कल से दिल्ली में नर्सरी के लिए एडमिशन शुरू, नए नियम किए गए हैं लागू । Admission to nursery starts in Delhi from tomorrow, new rules have been made applicable

कल से दिल्ली में नर्सरी के लिए एडमिशन शुरू, नए नियम किए गए हैं लागू

आप अभिभावक की परेशानी को देखते हुए हम नर्सरी एडमिशन से जुड़ी ऐसी सभी छोटी बड़ी जानकारियां दे रहे हैं जिससे आपको कम से कम परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा.

By: | Updated: 26 Dec 2017 03:47 PM
Admission to nursery starts in Delhi from tomorrow, new rules have been made applicable

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में नर्सरी एडमिशन की दौड़ कल से शुरू होने जा रही है. दिल्ली वालों के लिए स्कूल एडमिशन खासा मुश्किलों भरा काम होता है. पूरी प्रक्रिया एक ऐसे सपने की तरह होता जिसकी हैप्पी एंडिग की चाहत हर अभिभावक को होती है. ये बात सौ फीसद सही है कि दिल्ली के स्कूलों में अपने बच्चों का दाखिला करवाना अभिभावक के लिए आसान नहीं होता.


यह प्रक्रिया उनके लिए चुनौती भरा होता है जो दिल्ली में रोजगार के चलते अपने प्रदेश से आए हुए हैं. उन्हें कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है उनमें से एक है बच्चों का एडमिशन. इसीलिए आप अभिभावक की परेशानी को देखते हुए हम नर्सरी एडमिशन से जुड़ी ऐसी सभी छोटी बड़ी जानकारियां दे रहे हैं जिससे आपको कम से कम परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा.


इन क्लासों के लिए एडमिशन:


- दिल्ली के प्राइवेट स्कूलों में नर्सरी, केजी और क्लास वन में एडमिशन की प्रकिया की शुरुआत 27 दिसंबर से होगी.
- 27 दिसंबर से सभी प्राइवेट स्कूलों के आवेदन फार्म ऑनलाइन और ऑफलाइन मिलने शुरू होंगे.


कब तक मिलेंगे फॉर्म?


- अभिभावक 27 दिसंबर से ले कर 17 जनवरी तक कभी भी आवेदन फॉर्म ले सकते हैं.


फॉर्म जमा करने की आखिरी तारीख?


- फॉर्म जमा करने की अंतिम तारीख 17 जनवरी है.


कब जारी होगी पहली लिस्ट?


- एडमिशन प्रक्रिया के तहत 15 फरवरी को दाखिले के लिए चुने गए स्टूडेंट्स की पहली लिस्ट जारी कर दी जाएगी.


नर्सरी के लिए बच्चे की उम्र क्या होनी चाहिए?


- दिल्ली सरकार ने बच्चे अपर एज लिमिट को हटा दी है.
- 31 मार्च 2018 तक लोअर एज लिमिट तीन, चार और पांच साल रखी गई है.


किस आधार पर होगा एडमिशन?


- नर्सरी, केजी और क्लास वन में एडमिशन के लिए स्कूल को आजादी दी गई है कि वे अपने हिसाब से क्राइटेरिया बना सकते हैं.
- डायरेक्टर ऑफ एजुकेशन के आदेश के अनुसार दिल्ली के सभी स्कूलों को क्राइटेरिया की लिस्ट अपने वेबसाइट्स पर डालनी होगी.
- तय किए गए क्राइटेरिया के आधार पर ही दिल्ली के प्राइवेट स्कूल बच्चों को एडमिशन के लिए चुन सकेंगे.


क्या-क्या हो सकता है क्राइटेरिया


- अभिभावक का उस स्कूल में पढ़ा होना जिसमें वे अपने बच्चे का एडमिशन करवाना चाहते हैं.
- घर और स्कूल के बीच की दूरी को भी क्राइटेरिया का एक अहम हिस्सा बनाया गया है.
- स्कूल में सिबलिंग यानी सगे भाई-बहन के होने को भी क्राइटेरिया के हिसाब से अच्छे अंक दिए जाते हैं.
- अभी किसी भी स्कूल ने एडमिशन क्राइटेरिया अपनी वेबसाइट पर अपडेट नहीं किया है.


डायरेक्टर ऑफ एजुकेशन ने नोटिफिकेशन में सभी स्कूलों को निर्देश दिया है कि 26 दिसंबर से पहले क्राइटेरिया और अन्य प्वाइंट्स की जानकारी डीओई की वेबसाइट पर डाल दें.


पिछले साल दिल्ली के कुछ बड़े स्कूलों ने अलमुनाई क्राइटेरिया को 10-30 अंक दिए थे और सिबलिंग यानी सगे भाई-बहन के होने को भी क्राइटेरिया में 20-30 अंक दिए गए थे. माना जा रहा है कि इस साल भी दिल्ली के प्राइवेट स्कूल क्राइटेरिया तय करते समय इन्हीं खास बातों को ध्यान में रखेंगें.


आप को बता दें कि अब तक 1695 निजी स्कूलों में से 390 ने ही अपनी वेबसाइट पर एडमिशन प्रोसेस के बारे में जानकारी दी है. खासतौर से सिबलिंग, एल्यूमिनी जैसे पॉइंट के बारे में बताया गया है. इससे पहले एडमिशन के लिए दिल्ली सरकार ने साल 2015 में अपर एज लिमिट को खत्म कर दिया था.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Admission to nursery starts in Delhi from tomorrow, new rules have been made applicable
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story इंदु मल्होत्रा होंगी पहली महिला वकील जो बनेंगी सुप्रीम कोर्ट की जज