पेशी के बाद 5 दिन की पुलिस रिमांड पर रामपाल

By: | Last Updated: Friday, 21 November 2014 2:04 AM

नई दिल्ली: हिसार के सिविल लाइंस थाने में रामपाल की पहली रात गुजरी है. गुरुवार को हरियाणा पुलिस ने रामपाल को देशद्रोह और पुलिस पर हमला करने के केस में हिसार की जिला अदालत में पेश किया जहां कोर्ट ने उसे पांच दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया.

 

रामपाल के नौ साथियों को भी तीन दिन की पुलिस रिमांड में भेजा गया है. बीमारी के नाम पर हिसार के सतलोक आश्रम में रह रहे रामपाल को कोर्ट ने आठ दिनों के लिए जेल भेज दिया है. कोर्ट में पेशी से पहले हुए मेडिकल से साफ हो गया था रामपाल पूरी तरह स्वस्थ है.

 

रामपाल को 2006 में हुई हत्या के मामले में जेल भेजा गया है और 28 नवंबर को रामपाल को पेश किया जाएगा. हालांकि रामपाल के वकील ने कोर्ट में कहा है कि लोगों ने उन्हें आश्रम में बंधक बनाकर रखा था इसलिए वो कोर्ट नहीं आ पाए.

 

राम पाल से जब पत्रकारों ने पूछा था कि  क्या उसने लोगों को बंधक बनाकर रखा, और उनके पीछे उनके पीछे छुपा रहा तो रामपाल का कहना था कि  मैंने किसी को बंधक नहीं बनाया, वो अपने आप बन रहे थे.

 

सच और झूठ का तानाबाना बहुत लंबा है. रामपाल के आश्रम से पेट्रोल बम से लेकर गुलेल-कंचे तक मिले रामपाल सलाखों के पीछे तो जा चुका है लेकिन रामपाल की बनाई लंका अभी तक मौजूद है.

 

पुलिस अब रामपाल के राज निकालने में जुटी है लेकिन सवाल ये है कि रामपाल को बड़ा बनाने वाले कौन थे. किसकी शह पर रामपाल ने कोर्ट और पुलिस से लोहा लेने की ठानी थी, अब उन चेहरों को बेनकाब करना जरूरी है.

 

14 दिनों के  ड्रामे के बाद गिरफ्त में आए-

14 दिन चले ड्रामे के बाद आखिरकार कल रात करीब सवा नौ बजे पुलिस रामपाल को उसी के सतलोक आश्रम से पकड़कर ले गई थी. रामपाल की गिरफ्तारी की खबर जंगल की आग की तरह आसपास के इलाके में फैल गई. इस खबर पर इलाके के आसपास के लोग खुशियां मनाते नजर आए.

 

पुलिस महानिदेशक एस एन वशिष्ठ ने कहा कि विवादास्पद ‘स्वयंभू संत’ को एक अभियान के बाद हिरासत में ले लिया गया है. अभियान ‘बहुत मुश्किल’ था क्योंकि सुरक्षा बलों को रामपाल के कमांडों के विरोध का सामना करना पड़ा.

 

हरियाणा के सीएम के OSD जवाहर यादव ने भी मीडिया के सामने आकर रामपाल की गिरफ्तारी की पुष्टि की थी और इसे हरियाणा पुलिस की बड़ी कामयाबी बताया था.

 

आपको बता दें कि रामपाल को गिरफ्तार करने में पुलिस का खासी मशक्कत करनी पड़ी थी. पुलिस और रामपाल के समर्थकों के बीच झड़पें भी हुईं जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई. हरियाणा के डीजीपी ने बताया कि जिन महिलाओं की मौत हुई है उनके नाम सविता, संतोष, मलकीत और राजबाला हैं. डीजीपी के मुताबिक आश्रम में हुई दो मौत नेचुरल हैं जबकि चार मौतों की जांच जारी है. जिन लोगों की मौत हुई है उनमें डेढ़ साल का एक बच्चा भी शामिल है.

 

मंगलवार को पुलिस से झड़प के मामले में रामपाल के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया. पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से दो गैर जमानती वारंट जारी होने के बावजूद संत रामपाल अदालत में पेश नहीं हुए. 10 नवंबर को ही हरियाणा पुलिस को फटकार लगाते हुए हाईकोर्ट ने 17 नवंबर की सुबह 10 बजे तक संत रामपाल को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: After appearance IN COURT Rampal 5 day police remand
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017