वाजपेयी के मना करने पर भी मैंने इस्तीफा दे दिया था: आडवाणी

By: | Last Updated: Saturday, 27 June 2015 3:40 PM
Advani

नई दिल्ली: बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने सुषमा और वसुंधरा राजे पर लगे आरोपों की बीच बयान दिया है. आडवाणी ने कहा कि जब उनपर हवाला कांड के आरोप लगे थे तो उन्होंने फौरन इस्तीफा दे दिया था और इस बात का उन्हें कोई दुख नहीं है.

 

आनंद बाजार पत्रिको को दिए इंटरव्यू में आडवाणी ने ये याद दिलाया कि उस वक्त वाजपेयी में उन्हें तुरंत इस्तीफे के हक में नहीं थे उसके वावजूद उन्होंने फैसला किया. लेकिन सुषमा वसुंधरा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुझे इस बारें में कुछ पता नहीं है इसलिए इस पर कुछ नहीं बोल सकता. आडवाणी ने कहा कि मुझे सिर्फ खुद के बारे में पता है इसलिए अपने बारे में बोल रहा हूं.

 

सवाल- हवाला कांड जिसमें आपका नाम आया था जिसके बाद आपने उसी दिन इस्तीफा दे दिया था. क्या आपको इस बात को लेकर मलाल रहा?

 

आडवाणी का जवाब- मुझे इस बात का कोई दुख नहीं है कि मैं दो साल चुनाव नहीं लड़ सका. सरकार में शामिल नहीं रहा. इस्तीफा देने का फैसला मेरा अपना था. मुझे लगता है कि राजनीतिक विश्वसनीयता जरूरी है. जनता हमें चुनती है और हमें जनता के विश्वास पर खरा उतरना होता है. मैंने अपनी जिंदगी में हमेशा आत्मा की आवाज सुनी है. उस वक्त इस्तीफ देने के लिए वाजयेपी जी ने भी मना किया था. लेकिम मुझे पता था मैंने ऐसा कुछ नहीं कििया है. मुझे किसी बात का डर नहीं था. उस वक्त नरसिम्हा राव की सरकार मेरा नाम इस मामले में घसीट रही थी.

 

आगे आडवाणी ने कहा, “मैं अपनी जिंदगी में पूरी तरह संतुष्ट हूं. आरएसएस और जनसंघ के दौरा से हमने सीखा है कि भ्रष्टाचारमुक्त जीवन बीजेपी की सबसे बड़ी मजबूती है.”

 

भ्रष्टाचार के बारे में बात करते हुए आडवाणी ने कहा, “मुझे याद  आती है कि पार्टी बढ़ रही थी उस वक्त गोलवरकर ने कहा था कि अच्छी बात है कि संगठन आगे जा रहा है.. इसका ख्याल रखना चाहिए कि इस काम के लिए पैसा इकट्ठा करने में सावधानी बरतनी चाहिए.”

 

सुषमा और वसुंधरा पर क्या कहेंगे? इस सवाल पर आडवाणी ने कहा, “उनके बारे में कोई जानकारी नहीं है इसलिए उनपर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा. मैं अपने बारे में बात करूंगा.”

 

आडवाणी कहना क्या चाहते हैं ?

बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने आज एक ऐसी बात कही है जिसके बाद राजनीतिक भूचाल आना तय लग रहा है. वरिष्ठ पत्रकार जयंत घोषाल से खास बात में आडवाणी से जब सुषमा स्वराज और वसुंधरा राजे के मुद्दे पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने इन दोनों महिलाओं का नाम लेकर कुछ कहने से इंकार कर दिया लेकिन ये जरुर कहा कि वो खुद होते तो इस्तीफा दे देते.

 

आडवाणी के इस बयान पर  जयंतो घोषाल ने एबीपी न्यूज़ से कहा है  कि आडवाणी जी के इस बयान को इंटरप्रिट करके देखा जाये तो ये कहा जा सकता है कि वे यह रिफरेंस देना चाहते हैं कि शिकायत सही है या गलत है इस पर बाद में विचार होगा और नैतिकता के हिसाब से इन्हें इस्तीफा देना चाहिए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Advani
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: BJP lal krishna advani sushma swaraj
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017