आगरा में धर्म परिवर्तन का आरोपी वीएचपी नेता नंद किशोर वाल्मीकि गिरफ्तार

By: | Last Updated: Tuesday, 16 December 2014 6:43 AM

नई दिल्ली: आगरा में आठ दिसंबर को हुए धर्म परिवर्तन के विवाद में पुलिस ने मुख्य आरोपी नंद किशोर वाल्मीकि को गिरफ्तार कर लिया है. कबाड़ी का काम करने वाले जिन लोगों ने धर्म बदले जाने का आरोप लगाया है उन्होंने वाल्मिकी को ही मुख्य आरोपी बताया था. लोगों ने वाल्मीकि पर लालच और धोखा देने का आरोप लगाया था.

 

आपको बता दें कि पुलिस ने तथाकथित जबरन धर्मान्तरण के मामले के मुख्य अभियुक्त  वाल्मीकि की गिरफ्तारी पर पांच हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था.

 

गौरतलब है कि गत आठ दिसम्बर को आगरा की मलिन बस्ती में रहने वाले करीब 100 लोगों के कथित रूप से जबरन धर्मान्तरण के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था.

 

राज्यसभा में भी हंगामा-

जबरन धर्मांतरण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जवाब की मांग को लेकर कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष आज दूसरे दिन भी अड़ा रहा. इसे लेकर हुए हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक एक बार के स्थगन के बाद दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई. हालांकि इस मुद्दे पर सरकार ने विपक्ष पर चर्चा से भागने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह चर्चा के लिए तैयार है और विपक्ष ही इससे बच रहा है.

 

उच्च सदन में कांग्रेस, जेडीयू, सपा, तृणमूल और वाम दलों के सदस्य यह मुद्दा उठा रहे थे. जदयू नेता शरद यादव ने कहा कि देश में हाहाकार और बेचैनी है. उन्होंने कहा कि सरकार को देखना चाहिए कि सदन के बाहर जो कुछ हो रहा है वह संविधान के विरूद्ध है. उन्होंने कहा कि सरकार को देखना चाहिए कि संसद के बाहर ऐसे बयान न दिए जाएं जिससे संविधान का उल्लंघन हो.

 

इसी बीच, जबरन धर्मान्तरण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री के बयान की मांग के समर्थन में नारेबाजी करते हुए कांग्रेस, जदयू, सपा एवं तृणमूल के सदस्य आसन के समक्ष आ गए.

 

हंगामे के बीच संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने विपक्ष पर चर्चा से भागने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि जब सरकार चर्चा कराने के लिए तैयार है तो विपक्ष उससे क्यों बच रहा है. नकवी ने कहा कि विपक्ष द्वारा हर दिन संसद की कार्यवाही बाधित करना ठीक नहीं है. देश की जनता इसे देख रही है. उन्होंने विपक्ष से सदन चलने देने की अपील की. हंगामे के बीच नकवी ने विपक्ष पर यह भी आरोप लगाया कि उसके इस व्यवहार में ‘‘पराजय की हताशा’’ झलक रही है.

 

उप सभापति पी जे कुरियन ने नारेबाजी कर रहे विपक्षी सदस्यों से अपने स्थानों पर लौटने के लिए कहा. इसी बीच, सत्ता पक्ष के कुछ सदस्य खड़े हो कर सदन चलने देने की मांग करने लगे.

 

आज सदन की बैठक शुरू होते ही माकपा के सीताराम येचुरी ने कहा कि सरकार के मंत्रियों की ओर से कल कहा गया था कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन मनाने के लिए ‘सुशासन’ पर निबंध प्रतियोगिता के मकसद से क्रिसमस पर स्कूल खोलने के लिए कोई आदेश जारी नहीं किया गया है.

 

येचुरी ने कहा कि उनके पास स्कूलों के लिए जारी किया गया परिपत्र मौजूद है और वह उसे सदन के पटल पर रखना चाहते हैं.

 

दोपहर बारह बजे बैठक फिर शुरू होते ही विपक्षी सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया. हंगामे के बीच ही सपा के नरेश अग्रवाल ने कहा कि हमने जबरन धर्मांतरण मुद्दे पर चर्चा के लिए नोटिस दिया है. उन्होने कहा कि सदन के बाहर जिस तरह से विभिन्न ‘साधु बाबा’ और बीजेपी के कुछ सांसद बयान दे रहे हैं वह ठीक नहीं है. इस पर सत्तारूढ़ बीजेपी के कई सदस्यों ने विरोध जताना शुरू कर दिया. इसके जवाब में कांग्रेस, जदयू, सपा और तृणमूल के सदस्यों ने आसन के समक्ष आ कर नारेबाजी शुरू कर दी.

 

हंगामे के दौरान दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने विपक्ष पर आरोप लगाया कि विपक्ष जो कर रहा है वह राजनीतिक रूप से प्रेरित है. सरकार जब चर्चा कराने के लिए तैयार है तो विपक्ष चर्चा से क्यों बच रहा है.

 

उप सभापति ने नारेबाजी कर रहे सदस्यों से अपने स्थानों पर वापस लौट जाने की अपील करते हुए कहा, ‘यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. आपके असंयमित व्यवहार से मैं बहुत दुखी हूं.’ उन्होंने कहा कि संसद चर्चा करने की जगह है, नारेबाजी करने की नहीं. ‘आप जो कर रहे हैं वह अनुशासनहीनता की पराकाष्ठा है.’ कुरियन ने नारेबाजी कर रहे सदस्यों से उनके स्थानों पर लौटने के लिए बार बार कहा. लेकिन अपनी अपील का कोई असर होते न देख उन्होंने बैठक को दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दिया.

 

गौरतलब है कि कल भी कथित जबरन धर्मांतरण मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही बार बार स्थगित हुई थी और दोपहर करीब तीन बजे बैठक को पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया गया था.

 

वीएचपी ने घर वापसी कार्यक्रम को टाला

संसद में हंगामे के कारण ही विश्व हिंदू परिषद ने घर वापसी के नाम पर चल रहे धर्म परिवर्तन के आयोजन टाल दिए हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक संसद के चलने तक वीएचपी और संगठनों ने घर वापसी कार्यक्रम टाल दिया है. चिंता ये है कि विपक्ष धर्म परिवर्तन को लेकर हंगामा मचा रहा है.

 

यह भी पढ़ें-

क्या बांग्लादेशियों को हिंदू बनाया गया? ABP न्यूज के खुलासे पर लगी मुहर 

अलीगढ़ में नहीं होने देंगे धर्म परिवर्तन का कार्यक्रम: DIG मोहित अग्रवाल 

आगरा में धर्मान्तरण: मुख्य अभियुक्त पर इनाम घोषित 

बीजेपी सांसद आदित्यनाथ के संगठन ने देवरिया में किया धर्म परिवर्तन का बड़ा आयोजन, 18 दिसंबर को हजारों लोगों के धर्म बदलने की तैयारी

य़ूपी के राज्यपाल राम नाईक ने छेड़ा राम मंदिर राग, फैजाबाद में कहा-लोगों की इच्छा जल्द बने राम मंदिर  

धर्म परिवर्तन पर हंगामा: क्या कहता है संविधान? 

धर्म परिवर्तन: कांग्रेस ने RSS को जिम्मेदार कहा तो वेंकैया ने बताया महान संगठन 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Agra: UP police arrest accused of Agra mass religious conversion Nand Kishore Valmiki
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017