कर रहे हैं.

 

अशोक तलवार ने केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर कहा है, ‘मुझे 28 मार्च को होने वाली राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से एक दिन पहले होने वाली बैठक के लिए दिल्ली बुलाया जा रहा है. मुझे दिल्ली आने के लिए कई लोगों के मैसेज और फोन आए हैं. ये लोग मुझे एक दिन पहले यानी 27 मार्च को होने वाली बैठक में उपस्थित रहने की पुष्टि चाहते हैं जिससे मेरे खाने और रहने का प्रबन्ध सुनिश्चित किया जा सके. ‘स्वराज’ और पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र पर चर्चा करने के लिए इस 27 मार्च को होने वाली इस बैठक में 14 से ज्यादा सदस्य अपनी भागीदारी सुनिश्चित करा चुके हैं. मुझे लगता है कि दिल्ली में बैठे कुछ लोग साजिश कर रहे हैं.’

 

अशोक ने दीपक पारेख, ग्यानेंन्द्र, रोहित तिवारी, राजेश कुमार, विजय सिंह और अमीक अहमद के नामों का भी नाम अपनी चिट्ठी में लिया है और लिखा है कि ये लोग इस तरह की सूचना फैला रहे हैं.
 

‘आप ‘में फिर फूटा चिट्ठी बम
 

केजरीवाल को लिखी चिट्ठी में अशोक तलवार ने आगे लिखा है, ‘मेरी प्रार्थना है कि आप इस मामले में दखलंदाजी कर पूरी जानकारी लें जिससे पार्टी के खिलाफ हो रही साजिशों से पार्टी को बचाया जा सके और अपने लक्ष्य पर ध्यान लगाया जा सके.’

 

शांति भूषण का बैठक बुलाने से इनकार

खबर है कि जिस बैठक की बात अशोक तलवार कर रहे हैं वो भूषण कैंप ने बुलाई है. लेकिन शांति भूषण ने कहा है कि उन्होंने ऐसी कोई बैठक नहीं बुलाई है.

 

शांति भूषण ने अपने बयान में कहा है, ”मैंने इस तरह की खबरों को देखा कि मैंने आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक से एक दिन पहले कुछ सदस्यों की बैठक बुलाई है, जिसका सारा खर्चा मैं उठा रहा हूं. मैं इन खबरों का पूरी तरह खंडन करता हूं. मैंने इस तरह की कोई मीटिंग नहीं बुलाई है, और अगर किसी और ने ऐसी कोई मीटिंग बुलाई है तो मैं उसमें शामिल भी नहीं होऊंगा. मैं सिर्प 28 मार्च करो होने वाली पार्टी की राष्ट्रीय परिषद री  बैठक में एक सदस्य के तौर पर शामिल होऊंगा. ”

 

अशोक तलवार की इस चिट्ठी पर आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष का कहना है, ‘पार्टी अशोक तलवार से बात कर उन्हें समझाएगी. हमारी कोशिश रहेगी कि अशोक तलवार चिंतामुक्त हो. अगर उन्होंने चिट्ठी लिखी है तो इस बात की जांच होगी, लेकिन ऐसा जरूरी भी नहीं कि पार्टी हर चिट्ठी को तवज्जो दे.’

 

पार्टी में चल रहे विवाद पर आशुतोष ने कहा, ‘हां पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. कुछ  न कुछ गड़बड़ हो रही है लेकिन मैं इस बारे में अभी कुछ नहीं कह सकता. अगर एक दिन पहले ऐसी कोई मीटिंग बुलाई गई है तो इस बारे में भी पता करेंगे.’

28 मार्च की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के लिए प्रशांत भूषण कैंप की तरफ से एक चिट्ठी चल रही है. जिसमें वोटिंग को लेकर अपने पक्ष में माहौल बनाया जा रहा है.

 

इस चिट्ठी में कहा जा रहा है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी में संस्थापक सदस्यों के अलावा राज्यों और जिलों से चुने हुए सदस्य शामिल हैं, चूंकि राष्ट्रीय संयोजक को छोड़कर कोई और दूसरा संयोजक नहीं चुना गया इसलिए संयोजक का चुनाव होने पर केवल संस्थापक सदस्यों को वोटिंग का अधिकार  होना चाहिए.

 

वोटिंग हुई तो पिछड़ सकते हैं केजरीवाल

आम आदमी पार्टी की 28 मार्च को पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की होने वाली बैठक को लेकर लॉबिंग चल रही है. राष्ट्रीय परिषद के कितने सदस्य हैं इसको लेकर भी विवाद है. पिछली बैठक 31जनवरी 2014 को हुई थी. तब 295 सदस्यों की लिस्ट थी.

 

पार्टी ने चुनाव आयोग में भी वही लिस्ट दी है. लेकिन पार्टी में केजरीवाल टीम के सूत्र बतातें है की पार्टी राष्ट्रीय परिषद की नई लिस्ट तैयार कर रही है इसमें 350 से 375 सदस्य हो सकतें है. केजरीवाल खेमा का कहना है कि राज्यों और जिलों के संयोजक भी राष्ट्रीय परिषद के सदस्य हैं और उन्हें भी वोटिंग का अधिकार है लेकिन टीम प्रशांत भूषण का कहना है कि सिर्फ संस्थापक सदस्यों को ही वोटिंग का अधिकार है. सूत्र बता रहे हैं कि पुरानी लिस्ट के हिसाब से वोटिंग होती है तो नंबर गेम में केजरीवाल प्रशांत भूषण खेमे से पिछड़ सकते हैं.  

 

केजरीवाल से मिलेंगे आप के आंतरिक लोकपाल एल रामदास

आम आदमी पार्टी में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. खबर है कि पार्टी के आंतरिक लोकपाल एल रामदास केजरीवाल और योगेंद्र यादव से मिलेंगे. सबसे पहले एल रामदास की चिट्ठी सामने आई थी जिसमें आप में आंतरिक लोकतंत्र की कमी बताई गई और केजरीवाल पर सवाल उठाए गए थे. इसके बाद विवाद इतना बढ़ा कि योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को पीएसी से निकाल दिया गया.

 

संबंधित खबरें-

‘आप’ पर डॉ राकेश पारिख का ब्लॉग: ‘इतना नीचे न गिरें कि टोपी की गरिमा को चोट पहूंचे 

आप में ‘सिद्धांत और व्यावहारिकता’ पर नहीं बन रही बात 

‘आप’ का पंजीकरण रद्द करने की याचिका हाईकोर्ट ने की खारिज 

प्रशांत ने ABP News से कहा, चिट्ठी में इस्तीफे की पेशकश नहीं, पार्टी से जुड़े मुद्दे उठाए हैं 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: aap_ashok_talwar_letter_bomb
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017