Opinion Poll: ये पोल देख हलक में फंस जाएगी 'मोदी' और नीतीश की जान?

By: | Last Updated: Friday, 24 July 2015 2:42 PM
ABP News-Nielsen opinion poll Bihar

नई दिल्ली: बिहार में अगले दो महीने में होने वाले विधानसभा के चुनाव को लेकर राजनीतिक पारा गर्म है, खूब सियासी ड्रामे भी हो रहे हैं. ऐसे में सवाल है कि किसकी लहर है?

 

एबीपी न्यूज़-नीलसन सर्वे के मुताबिक विधानसभा चुनाव में 48 फीसदी जनता का कहना है कि सत्ताधारी जेडीयू, आरजेडी, कांग्रेस और एनसीपी विधानसभा चुनाव जीतेगी तो इतनी ही फीसदी जनता यानी 48 फीसदी का ये भी कहना है कि बीजेपी, एलजेपी, आरएलएसपी और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा का गठबंधन जीत का परचम लहराएगा.

 

सवाल नंबर एक. सीएम की पहली पसंद कौन?

 

सीएम पद की पहली पसंद कौन? इस सवाल के जवाब में बिहार की नीतीश कुमार 52% लोगों की पसंद हैं तो वहीं सुशील मोदी 42 % लोगों की पसंद हैं.

 

सवाल नंबर दो: एनडीए में नीतीश को टक्कर कौन दे सकता है?

 

एनडीए में नीतीश को टक्कर कौन दे सकता है? इस सवाल के जवाब में 48% लोगों की राय में सुशील मोदी को अपनी पसंद बताया. 10% के साथ शाहनवाज़ हुसैन दूसरे नंबर हैं. रामविलास पासवान 6 % लोगों की पसंद और उपेंद्र कुशवाह 3% लोगों की पसंद हैं.

 

सवाल नंबर तीन:  बिहार में सबसे लोकप्रिय नेता कौन?

 

बिहार में सबसे लोकप्रिय नेता कौन ? इस सवाल पर भी बिहार की जनता के हिसाब से नीतीश कुमार नरेंद्र मोदी से आगे हैं. नीतीश कुमार 52% लोगों की पसंद हैं तो वहीं 45% लोग नरेंद्र मोदी को लोकप्रिय नेता मान रहे हैं.

 

सवाल नंबर चार: मोदी राज में विकास हुआ?

इस सवाल का जवाब पीएम मोदी को खुशी दे सकता है. बिहार की 56% जनता को लगता है कि हां मोदी राज में विकास हुआ है. तो वहीं 40% जनता इससे इतर सोचती है कि मोदी राज में विकास नहीं हुआ. चार फीसदी लोगों को का कहना है कि पता नहीं.

 

सवाल नंबर पांच: ललित मोदी कांड से बीजेपी को नुकसान हुआ?

बिहार की 30 फीसदी जनता मानती है कि ललित मोदी कांड से बीजेपी को नुकसान हुआ. तो वहीं 49 फीसदी जनता का मानना है कि इससे बीजेपी को कोई नुकसान नहीं हुआ. 21 फीसदी लोगों का कहना है कि पता नहीं.

 

सवाल नंबर 6: मांझी, पप्पू के अलग होने से किसे फायदा?

बिहार की राजनीति में जीतनराम मांझी और पप्पू यादव का अहम रोल है. मांझी और पप्पू के अलग होने से किसे फायदा होगा? इस सवाल के जवाब में 61% लोगों का कहना है कि बीजेपी को फायदा होगा. तो वहीं 35% लोगों का कहना है कि जेडीयू को फायदा होगा. चार फीसदी लोगों का कहना है कि पता नहीं.

 

बिहार के मगध क्षेत्र में कौन जीतेगा?

 

बिहार के मगध क्षेत्र में कुल 62 सीटें हैं. ओपीनियन पोल के मुताबिक 62 में जेडीयू को 25 सीटें, बीजेपी 37 सीटें तो वहीं अन्य को शून्य सीटेंम मिलती दिख रहीं हैं. बिहार के मगध क्षेत्र में बेगूसराय, जमुई, मुंगेर, पटना, गया और नवादा जैसे प्रमुख जिले शामिल हैं.

 

बिहार के भोजपुर क्षेत्र में कौन जीतेगा?

 

बिहार के भोजपुर क्षेत्र में कुल 25 सीटें हैं. ओपिनियन पोल के हिसाब से  25 सीटों में से बीजेपी गठबंधन को 19 जेडीयू गठबंधन को 6 तो अन्य यहां भी शून्य हैं. भोजपुर क्षेत्र में आरा, बक्सर, सासाराम और काराकट के इलाके शामिल हैं.

 

बिहार के पूर्वी क्षेत्र में कौन जीतेगा?

 

बिहार के पूर्वी क्षेत्र में कुल 42 सीटें हैं. बिहार की जनता के मूड के हिसाब से पूर्वी क्षेत्र में बीजेपी गठबंधन को 9 सीटें जेडीयू गठबंधन को 33 सीटें मिलतीं दिख रहीं हैं. पूर्वी बिहार में अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार और भागलपुर जेसे इलाके शामिल हैं.

 

बिहार के तिरहुत क्षेत्र में कौन जीतेगा?

बिहार के तिरहुत क्षेत्र में 72 सीटें हैं. ओपीनियन पोल के मुताबिक यहां भी जेडीयू गठबंधन फायदे में दिख रहा है. यहां बीजेपी गठबंधन को 32 सीटें तो वहीं जेडीयू गठबंधन को 38 सीटें इसके अलावा अन्य को भी दो सीटें मिलतीं दिख रहीं हैं.

 

बिहार के मिथिला क्षेत्र में कौन जीतेगा?

 

बिहार के मिथिला क्षेत्र में कुल 42 सीटें हैं. ओपीनियन पोल के मुताबिक बीजेपी गठबंधन को 15 सीटें जेडीयू गठबंधन को 27 सीटें मिलने का अनुमान है. मिथिला क्षेत्र में मधेपुरा, समस्तीपुर, दरभंगा, मधुबनी और सुपौल के सीटें शामिल हैं.

 

बिहार का ओपीनियन पोल: कुल 243 सीटें

 

ओपिनियन पोल के मुताबिक बिहार की जनता ने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री चुनने का मन बना लिया है. सीटों की बात करें तो जेडीयू गठबंधन को 129 सीटें, बीजेपी गठबंधन को 112 सीटें तो नहीं अन्य के खाते में दो सीटें आती दिख रहीं है. ओपिनियन पोल के आंकड़े अगर नतीजों में तब्दीवल होते हैं तो बिहार में नीतीश कुमार का चौथी बार सीएम बनना तय है.

 

क्या थी 2010 की स्थिति?

ग़ौरतलब है कि साल 2010 में जेडीयू-बीजेपी गठबंधन को 206 सीटें मिली थीं, आरजेडी के खाते में 22 सीटें तो 9 सीटें अन्य की झोली में गईं थीं.बीजेपी 91 जेडीयू 115 सीटें.

 

कैसे हुआ एबीपी न्यूज़ और नीलसन का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज़ का बिहार का ओपीनियल पोल 8 जुलाई से 15 जुलाई के बीच किया गया. ओपीनियन पोल में 8854 लोगों की राय ली गई. बिहार की 243 सीटों में 73 सीटों पर किया गया ओपीनियन पोल.

 

एबीपी न्यूज़ और नीलसन का यह पोल अंतर्राष्ट्रीय संस्था यूरोपियन सोसाइटी फॉर ओपिनियन एंड मार्केटिंग रिसर्च यानी ESOMAR के दिशानिर्देशों को पूरी तरह ध्यान में रखकर किया गया है.

 

ओपिनियन पोल से जुड़ी अन्य बड़ी खबरें

Opinion Poll: बिहार चुनाव में जनता भरेगी नीतीश की झोली

Opinion Poll: मोदी नहीं नीतीश हैं बिहार के सबसे ज्यादा लोकप्रिय नेता

Opinion Poll: अहम सवालों पर जनता की राय

Opinion Poll: अभी चुनाव हुए तो जीतेंगे नीतीश

बिहार में नीतीश रोक देंगे मोदी का ‘परिवर्तन रथ’: ओपिनियन पोल

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ABP News-Nielsen opinion poll Bihar
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017