महाभारत, रामायण से सीखें राजनीति: आडवाणी

By: | Last Updated: Sunday, 14 December 2014 1:40 PM

नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित करने की वकालत किये जाने के बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने आज लोगों से महाभारत और रामायण पढने का आग्रह किया और कहा कि ये महाकाव्य राजनीति और नैतिकता पर ज्ञान के बड़े स्रोत हैं .

 

आडवाणी ने आजादी के पहले के अपने दिनों को याद करते हुए कहा कि उनकी दादी उनसे महाभारत को पूरी तरह नहीं बल्कि टुकड़ों में पढने को कहा करती थी क्योंकि ऐसी मिथक थी कि महाकाव्य को घर में रखना मनहूस है .

 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं मानता हूं कि महाभारत के अलावा कोई दूसरा महाकाव्य शिक्षणशास्त्र का इतना बड़ा स्रोत, राजनीति पर सूचना का महान स्रोत और साथ ही नैतिक शिक्षा, एकता और साहस का इतना बड़ा स्रोत नहीं है .’’ पूर्व उपप्रधानमंत्री यहां प्रसिद्ध पत्रकार और उर्दू अखबार दैनिक प्रताप के प्रमुख के नरेन्द्र की जन्म शताब्दी के मौके पर आयोजित एक सांस्कृतिक कार्यक्रम और पुरस्कार समारोह में बोल रहे थे .

 

 

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017