केजरीवाल को बीजेपी सांसद ने दी गाली

By: | Last Updated: Friday, 25 December 2015 5:00 PM
Arvind Kejriwal

नई दिल्ली: दिल्ली के सांसद रमेश बिधूड़ी ने अरविंद केजरीवाल के लिए अपशब्द का इस्तेमाल किया है. विधूड़ी से दिल्ली के शकूरबस्ती में रेलवे की अतिक्रमण हटाओ कार्रवाई के बाद तीन गुना झुग्गियां बढ़ने पर सवाल पूछा गया था. इस पर विधूड़ी ने लोगों के बारे में कहा कि लोगों को हराम के खाने की आदत पड़ गई है. इसी दौरान उन्होंने केजरीवाल का नाम लेकर हरामी शब्द का इस्तेमाल किया.

 

दिल्ली के शकूरबस्ती में रेलवे की अतिक्रमण हटाओ कार्रवाई के बाद राजनीति खत्म नहीं हुई थी बिधूड़ी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को गाली दे डाली. अब केजरीवाल कह रहे हैं कि वित्त मंत्री जेटली को ऐसी भाषा पर भी ब्लॉग लिखना चाहिए.

 

दरअसल कल ही जेटली ने ब्लॉग के जरिये केजरीवाल पर राजनीति का स्तर गिराने का आरोप लगाया था. जेटली ने हिदायत दी थी कि अहम पद पर बैठे लोगों को भाषा का संयम दिखाना चाहिए. जेटली ने डीडीसीए विवाद में केजरीवाल के पीएम पर हमलों को लेकर ये नसीहत दी थी लेकिन दक्षिण दिल्ली से बीजेपी सांसद बिधूड़ी ने गाली ही दे डाली.

 

बिधूड़ी की बदजुबानी एबीपी न्यूज की पड़ताल के बाद आई है जिसमें चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि शकूरबस्ती में झुग्गियों की संख्या अब करीब तिगुनी हो गई है.

 

अतिक्रमण के दौरान रेलवे की जमीन पर बनी करीब पांच सौ झुग्गियों को हटाया गया था. दिल्ली अर्बन शेल्टर इम्प्रूवमेंट बोर्ड और रेलवे के ताजा साझा सर्वे में अब इन झुग्गियों की संख्या बढ़ कर 1363 हो गई है. यहां की आबादी भी पहले से बढ़ गई है. अब केजरीवाल ने एबीपी न्यूज की पड़ताल पर कहा है कि नए लोगों को झुग्गी में जगह नहीं दी जाएगी.

 

12 दिसंबर को शकूरबस्ती में रेलवे की जीन पर बनी करीब पांच सौ झुग्गियों को हटाया गया था. इसी अफरा-तफरी के दौरान नन्ही रूकैया की मौत हो गई थी जिसके बाद शकूरबस्ती पर काफी राजनीति हुई थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Arvind Kejriwal
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: arun arvind kejriwal
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017