भारत-चीन: पीएम मोदी के प्रस्तावित चीन दौरे का जायजा लेकर भारत लौटीं सुषमा स्वराज

By: | Last Updated: Tuesday, 3 February 2015 8:03 AM
after the completion of china visit sushma swaraj gets back to india with the foreign seceratery s jaishankar

फ़ाइल फ़ोटो: विदेश सचिव एस जयशंकर बायीं ओर और विदेश मंत्री सुष्मा स्वाराज दायीं ओर

बीजिंग: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मई में प्रस्तावित चीन यात्रा की तैयारियों का जायजा लेने के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अपनी चार दिवसीय चीन यात्रा संपन्न कर आज स्वदेश रवाना हो गईं. विदेश मंत्री ने अपनी इस यात्रा के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की और अपने चीनी समकक्ष के साथ प्रधानमंत्री मोदी की आगामी यात्रा की तैयारियों पर चर्चा की. वह आज सुबह अपने पहले चीन दौरे को संपन्न कर विदेश सचिव एस जयशंकर के साथ स्वदेश रवाना हो गईं.

 

चीन यात्रा के दौरान सुषमा स्वराज ने राष्ट्रपति शी से मुलाकात की जिन्होंने चीन. भारत संबंधों में पूर्ण भरोसा जाहिर करते हुए नए साल में संबंधों में ‘नई प्रगति’ की उम्मीद जताई. शी ने सुषमा से कहा, ‘‘मेरा चीन-भारत संबंधों में पूर्ण भरोसा है और मेरा मानना है कि इस नए साल में इन द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने में नई प्रगति हासिल होगी.’’ सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव का भी पदभार संभालने वाले 61 वर्षीय चीनी राष्ट्रपति ने भारतीय नेतृत्व के प्रति अपनी शुभकामनाएं भी दीं.

 

सुषमा स्वराज ने अपने चीनी समकक्ष वांग के साथ महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की और संबंधों के विकास के लिए सीमा पर शांति और समरसता को पहली जरूरत बताया. शीर्ष चीनी नेतृत्व से वार्ता करने के अलावा सुषमा ने रूस, भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक में भी हिस्सा लिया जिसमें तीनों देशों के बीच आतंकवाद से लड़ने के लिए एक व्यापक समझ कायम हुई. रूस और चीन ने संयुक्त राष्ट्र में महती भूमिका की भारत की आकांक्षाओं का समर्थन करने के साथ ही 21 सदस्यीय एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) और शंघाई सहयोग संगठन में उसे शामिल किए जाने का भी समर्थन किया.

 

उन्होंने भारत में अधिक चीनी पर्यटकों को आकषिर्त करने के लिए ‘विजिट ऑफ इंडिया’ कार्यक्रम का भी उद्घाटन किया. पिछले वर्ष 1.74 लाख चीनी पर्यटक भारत यात्रा पर आए थे. सरकारी आंकड़ों के अनुसार करीब दस करोड़ चीनी पर्यटक विदेश यात्रा पर जाते हैं और भारत इनमें से अधिकतर को अपने यहां आकषिर्त करना चाहता है. इस समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चीन की जनता के नाम एक विशेष वीडियो संदेश दिया और कहा कि दोनों देशों के बीच ‘घनिष्ठ रिश्ता’ है. उन्होंने चीनी लोगों को बड़ी संख्या में भारत यात्रा के लिए आमंत्रित किया.

 

स्वराज ने चीनी निवेशकों से मुलाकात की और भारतीय समुदाय के सदस्यों से बातचीत की. उन्होंने कहा कि उनकी यात्रा का मकसद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की यात्रा का प्रबंध करना था जो बीजेपी सरकार के सत्ता में एक साल पूरा होने से पूर्व होगी. अधिकारियों का कहना है कि राष्ट्रपति शी द्वारा प्रधानमंत्री मोदी को अपने पैतृक प्रांत शंघाई और ऐतिहासिक शहर चियान ले जाने की संभावना है जिसके भारत के साथ प्राचीन बौद्ध संबंध हैं.

 

सुषमा की यात्रा के बाद भारत और चीन के विशेष प्रतिनिधि सीमा विवाद को सुलझाने के लिए 18वें दौर की वार्ता करेंगे. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल नई दिल्ली में होने वाली इस वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई करेंगे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: after the completion of china visit sushma swaraj gets back to india with the foreign seceratery s jaishankar
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017