JNU को बदनाम करने के लिए सरकार ने रचा षडयंत्र: जयति घोष

By: | Last Updated: Sunday, 6 March 2016 7:54 AM
Afzal Guru row ‘constructed conspiracy’ by state: JNU prof

नई दिल्ली: जेएनयू की एक प्रोफेसर ने आरोप लगाया है कि संसद हमले के दोषी अफजल गुरू की फांसी को लेकर जेएनयू में उस कार्यक्रम आयोजन पर विवाद विश्वविद्यालय को बदनाम करने का सरकार का ‘‘रचा षड्यंत्र’’ था जिस दौरान कथित तौर पर देश विरोधी नारेबाजी हुई थी.

जेएनयू प्रोफेसर एवं जानीमानी अर्थशास्त्री जयती घोष ने ‘‘राजग की देश विरोधी नीतियां’’ विषयक एक व्याख्यान के दौरान छात्रों को संबोधित करते हुए आज कहा, ‘‘वह विश्वविद्यालय को बदनाम करने के लिए रचा गया षड्यंत्र था और इसकी योजना एक उच्च स्तर पर बनायी गई थी. कार्यक्रम के दौरान जो लोग मौजूद थे उनमें तीन नकाबपोश लोग थे जिन्होंने ‘देश विरोधी’ नारेबाजी की और ये परोक्ष रूप से गुप्तचर ब्यूरो से थे. हमारा यही संदेह है.’’

यह व्याख्यान उस जेएनयू में आयोजित होने वाले ‘‘राष्ट्रवादी अध्यापन’’ का हिस्सा है जो कि नौ फरवरी के कार्यक्रम को लेकर विवादों में है. कक्षाओं का आयोजन विश्वविद्यालय के प्रशासनिक ब्लाक में हो रहा है जो कि विवादास्पद कार्यक्रम को लेकर छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की राजद्रोह के मामले में गिरफ्तारी के बाद विरोध प्रदर्शन का स्थल रहा है.

घोष ने कहा, ‘‘हमारा यही संदेह है. हम उससे अधिक महत्वपूर्ण है जितना कि हम मानते हैं..हम वास्तव में निशाने पर हैं. इसी कारण से हमें स्वयं का बचाव करना होगा.’’ उन्होंने कहा कि सरकार विशेष तौर पर विश्वविद्यालयों को निशाना बना रही है क्योंकि उसे छात्रों से भय है जो सोच सकते हैं और विश्लेषण कर सकते हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Afzal Guru row ‘constructed conspiracy’ by state: JNU prof
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Afzal Guru row jayati ghosh
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017