आगरा में छात्रा ने दिखाई दिलेरी, साथी छात्रा को बचाने के लिए टूट पड़ी बाइक सवारों पर

By: | Last Updated: Sunday, 9 August 2015 8:27 AM
Agra_

आगरा: आगरा में एक 11 वीं की छात्रा ने अपने स्कूल की ही दूसरी क्लास की छात्रा को अगवा होने से बचा लिया. छात्रा ने बहादुरी दिखाते हुए अगवा करने वाले बाइक सवार दो लोगों पर टूट पड़ी और अपनी जूनियर को बचा लिया.

 

आगरा की इस बहादुर बेटी ने वो कारनामा कर दिखाया जो शायद कोई लड़का भी नहीं कर सकता था. लड़की की जिंदादिली आसपास के इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है और लड़कियों को हिम्मत देने की जीती जागती मिसाल बन गयी है. लोग इसे छोटी मर्दानी के तौर पर देख रहे हैं साथ ही समाज में  मोहब्बत का पैगाम भी गया है दरअसल बचाने वाले लड़की मुसलमान है और जिसको बचाया वह हिन्दू है लिहाजा इस वाक्ये के बाद हिन्दू परिवार ने उस मुसलमान लड़की को अपने बड़ी बेटी का दर्जा दे दिया है.

 

आपको बता दें कि इस लड़की की उम्र महज 15 साल है और हौसले इतने बुलन्द कि अच्छे अच्छे मात खा जाएँ . मासूम सी दिखने वाली ये लड़की आगरा की बेटी है और किसी मर्दानी से कम नहीं है . आखिरकार ऐसा क्या किया है जिसकी वजह से इस  लड़की की इतनी तारीफ  हो रही है .

 

चलिए हम बताते हैं कि इस लड़की के बारे में इसके कारनामे के बारे में . इस लड़की का नाम नाजिया है और ये 11 वीं क्लास की छात्रा है . दो दिन पहले नाजिया के स्कूल की छुट्टी हुई और वह अपना किताबों का बैग लटका कर पैदल वापस घर जा रही थी .

 

तभी रास्ते में अचानक एक लड़की की चीख सुनाई दी तो नाजिया ने पीछे मुड़ कर देखा तो उसी के स्कूल की  दूसरी क्लास में पढ़ने वाली छः साल की  छात्रा डिम्पी  को दो बाइक सवार बदमाश जबरदस्ती उठा कर ले जाने की कोशिश कर रहे थे, दोनों बदमाशों का मकसद डिम्पी को अगवा कर ले जाने का था लेकिन तभी डिम्पी की आवाज सुनकर  नाजिया उन दोनों बदमाशों पर कहर बन कर टूट पड़ी.

 

काफी जद्दोजेहद के बाद किसी तरह से नाजिया ने डिम्पी को उन बदमाशों के चंगुल से बचाया . नाजिया की हिम्मत देख कर  बदमाशों के पैर उखड़ गए और मौका देख कर भाग गए . बाद में नाजिया डिम्पी को उसके  घर तक छोड़ कर अपने घर चली गयी . डिम्पी के घर वालों को इस वारदात के बारे में पता चला तो उनका दिल भर आया और नाजिया को अपनी बड़ी बेटी का दर्जा दे दिया .

 

डिम्पी के घर वाले नाजिया का अहसान मानते हैं कि नाजिया ने उनकी बेटी को बचा दिया नहीं तो कोई भी अनहोनी हो सकती थी . नाजिया के कदम ने समाज का नजरिया भी बदल है. इस्लाम धर्म को मानने वाली नाजिया को ये नहीं पता था डिम्पी किस धर्म को मानने वाली है, उसने मदद एक इंसान होने के नाते एक इंसान की मदद की.  लिहाजा नाजिया आज एक हिन्दू परिवार की बड़ी बेटी बन गयी है. किडनेप की इस कोशिश की खबर पुलिस को लगी तो पुलिस ने स्कूल के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Agra_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Agra Brave Student student
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017