उपराष्ट्रपति चुनाव: गोपाल कृष्ण गांधी का सफर, जिसे आप जानना चाहेंगे

उपराष्ट्रपति चुनाव: गोपाल कृष्ण गांधी का सफर, जिसे आप जानना चाहेंगे

उपराष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस समेत 18 विपक्षी दलों ने पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गांधी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. 71 साल के गोपाल कृष्ण गांधी महात्मा गांधी के पोते हैं और गुजरात के रहने वाले हैं. गोपाल कृष्ण गांधी के पिता देवदास गांधी महात्मा गांधी के सबसे छोटे बेटे थे.

By: | Updated: 05 Aug 2017 07:55 AM
नई दिल्ली: आज संसद में उपराष्ट्रपति पद के लिए वोट डाले जाएंगे. उपराष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस समेत 18 विपक्षी दलों ने पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गांधी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. पूर्व आईएएस और राजनयिक गोपाल कृष्ण गांधी की अपनी शख्सियत बेहद शानदार है.

उपराष्ट्रपति चुनाव आज: NDA के वेंकैया नायडू और UPA के गोपालकृष्ण गांधी के बीच मुकाबला

गोपाल कृष्ण गांधी 2004 से 2009 तक पश्चिम बंगाल के गवर्नर रहे चुके हैं. अभी वो अशोक यूनिवर्सिटी में इतिहास और राजनीतिक शास्त्र पढ़ाते हैं. एक लेखक और विद्वान के तौर पर बौद्धिक जगत में उनका काफी सम्मान है.

उपराष्ट्रपति चुनाव: वेंकैया नायडू के बारे में वो सबकुछ जो आप जानना चाहते हैं

71 साल के गोपाल कृष्ण गांधी महात्मा गांधी के पोते हैं और गुजरात के रहने वाले हैं. गोपाल कृष्ण गांधी के पिता देवदास गांधी महात्मा गांधी के सबसे छोटे बेटे थे. मशहूर स्वतंत्रता सेनानी और भारत के अंतिम गवर्नर जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी गोपाल कृष्ण गांधी के नाना थे.

उपराष्ट्रपति चुनाव: यहां जानें आपके मन में उठ रहे हर सवाल का जवाब

पूर्व आईएएस अधिकारी गोपाल कृष्ण गांधी श्रीलंका और नार्वे सहित कई देशों के राजदूत भी रह चुके हैं. गोपाल कृष्ण गांधी ने दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से अंग्रेजी साहित्य में एम.ए की पढ़ाई की है.

सबसे दिलचस्प बात ये है कि उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार गोपाल कृष्ण गांधी 1985 से 1987 तक उपराष्ट्रपति के सचिव रह चुके हैं. इसके अलावा सन 1997 से 2000 तक वो राष्ट्रपति के सचिव भी रह चुके हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story काम की खबर: फिर पड़ी महंगाई की मार, आसमान पर पहुंचे टमाटर के दाम