जमीन की जंग : जमीन अधिग्रहण बिल पर एनडीए में फूट!

By: | Last Updated: Tuesday, 24 February 2015 2:40 PM
anna oppose land acquisition bill

नई दिल्ली: जमीन अधिग्रहण कानून को लेकर संसद से सड़क तक बवाल मचा हुआ है. जमीन अधिग्रहण बिल पर अब एनडीए में फूट हो गया है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम किसानों के हितों से समझौता नहीं करेंगे. किसानों से फिर बात करें सरकार.

 

आज लोकसभा में सरकार ने जमीन अधिग्रहण बिल पेश कर दिया. सरकार बिल में बदलाव के मूड में नहीं है लेकिन विपक्ष का आरोप है कि सरकार चंद उद्योगपतियों और धन्नासेठों के लिए काम कर रही है. जमीन अधिग्रहण कानून के खिलाफ धरना दे रहे अन्ना के मंच पर आज केजरीवाल भी आए. केजरीवाल ने भी आरोप लगाया कि ये कानून सिर्फ एक धोखा है और सरकार उद्योगपतियों की प्रॉपर्टी डीलर बन गई है.

 

संसद में हंगामा, सड़क पर धरना प्रदर्शन

 

भूमि अधिग्रहण बिल को लेकर ऐसा बवाल मचा है कि सड़क से लेकर संसद तक सरकार विरोधियों के निशाने पर है . हंगामे के बीच ही लोकसभा में ग्रामीण विकास मंत्री बीरेंद्र सिंह ने बिल पेश कर दिया.

 

जिस वक्त वीरेंद्र सिंह बिल पेश कर रहे थे . उस वक्त कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों के सांसदों ने वॉकआउट कर दिया . विपक्ष के हंगामे पर हमला करते हुए शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कह दिया कि अल्पमत सदन में बहुमत की ताकत को कुचल नहीं सकता .

लोकसभा में तो हंगामा हुआ ही राज्यसभा में भी सुबह सुबह प्रश्नकाल स्थगित करके गर्मा गरम बहस कराई गई . वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पुरानी सरकारों का हवाला देकर अध्यादेश के पक्ष में तर्क पेश किये तो कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने मोदी सरकार के अध्यादेशों पर सवाल उठाए .

जेडीयू के शरद यादव ने अध्यादेश को देश को कुचलने वाला करार दिया तो बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने इसे उद्योगपितयों के लिए लाया गया बिल करार दिया .

 

संसद में विपक्ष ने मोर्चा संभाला तो सड़क पर अन्ना हजारे ने . अन्ना के धरना प्रदर्शन में शामिल अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ये सरकार उद्योगपतियों की दलाल बन गई है.

 

अन्ना ने केजरीवाल को मंच पर आने की इजाजत पहले ही दे दी थी . लेकिन अन्ना का वो फॉर्मूला फेल हो गया जिसमें उन्होंने आंदोलन में किसी पक्ष पार्टी के साथ नहीं जाने के बात कही थी .

 

अन्ना की मांग है कि पिछले साल मोदी सरकार जो अध्यादेश लेकर आई थी उसे रद्द किया जाए . किसानों और अन्ना के आंदोलन के बीच सरकार ने साफ किया है कि वो किसान संगठनों से इस मुद्दे पर चर्चा को तैयार है . बीजेपी ने भी अपनी ओर से 8 नेताओं की एक कमेटी बनाई है जो किसानों और उससे जुडे संगठनों की शिकायत सुनेगी .

 

यह भी पढ़ें

मोदी सरकार उद्योगपतियों के लिए प्रॉपर्टी डीलर का काम कर रही है: केजरीवाल

जमीन अधिग्रहण बिल: पीएम ने सांसदों की बैठक में कहा- पीछे हटने की जरूरत नहीं, अच्छे सुझाव आए तो बदलाव पर कर सकते हैं विचार

जानें: यूपीए सरकार के भूमि अधिग्रहण कानून और मोदी सरकार के अध्यादेश में मुख्य अंतर

भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ प्रदर्शन में आज अन्ना के साथ होंगे केजरीवाल

जमीन पर ‘जंग’ 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: anna oppose land acquisition bill
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017