अखिलेश यादव पर नरम हुए मुलायम, खटास दूर करने के लिए परिवार बना रहा है ये फॉर्मूला

अखिलेश यादव पर नरम हुए मुलायम, खटास दूर करने के लिए परिवार बना रहा है ये फॉर्मूला

कल तक जो नेता एक दूसरे को कोसते रहते थे, वहीं अब बधाई और आशीर्वाद पर बात आ गई है.

By: | Updated: 07 Oct 2017 09:02 PM

लखनऊ: सपा कार्यकर्ताओं के लिए मुलायम सिंह यादव के परिवार से कोई खुशखबरी आ सकती है. दरअसल मुलायम सिंह और अखिलेश यादव के बीच में फिर से बातचीत शुरू हो गई है. हाल ही में अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह के घर जाकर उनसे मुलाकात की थी. ऐसा लग रहा है कि मुलायम अपने बेटे अखिलेश को लेकर एक बार फिर ‘मुलायम’ हो गए हैं.


अखिलेश के अलावा शिवपाल सिंह यादव भी अपने बड़े भाई से मिले. घर परिवार में सब कुछ ठीक हो जाए इसके लिए फॉर्मूला भी बन गया है. इसके तहत चाचा शिवपाल को दो कदम पीछे हटना है और दो कदम अखिलेश यादव को. मुलायम तो पहले ही मान चुके है कि वो समाजवादी पार्टी के सरंक्षक के रोल में ही रहेंगे. अध्यक्ष बनने की जिद मुलायम सिंह यादव ने छोड़ दी है, बेटे की खुशी में ही उनकी खुशी है.


5 अक्टूबर को आगरा में हुए समाजवादी पार्टी के सम्मलेन में अखिलेश यादव अध्यक्ष चुने गए. इस सम्मलेन में किसी नेता ने ना तो शिवपाल सिंह यादव और ना मुलायम सिंह यादव के खिलाफ कुछ कहा, क्योंकि अखिलेश यादव ने यह आदेश दिया हुआ था.


मुलायम सिंह यादव ने आगरा जाकर अपने बेटे को आशीर्वाद देने का मन बनाया था लेकिन शिवपाल यादव की जिद ने उन्हें नहीं जाने दिया. वैसे शिवपाल यादव ने ट्वीट कर अखिलेश यादव को बधाई जरूर दी.


कल तक जो नेता एक दूसरे को कोसते रहते थे, वहीं अब बधाई और आशीर्वाद पर बात आ गई है. मुलायम सिंह अब भी अपने भाई रामगोपाल यादव से बहुत नाराज हैं. इसके साथ ही शिवपाल सिंह यादव को पार्टी में एक सम्मानजनक जिम्मेदारी दी जा सकती है. चर्चा है कि उन्हें राष्ट्रीय महासचिव बनाया जा सकता है. लेकिन शिवपाल और मुलायम के अपने लोगों को समाजवादी पार्टी में कैसे एडजेस्ट किया जाए इस पर अब तक बात नहीं बन पाई है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जीत के बाद भी हिमाचल प्रदेश में बीजेपी के लिए सियासी संकट, अपनी सीट नहीं बचा पाए CM उम्मीदवार