EXCLUSIVE: पीएम का 15 लाख अकाउंट में आने का बयान सियासी जुमला था- अमित शाह

By: | Last Updated: Friday, 6 February 2015 5:56 AM

अमित शाह से एबीपी न्यूज़ की EXCLUSIVE बातचीतनई दिल्ली: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ABP न्यूज से एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि दिल्ली चुनाव के नतीजा नरेंद्र मोदी सरकार के बीते 8 महीने के कामकाज का जनमतसंग्रह नहीं है.

 

अमित शाह का ये बयान इसलिए अहम है क्योंकि अधिकतर टीवी चैनलों और समाचार पत्रों के सर्वे इस ओर इशारा कर रहे हैं कि दिल्ली की जंग में बीजेपी मुश्किल में है. एक्सपर्ट के मुताबिक शाह का बयान मोदी को बचाने की कोशिश है. एक्सपर्ट  का तर्क इसलिए भी अहम है क्योंकि बीजेपी के सीनियर नेता और केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कल ही कहा था कि दिल्ली चुनाव के नतीजे मोदी सरकार के कामकाज का जनमतसंग्रह नहीं है.

 

इसके साथ ही अमित शाह ने कहा कि कालेधन की वापसी के बाद हर परिवार के खाते में 15 लाख रुपये आने वाली मोदी बात दरअसल एक सियासी जुमला था और अगर पैसे आएंगे तो इससे देश का विकास होगा.

 

अमित शाह ने कहा कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव में अंतर होता है, दिल्ली के चुनाव को भी उसी नजरिए से देखा जाना चाहिए, मोदी का विजय रथ नहीं रुकेगा. पढ़ें, एबीपी न्यूज़ को दिया  बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का EXCLUSIVE इंटरव्यू.

 

सवाल- केजरीवाल पर गलत तरीके से चंदा देने के आरोप हैं लेकिन आप लोग फंडिंग के बारे में नहीं बतातीं?

जवाब- हम चंदे का हिसाब सही से देते हैं. हमें अपने चंदा देने वाले लोगों के नाम बताने से कोई परेशानी नहीं हैं. चुनाव आयोग ने हम पर कभी सवाल नहीं उठाया. हमारे बैंक अकाउंट में आधी रात को 2 करोड़ का चेक नहीं आता. 2 करोड़ रुपए  से ऊपर पैसा हो तो बताने का फर्ज बनता है. योगेंद्र यादव ने खुद प्रेस कांफ्रेंस में बात कही थई. 10 लाख से ज्यादा चंदे की बात क्यों भूले? आम आदमी पार्टी ने काला धन सफेद करने के लिए कंपनियों का उपयोग किया और इसे चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किया.

 

सवाल- चंदा देने वाली कंपनियों पर कार्रवाई कब होगी?

जवाब- कंपनियों की जांच होगी, अभी दो-तीन दिन हुए हैं. चुनाव बाद सरकार जरूर कार्रवाई होगी. चुनावी फायदे से कार्रवाई का कोई लेना-देना नहीं. निश्चित रुप से कार्रवाई होगी, जांच न करने का कोई कारण नहीं.

सवाल- केजरीवाल गिरफ्तारी की चुनौती दे रहे हैं इस पर क्या कहना है?

जवाब- केजरीवाल खुद को बचाने और लोगों की सहानुभूति पाने के लिए केजरीवाल ऐसा कह रहे हैं. उनकी आदत है गोल-मटोल करके निकलना. चंदे की बात साइट पर डाला क्योंकि उन्होंने ये घोषणा की थी. झूठ बोलना और अपने वादों से मुकरना उनकी आदत है.

 

सवाल- पार्टी को कितनी सीटें मिलेंगी?

जवाब- चुनाव के अंतिम 15 दिन में हम सशक्त हुए. आंतरिक सर्वे कहता है कि हम दिल्ली चुनाव जीतेंगे. किरन बेदी के आने से पार्टी को फायदा हुआ.

 

सवाल- दिल्ली में चुनाव नतीजों को लेकर पार्टी में कोई घबराहट है?

जवाब- कोई घबराहट नहीं है. हर राज्य में हमने इतना ही प्रचार किया, आपने शायद ठीक से कवर नहीं किया. दिल्ली राजधानी है इसलिए ज्यादा दिखता है. दो तिहाई से बीजेपी दिल्ली चुनाव जीतेगी. केजरीवाल को प्रचार करने की अच्छी आदत है.

 

सवाल- कांग्रेस को अलग रखने की रणनीति क्या है?

सवाल- कांग्रेस को अलग नहीं रखने की रणनीति नहीं है. हम कांग्रेस को मजबूत नहीं कर सकते. कांग्रेस को खुद ही मजबूत होना होगा, हम नहीं करेंगे.

 

सवाल- किरण बेदी को बीजेपी में क्यों लाना पड़ा?

सवाल- किरण बेदी जी को सोच-समझकर पार्टी में लाया गया है. किसी सीट पर हमारा कोई बागी उम्मीदवार नहीं है. पूरी पार्टी एकजुट है, कोई विवाद नहीं है. दिल्ली के सभी नेता किरन बेदी के लिए काम कर कर रहे हैं.

 

सवाल- किरण बेदी को सीधा सीएम उम्मीदवार क्यों बनाया?

जवाब- पार्टी में आने वाले नेताओं के चुनाव लड़ने पर निर्भर है कि उसे क्या जिम्मेदारी दी जाएगी.

 

सवाल- 7 महीने का चुनाव 8 महीने का जनमत संग्रह है?

जवाब-  नहीं , मैं ऐसा नहीं मानता, परिणाम बहुत पहलुओं पर निर्भर करता है. यह चुनाव कोई जनमत संग्रह नहीं है. झारखंड, हरियाणा, महाराष्ट्र का चुनाव हम जीते हैं, लेकिन उससे लोकसभा चुनाव से तुलना नहीं की जा सकती. प्रदेश और देश के मुद्दे अलग हैं. सरकार का असर हो सकता है.

 

सवाल- AAP पर हमले से केजरीवाल का कद बढ़ता है?

जवाब- हमारा काम है केजरीवाल ने जो वादे किए थे, उनको पूरा न करना उसे सामने रखना. सरकार ने जो काम किया है, अच्छी चीजे हैं उन्हें जनता के सामने रखना. हमने 8 महीने में जो किया वो भी बताया है. केजरीवाल में मीडिया का ध्यान खींचने की क्षमता ज्यादा है.

 

सवाल- लव जेहाद, घर वापसी, बच्चे पैदा करने वाले बीजेपी नेताओं के बयान कितने सही? क्या ये बयान चुनावी फायदे के लिए हैं?

जवाब- ये बयान बोलने वाले नेताओं के अपने बयान है, पार्टी के नहीं. सभी को चेतावनी दी गई है और इसका असर हो रहा है. चुनावी फायदे के लिए ऐसे बयान ठीक नहीं है. बयान चुनाव से पहले दिए गए.

 

सवाल- प्रियंका गांधी ने भी तो नीच राजनीति कहा था? लेकिन आपने पीएम की नीची राजनीति से जोड़ लिया था?

जवाब-  नहीं, प्रियंका गांधी और गोत्र वाले बयान में कोई समानता नहीं है. उन्होंने पीएम की नीची जाति के ही संदर्भ में कहा था.

 

सवाल- विज्ञापन में केजरीवाल को उपद्रवी गोत्र का बताने को लेकर क्या कहना है?

जवाब- हमने विज्ञापन में केजरीवाल के गोत्र की बात नहीं कही है. आप के वैचारिक गोत्र की बात कही है. अग्रवाल समाज सब समझता है, केजरीवाल का नहीं मानेगा. उनके गोत्र को लेकर कुछ नहीं कहा गया. ‘आप’ का मतलब सिर्फ केजरीवाल नही.

 

सवाल- केजरीवाल हमले को भुनाते हैं? हर बात को अपनी तरफ मोड़ रहे हैं?

जवाब– जनता मूर्ख नहीं होती, उसे सब मालूम होता है. शपथ के दिन मेट्रो में जाना और बाकी दिन एसयूवी में घूमना, सब समझती है जनता. यह कथनी और करनी का फर्क है, जो सबको मालू म होता है.

 

सवाल- पीएम की रामलीला मैदान में हुई पहली रैली में भीड़ नहीं आई थी?

जवाब- यह सब झूठा प्रचार है, पीएम की रैली में खूब भीड़ थी. रामलीला मैदान का कोई कोना खाली नहीं था.

 

सवाल- पीएम के सूट की कीमत 10 लाख रुपए है?

जवाब- सूट की कीमत 10 लाख रुपए नहीं है. राहुल गांधी के बोलने से क्या होता है? ये बातें मीडिया में कहां से आई हैं मुझे नहीं पता. सूट के बारे में मैं नहीं जानता. व्यक्तिगत आरोप से बचें, सूट पर हवा में बातें हो रही हैं. केजरीवाल का मफलर पता नहीं कहां से आया मैं छूंछने नहीं गया था.

 

सवाल- काले धन को वापस लाकर हर किसी के अकाउंट में 15 लाख रुपए आने का क्या हुआ?

जवाब- ये जुमला है, काला धन कभी खाते में नहीं दिया जा सकता. पीएम के बयान का मतलब गरीबों के बयान से था. 15 लाख अकाउंट में डालने वाली बात कहावत है. चुनावी भाषण में वजन डालने के लिए कही गई बात है. यह सब समझ रहे हैं विरोधी नहीं समझ रहे हैं.

 

खाते में 15 लाख की बात कहावत- अमित शाह

 

सवाल- दिल्ली का चुनाव सबसे बड़ी चुनौती है?

जवाब- हर चुनाव चुनौती से भरा होता है. दिल्ली विशेष चुनाव चुनौती वाला चुनाव नहीं है. लेकिन हमें विश्वास है कि हम दिल्ली चुनाव जीतेंगे. मोदी जी के नेतृत्व में दिल्ली चुनाव जीतेंगे.

 

सवाल- जयंती और मांझी के बीजेपी में आने को लेकर क्या कहेंगे?

जवाब- मैं जयंती नटराजन से जिंदगी में कभी नहीं मिला, उनके पार्टी में आने को कोई चर्चा नहीं.  मांझी का फैसला जेडीयू करेगी. मांझी पर ऐसा नहीं कहा कि मांझी को अपनी पार्टी में नहीं लेंगे. मांझी के बीजेपी में आने पर फैसला राजनीतिक परिस्थिति को देखकर होगा.

 

सवाल-दिल्ली का असर बिहार में भी पड़ेगा.

जवाब- निश्चित रुप से बिहार, बंगाल के चुनाव पर दिल्ली के नतीजों का असर होगा. एक चुनाव का असर दूसरे पर होता ही है.

 

सवाल-दिल्ली में कमी रही तो जिम्मेदार कौन होगा?

जवाब- ऐसे सवाल का मतलब नहीं. चुनाव आते-जाते रहते हैं. मोदी सबसे ज्यादा लोकप्रिय, मोदी जी का विजय रथ नहीं रुकेगा.

 

संबंधित खबरें-

दिल्ली चुनाव मोदी सरकार के कामकाज पर जनमत संग्रह नहीं: वेंकैया नायडू  

दिल्ली चुनाव: बाहर से आए बीजेपी और आम आदमी पार्टी के हजारों प्रचारक 

बीजेपी के सांसद, केंद्रीय मंत्री दिल्ली की सभी 70 सीटों पर रैली करेंगे 

आज चुनाव प्रचार के आखिरी दिन पार्टियां झोकेंगी अपनी ताकत 

केजरीवाल का नाम दिल्ली की मतदाता सूची में दर्ज होना सही है: चुनाव आयोग 

आम आदमी पार्टी ने बीजेपी पर EVM से छेड़छाड़ का लगाया आरोप, आज चुनाव आयुक्त से मिलेंगे केजरीवाल  

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: amit_shah_interview
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र
यूपी के 7000 से ज्यादा किसानों को मिला कर्जमाफी का प्रमाणपत्र

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में गुरुवार को 7574 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र दिया गया. इसके बाद 5...

सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की मंजूरी
सेना की ताकत बढ़ाएंगे छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर, सरकार ने दी खरीदने की...

नई दिल्ली: रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को एक बड़ा फैसला लिया. मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए...

क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?
क्या है अमेरिकी राजदूत के हिंदू धर्म परिवर्तन कराने का वायरल सच?

नई दिल्लीः सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से एक विदेशी महिला की चर्चा चल रही है.  वायरल वीडियों...

भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश
भागलपुर घोटाला: सीएम नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश

पटना/भागलपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भागलपुर जिला में सरकारी खाते से पैसे की अवैध...

हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम: पाकिस्तान
हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन करार देना अमेरिका का नाजायज कदम:...

इस्लामाबाद: आतंकी सैयद सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल आतंकी घोषित करने के बाद अमेरिका ने कश्मीर में...

डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट फाड़े
डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट...

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी जगजाहिर है. इस बीच उत्तराखंड के बाराहोती...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017