HSBC खुलासे पर अरुण जेटली: 350 अकाउंट्स की पूरी हुई जांच, शामिल किए जाएंगे नए नाम

By: | Last Updated: Monday, 9 February 2015 6:15 AM
arun_jaitely_on_hsbc

नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरण जेटली ने आज कहा कि स्विस बैंक में खाता रखने वाले भारतीयों से जुड़े नए नाम सामने आए हैं और उनकी प्रामाणिकता की जांच की जाएगी जबकि 60 मुकदमे पहले ही शुरू किए जा चुके हैं.

जेटली ने यह बात पत्रकारों की एक अंतरराष्ट्रीय संस्था द्वारा एचएसबीसी की एक सूची के खुलासे के मद्देनजर कही जिसमें बड़े उद्योगपतियों और राजनीतिक नेताओं समेत कुछ अन्य भारतीयों के नाम हैं.

 

जेटली ने कहा कि कर विभाग ने एचएसबीसी बैंक की स्विस शाखा में खाता रखने वाले भारतीयों की पहले प्राप्त सूची में से 60 के खिलाफ मुकदमा शुरू कर दिया है और आज जिन नामों का खुलासा हुआ है उनमें से ज्यादातर के बारे में सरकार को पता है.

 

जेटली ने यहां संवाददाताओं से कहा ‘‘कुछ नए नामों का खुलासा हुआ है जिनकी प्रामाणिकता की जांच प्रशासन द्वारा की जाएगी.’’ उन्होंने साथ ही कहा कि सरकार ने काले धन का पता लगाने के लिए पिछले छह-सात महीने में जोरदार प्रयास किए हैं.

 

वह एक अखबार इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित एक खबर पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमें कहा गया था कि एचएसबीसी की सूची में 1,195 भारतीयों के नाम हैं जिनके पास खाते में कुल 25,420 करोड़ रपए जमा हैं. इनमें से कई खाते वैध हो सकते हैं.

 

जेटली ने कहा कि उन्होंने दावोस में पिछले महीने स्विट्जरलैंड के वित्त मंत्री समेत कई शीर्ष स्विस अधिकारियों से मुलाकात की थी और इस पर सहमति बनी थी कि कर-निर्धारितियों के कबूलनामे को जानकारी जुटाने की दिशा में अतिरिक्त साक्ष्य माना जाएगा.

 

आज जो भारतीय नाम जारी किए गए हैं वे स्विट्जरलैंड में एचएसबीसी बैंक की प्राइवेट बैंकिंग इकाई में खाता रखने वालों की एक सूची में शामिमल हैं. इस सूची में दुनियाभर के लोगों के नाम और 2006-07 में उनके खातों में जमा राशि बतायी गयी है. इस सूची में 200 से अधिक देशों के लोग शामिल हैं जिनके खातों में उस समय 100 अरब डालर (आज के हिसाब से 6,000 अरब रूपए) जमा थे.

 

आज 1,195 भारतीयों के नाम सामने आए हैं. यह एचएसबीसी के खाताधारक भारतीय नामों की पहली सूची की संख्या का दोगुना हैं. पहली सूची फ्रांस की सरकार ने 2011 में भारत को दी थी.

 

जेटली ने कहा कि गैरकानूनी तौर पर विदेशों में खाता रखने वाले 60 व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा शुरू किया है और 350 अन्य से जुर्माने वसूलने की कार्रवाई शुरू की जा चुकी है.

 

उन्होंने कहा कि राजस्व विभाग मुखबिरों के संपर्क में है ताकि ऐसे और लोगों की जानकारी हासिल की जा सके.

 

उन्होंने कहा ‘‘मैं यहां स्पष्ट करना चाहता हूं कि पहले दौर में ये नाम एचएसबीसी बैंक से जुड़े नाम थे. ये सभी नाम (सभी) स्विस बैंकों से जुड़े नहीं थे बल्कि केचल एक बैंक एचएसबीसी से जुड़े थे. इस मामले में भारत सरकार और राजस्व विभाग ने उस वक्त (4-5 साल पहले) कुछ खतो किताबत की थी. इनमें 628 खातों से जुड़े ब्योरे थे.’’ उन्होंने कहा कि इस सूची में कुछ प्रविष्टियों में सिर्फ नाम थे और कुछ खातों की पहचान हो सकती थी जबकि कुछ की पहचान नहीं हो सकती थी.

 

वित्त मंत्री ने कहा ‘‘पिछले 7-8 महीने से इस मामले में जोरदार प्रयास किए गए हैं. इन प्रयासों के तीन पहलू हैं .. हमने बहुत से नामों की पहचान कर ली है. कुछ मामलों में, जैसा कि आम तौर पर होता, पते और ब्योरों का पता लगाना कठिन होता है. इसलिए उनमें काम किया जा रहा है.’’ जेटली ने कहा कि एचएसबीसी की पूर्व सूची में जाहिर 628 खाताधारकों में से करीब 350 मामलों में कर निर्धारण (असेसमेंट) पूरा हो गया है और जुर्माना लगाने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है.

 

उन्होंने कहा ‘‘शेष कर निर्धारण 31 मार्च, 2015 तक पूरा कर लिया जाएगा.’’ साथ ही उन्होंने कहा कि कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

 

जेटली ने कहा कि अब तक 60 मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं और ऐसे मामलों में नाम सार्वजनिक किए गए हैं जिनमें मुकदमा शुरू किया जा चुका है.

 

उन्होंने कहा कि सभी खाताधारकों के नाम गैरकानूनी नहीं हो सकते क्योंकि कुछ ने कर विभाग को अपने विदेश के कारोबारी सौदों के बारे में जानकारी दी है जबकि इस सूची में शामिल कुछ नाम प्रवासी भारतीयों के हैं.

 

जेटली ने कहा कि सरकार ने पिछले साल अक्तूबर में स्विट्जरलैंड की सरकार से बातचीत करने के लिए एक शिष्टमंडल भेजा था क्योंकि संदिग्ध मामलों से जुड़े साक्ष्य स्विट्जरलैंड में हैं.

 

उन्होंने कहा ”स्विट्जरलैंड कहता रहा है कि इन खाताधारकों के नाम चुराए गए आंकड़ों पर आधारित हैं और अपने देश की नीति के तहत वहां की सरकार चोरी के आंकड़ों के आधार पर जांच में सहयोग नहीं कर सकती. 15 अक्तूबर को एक संयुक्त समझौते पर हस्ताक्षर किया गया.”

 

एचएसबीसी बैंक के स्विट्जरलैंड में कारोबार करने वाली इकाई स्विस प्राइवेट बैंक में गोपनीय खाता रखने वालों और 2009-2007 तक इसमें जमा रकम से जुड़ी जानकारियां उजागर हो गई हैं. सूची में 200 देशों के नागरिकों के नाम हैं और इनके खातों में सौ अरब से ज्यादा की रकम जमा है.

 

जेटली ने कहा ‘‘पिछले महीने जब मैं दावोस (स्विट्जरलैंड) गया था तो उनकी वित्त मंत्री और वहां के राजस्व अधिकारियों से मुलाकात हुई थी और उनके सामने हमने यह मुद्दा फिर उठाया था क्योंकि हमारी आकलन प्रक्रिया में कुछ ऐसे मामले हैं जिनमें कुछ लोगें ने खाते रखने की बात कबूल की है. ’’

 

उन्होंने कहा ‘‘सवाल यह उठा कि क्या किसी कर-निर्धारिति के कबूलनामे को अतिरिक्त साक्ष्य के तौर पर स्वीकार किया जा सकता है. जिस संबंध में उन्होंने (स्विस सरकार) कहा कि वह इसे साक्ष्य के तौर पर स्वीकार करंेगे. अब इन सब मामलों में खाताधारकों को दंड देने का एक तरीका यह है कि जुर्माना और मुकदमा चलाया जाए और उक्त राशि वापस ली जाए . यह प्रक्रिया अभी चल रही है.’’

 

खुलासा: HSBC बैंक में कौन हैं बड़े भारतीय खाताधारक?

 

एक्सप्रेस के खुलासे में जिन नामों का खुलासा हुआ है उसमें मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी, कांग्रेस की पूर्व सांसद अनु टंडन, पूर्व विदेश राज्य मंत्री परणीत कौर, स्मिता ठाकरे, अभिनेत्री ऋतु महिमा चौधरी, नारायण राणे, नीलम राणे और नीलेश राणे के नाम शामिल हैं.

 

संबंधित खबरें-

HSBC में अकाउंट रखने वाले कई बिजनेसमैन और नेताओं के नाम का खुलासा 

काला धन मामले में सरकार बता सकती है 60 नाम

काले धन पर सरकार की कमियां गिनाते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को भेजी चिट्ठी 

मोदी सरकार ने कहा, 628 खातों में से 289 स्विस खातों में जीरो बैलेंस 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: arun_jaitely_on_hsbc
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण राणे
बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण...

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूकंप आने की तैयारी में है. महाराष्ट्र में कांग्रेस...

JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी
JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी

पटना: बिहार की राजनीति में आज का दिन बेहद अहम माना जा रहा है. पटना में नीतीश की पार्टी की जेडीयू...

यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा रजिस्ट्रेशन
यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अहम फैसले के तहत शुक्रवार से प्रदेश के सभी...

बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153  तो असम में 140 से ज्यादा की मौत
बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153 तो असम में 140 से ज्यादा की मौत

पटना/गुवाहाटी: बाढ़ ने देश के कई राज्यों में अपना कहर बरपा रखा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा बर्बादी...

CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'
CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज स्वच्छ यूपी-स्वस्थ...

नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड क्रॉस
नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड...

जिनेवा: आईएफआरसी यानी   ‘इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रॉस एंड रेड क्रीसेंट सोसाइटीज’ ने...

‘डोकलाम’ पर जापान ने किया था भारत का समर्थन, चीन ने लगाई फटकार
‘डोकलाम’ पर जापान ने किया था भारत का समर्थन, चीन ने लगाई फटकार

बीजिंग:  चीन ने शुक्रवार को जापान को फटकार लगाते हुए कहा कि वह चीन, भारत सीमा विवाद पर ‘बिना...

यूपी: मथुरा में कर्जमाफी के लिए घूस लेता लेखपाल कैमरे में कैद, सस्पेंड
यूपी: मथुरा में कर्जमाफी के लिए घूस लेता लेखपाल कैमरे में कैद, सस्पेंड

मथुरा: योगी सरकार ने साढ़े 7 हजार किसानों को बड़ी राहत देते हुए उनका कर्जमाफ किया है. सीएम योगी...

बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब पता था’
बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब...

पटना:  बिहार में सबसे बड़ा घोटाला करने वाले सृजन एनजीओ में मोटा पैसा गैरकानूनी तरीके से सरकारी...

यूपी: वाराणसी में लगे PM मोदी के लापता होने के पोस्टर, देर रात पुलिस ने हटवाए
यूपी: वाराणसी में लगे PM मोदी के लापता होने के पोस्टर, देर रात पुलिस ने हटवाए

वाराणसी: उत्तर प्रदेश में वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. यहां पर कुछ...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017